'बड़े मोदी' ने 'छोटे मोदी' को देखा तक नहीं "हैप्पी बर्थडे " कहना तो दूर

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

पटना। राजनीति के मैदान में आरोप प्रत्यारोप का दौर तो हमेशा से ही चलता रहा है। हर एक नेता दूसरे नेता की टांग खींचने में लगे रहते हैं। पर हकीकत कुछ और ही सामने आती है। इसी आरोप प्रत्यारोप के दौर में आज हम आपको बताते हैं प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (बड़े मोदी ) और भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी (छोटे मोदी ) के बीच चल रहे हैप्पी बर्थडे विश के बारे में। जदयू के वरिष्ठ नेता संजय सिंह ने भाजपा के वरिष्ठ नेता सुशील मोदी को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी द्वारा नजर अंदाज करने की बातों को लेकर जमकर भड़ास निकालते हुए कहा कि जिस दिन देश के प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी गुरु गोविंद सिंह जयंती में शामिल होने के लिए बिहार आए थे उस दिन सुशील मोदी का जन्मदिन था। 

'बड़े मोदी' ने 'छोटे मोदी' को देखा तक नहीं "हैप्पी बर्थडे " कहना तो दूर

सुशील मोदी अपने घर से नहा धोकर गांधी मैदान पहुंचे थे कि आज उन्हें प्रधानमंत्री जन्मदिन की बधाई देंगे। लेकिन प्रधानमंत्री ने सुशील मोदी की तरफ देखा भी नहीं, जन्मदिन की बधाई देते हुए हैप्पी बर्थडे कहना तो दूर की बात है। बिहार दौरे पर आए प्रधानमंत्री ने एक बार भी सुशील मोदी से मिलने की इच्छा नहीं जताई। जन्मदिन की बधाई तो दूर उन्होने सीधे मुंह बात तक नही की। सुशील मोदी को उसके बाद भी यह उम्मीद था कि प्रधानमंत्री भाषण के बाद उन्हें लगंर के लिए बुलाएंगें , लेकिन प्रधानमंत्री ने उन्हे वहां भी नही बुलाया। यही नहीं नरेंद्र मोदी ने सुशील मोदी को वीआईपी लाउंज तक आने भी नही दिया ।  बिहार: मोदी के रैली में बम ब्लास्ट करने वाला है जेल में बंद, उसे बाहर खोज रही पुलिस

वहीं सुशील मोदी द्वारा लालू प्रसाद के नीचे बैठने को लेकर नीतीश कुमार पर किए जा रहे हमले का जवाब देते हुए जदयू के वरिष्ठ नेता व पार्षद संजय सिंह ने कहा कि नरेंद्र मोदी को यह पता है कि सुशील मोदी की राजनीति किस तरफ जा रही है। सुशील मोदी अपनी राजनीति में नकारात्मकता को सबसे ज्यादा तरजीह देते है इसलिए उनसे सभी दूरी बना रहे हैं। अब सुशील मोदी दूसरे नेताओं की तरफ देख रहे हैं कि किन को मंच पर बुलाया गया और किसे नहीं। लेकिन उन्होंने अपनी तरफ नहीं देखा कि भारतीय जनता पार्टी के वरिष्ठ नेता होते हुए भी उन्हे कोई तरजीह नही मिली। साथ ही उन्होने लालू यादव को मंच पर नहीं बुलाए जाने का बचाव करते हुए कहा कि लालू यादव महागठबंधन के नेता हैं। और उन्होने प्रकाशपर्व में जाकर और लोगो के बीच में बैठकर अपने मेहमानों का मान बढाया है। जहां लोगो ने उनको हाथों-हाथ लिया और उनके साथ फोटों खिचाने के लिए लोगो में होड मची थी। ये बिहार के लोग नही थे सभी पंजाब, हरियाणा और दूसरे देश से लोग आए थे जो लालू के चाहने वाले थे। सुशील मोदी भी उसी रास्ते से गुजरे थे लेकिन किसी ने उनकी तरफ देखा भी नहीं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
PM Narendra Modi did not wish Happy Birthday to Sushil Modi
Please Wait while comments are loading...