• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

मुंबई में स्टीफ़न हॉकिंग जब बॉलीवुड के गाने पर नाचे थे

By Bbc Hindi

स्टीफ़न हॉकिंग
Getty Images
स्टीफ़न हॉकिंग

दुनिया के जाने-माने वैज्ञानिक स्टीफ़न हॉकिंग का बुधवार को 76 साल की उम्र में निधन हो गया.

दुनियाभर में करोड़ों युवाओं को प्रेरित करने वाले हॉकिंग ने अपना 59वां जन्मदिन मुंबई में मनाया था. वो 2001 में 16 दिवसीय यात्रा पर भारत आए थे.

उनके साथ आठ वैज्ञानिकों का एक प्रतिनिधि मंडल टाटा इंस्टीट्यूट ऑफ फंडामेंटल रिसर्च के एक अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन में भाग लेने मुंबई आया था.

यह उनकी दूसरी भारत यात्रा थी. इससे पहले वो 1959 में यहां आए थे.

स्टीफ़न हॉकिंग
Getty Images
स्टीफ़न हॉकिंग

उस अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन में समन्वयक रहे इंडियन इंस्टीट्यूट ऑफ साइंस एंड रिसर्च के प्रोफेसर सुनील मुखी ने बीबीसी को स्टीफ़न हॉकिंग की भारत यात्रा की यादों के बारे में बताया.

सुनील मुखी ने कहा, "स्टीफ़न हॉकिंग के बारे में काफी पढ़ने के बाद उस अद्भुत दिमाग वाले आदमी से करीब से मिलना अद्वितीय अनुभव था. उनकी मृत्यु अपूरणीय क्षति है."

मुखी कहते हैं कि सम्मेलन में हॉकिंग सबसे मनोरंजक और मज़ेदार व्यक्ति थे. वो वहां बॉलीवुड के गानों पर अपनी व्हीलचेयर को गोल-गोल घुमाने लगे थे.

हॉकिंग के सम्मान में ओबेरॉय टावर( अब ट्राइडेंट) में आयोजित रात्रिभोज में उन्होंने विकलांग होने के वाबजूद मनोरंजक कार्यक्रमों में भाग लिया था.

स्टीफ़न हॉकिंग
Getty Images
स्टीफ़न हॉकिंग

पत्रकार का सवाल और हॉकिंग का जवाब

मुखी कहते हैं, "दुर्भाग्य से उस पल को कैमरे में कैद नहीं कर पाया क्योंकि हमलोगों के पास स्मार्ट फोन नहीं थे."

वो आगे बताते हैं कि हॉकिंग ओेबेरॉय होटल में ही रुके थे, जहां उनकी सुविधा के हिसाब से एक कमरा तैयार किया गया था.

मुखी उस समय आयोजित संवाददाता सम्मेलन को याद करते हुए बताते हैं कि जब कुछ पत्रकारों ने पूछा कि हॉलीवुड के कलाकार कुंभ मेले में शिकरत करने आते हैं, क्या आप भी जाएंगे, इस पर हॉकिंग ने कहा था- "मैं एक कलाकार नहीं, वैज्ञानिक हूं. मैं विज्ञान सम्मेलन में भाग लेने भारत आया हूं."

सुनील मुखी उस संवाददाता सम्मलेन में स्टीफ़न हॉकिंग के बगल में बैठे थे.

भगवान के अस्तित्व के सवाल के जवाब में उन्होंने कहा था, "मैं प्रकृति के नियमों के लिए भगवान शब्द का इस्तेमाल करता हूं."

स्टीफ़न हॉकिंग
Getty Images
स्टीफ़न हॉकिंग

भारत आते ही घूमने निकल गए

मुखी कहते हैं कि हॉकिंग की भारत यात्रा ने यहां के विकलांग समुदाय पर अमिट प्रभाव छोड़ा. द हिंदू में छपी एक रिपोर्ट में विकलांगों के हक के लिए लड़ने वाले जावेद अबिदी ने कहा था कि वो 90 फीसदी से ज्यादा विकलांग वैज्ञानिकों के लिए सम्मलेन आयोजित करना चाहते थे पर समय की कमी की वजह से वो ऐसा नहीं कर पाए.

सुनील मुखी ने कहा कि भारत आने के बाद वो सबसे पहले एक विशेष वाहन में घूमने निकल गए. वो मुंबई के मशहूर हैंगिंग गार्डन गए, जहां उन्होंने जूता घर के पास फोटो भी खिंचवाई.

मुखी दावा करते हैं कि उन्हें हमेशा लोगों के बीच रहना ज्यादा पसंद था.

स्टीफ़न हॉकिंग
Getty Images
स्टीफ़न हॉकिंग

विशेष वाहन में करते थे सफर

सुनील ने बताया कि हॉकिंग तेजी से टाइप करते थे. किसी को उनसे बात करने के लिए उनके पीछे खड़े होना पड़ता था. वो अपने स्क्रीन पर अपनी बात टाइप करते थे.

भारत यात्रा के दौरान उन्होंने ब्लैक होल और ब्राह्मांड पर कई लेक्चर दिए थे. उनकी सुविधा के लिए महिंद्रा एंड महिंद्रा ने एक विशेष वाहन तैयार किया था जिसमें उनकी व्हीलचेयर आसानी से चली जाती थी.

उन्होंने तत्कालीन राष्ट्रपति के आर नारायणन से भी मुलाकात की थी.

प्रोफ़ेसर हॉकिंग ने अपनी अंतिम यात्रा के बाद भारत में नाटकीय बदलाव महसूस किया था.

वो दिल्ली के जंतर-मंतर और कुतुब मीनार भी गए थे. द ट्रिब्यून अख़बार की एक रिपोर्ट में 72 मीटर ऊंचे कुतुब मीनार को इमली गेट से देखने के बाद हॉकिंग ने कहा था, "मैं दिल्ली देखना चाहता था. मैं इस मीनार के बारे में नहीं जानता था पर यह शानदार है."

(बीबीसी हिन्दी के एंड्रॉएड ऐप के लिए आप यहां क्लिक कर सकते हैं. आप हमें फ़ेसबुक और ट्विटर पर फ़ॉलो भी कर सकते हैं.)

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
When Stephen Hawking was in Mumbai on a dance song
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X