• search
राजस्थान न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

कोरोना वायरस से बचने के लिए आदिवासियों ने बनाए इको फ्रेंडली मास्क, देखें वीडियो

|

प्रतापगढ़। कोरोना वायरस से बचने के लिए लोगों में एन-95 और तरह-तरह के एंटी-पोल्यूशन मास्क खरीदने की होड़ मची हुई है। लोग मेडिकल स्टोर्स पर मास्क के लिए मुंह मांगा दाम देने को तैयार हैं।

 तेंदु पत्तों से बनाया मास्क

तेंदु पत्तों से बनाया मास्क

वहीं, राजस्थान के प्रतापगढ़ जिले के पीपलखूंट में आदिवासी समुदाय के लोग खुद ही पेड़ से तोड़े गए पत्तों से मास्क बना कर पहन रहे हैं। यहां आदिवासी मीणा समाज के कई परिवार तेंदु पेड़ के बड़े-बड़े पत्तों से मास्क बना रहे हैं। इन मास्क को बड़े-बूढ़े और बच्चे सभी पहन कर खुद को महफूज़ रखने का प्रयास कर रहे हैं। तेंदु पत्तों से बने ये मास्क चेहरे को अच्छे से ढक लेते हैं। इन गरीब आदिवासी लोगों के पास इतने पैसे नहीं हैं कि ये महंगे मास्क खरीद सकें।

ठेके खुलते ही दारू पीकर टंकी पर चढ़ गया राजस्थान का यह रेजिडेंट डॉक्टर, यूं करने लगा नौटंकी

 आदिवासी होते हैं प्रकृति प्रेमी

आदिवासी होते हैं प्रकृति प्रेमी

इन आदिवासियों ने भी परम्परागत तरीकों का इस्तेमाल करते हुए पेड़ के पत्तों से ही मास्क बना कर पहनना शुरू कर दिया है। आदिवासियों को प्रकृति प्रेमी माना जाता है। आज भी कई लोगों का जीवन और रोज़ी-रोटी इन वनों पर आधारित है। इन्हीं वनों के पत्ते आज इन्हें कोरोना से भी बचा रहे हैं।

राजस्थान की सीमाएं सील

राजस्थान की सीमाएं सील

बता दें कि देशभर में कोरोना वायरस का संक्रमण तेजी से फैल रहा है। राजस्थान में कोरोना पॉ​जिटिव मरीजों का आंकड़ा तीन हजार 355 तक पहुंच गया है। 95 लोगों की मौत हो चुकी है। इस बीच बुधवार रात मुख्यमंत्री निवास पर कोरोना संक्रमण को लेकर समीक्षा बैठक हुई, जिसमें राजस्थान की सीमाओं को सील करने का फैसला लिया गया है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Pratapgarh's Tribals made eco friendly masks to avoid coronavirus
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X