• search
जयपुर न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

जयपुर में फंसे बिहार के मजदूरों की दास्तां, आरोप-'हमारी कोई नहीं ले रहा सुध', खाने के लिए भी छीना-झपटी

|

जयपुर। कोरोना वायरस का कहर थमने का नहीं ले रहा है। राजस्थान में 20 मई तक कोरोना के 5906 पॉजिटिव केस सामने आ चुके हैं। लॉकडाउन-4.0 के चलते बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूर फंसे हुए हैं। अकेले जयपुर में करीब 8 हजार प्रवासी मजदूरों ने एक स्कूल में डेरा डाल रखा है। इनमें दो हजार मजदूर यूपी और छह हजार मजदूर बिहार के हैं। इनमें वो मजदूर भी शामिल हैं, जो महाराष्ट्र और गुजरात में काम करते थे। लॉकडाउन के चलते वहां से पैदल ही अपने घरों की ओर पलायन कर रहे थे। फिलहाल इन्हें स्कूल में टेंट लगाकर रोका गया है। सरकार की ओर से इनके लिए भोजन-पानी की व्यवस्था की जा रही है।

migrant labours of Bihar stuck in Jaipur in Lockdown

यूपी के मजदूरों के लिए 30 बसों की व्यवस्था

बिहार के मजदूरों का आरोप है कि यूपी के मजदूरों को उनके घर पहुंचाने के लिए बसों की व्यवस्था की जा रही है, मगर बिहार के मजदूरों की कोई सुध नहीं ले रहा है। राजस्थान की अशोक गहलोत सरकार ने यूपी के मजदूरों की घर वापसी के लिए 30 बसों का इंतजाम किया है।

सोशल डिस्टेंसिंग की पालना नहीं

बिहार के मजदूरों ने आरोप ने लगाया कि उनके साथ भेदभाव किया जा रहा है। भीषण गर्मी में वे टेंट के नीचे रहने को मजबूर हैं। मजदूरों के लिए कोई सोशल डिस्टेंसिंग की व्यवस्था भी नहीं की जा रही है। इससे कोरोना वायरस का संक्रमण फैलना का डर है।

भोजन के लिए झीनाझपटी

स्कूल में टेंट लगाकर ठहराए गए मजदूरों के लिए समय समय भोजन की गाड़ी आ रही है। अव्यवस्थाओं का आलम यह है कि भोजन की गाड़ी आते ही भूखे प्यासे मजदूर उस पर टूट पड़ते हैं। भोजन के पैकेट पर मजदूरों में झीनाझपटी भी हो रही है।

Hello Mommies : उदयपुर पुलिस की इन महिला DSP ने गर्भवती महिलाओं के लिए शुरू की अनूठी पहल

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
migrant labours of Bihar stuck in Jaipur in Lockdown
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X