भारत का अब तक का सबसे बड़ा राजनीतिक पोल. क्या आपने भाग लिया?
  • search

ईरान पर नई पाबंदियां लगाएगा अमरीका?

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप
    Getty Images
    अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप

    अमरीकी वित्त मंत्री स्टीव मनुचन ने गुरुवार को कहा कि राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ईरान पर नए प्रतिबंध लगा सकते हैं.

    ट्रंप शुक्रवार तक फ़ैसला कर लेंगे कि 2015 में ईरान के साथ हुए परमाणु समझौते के तहत प्रतिबंधों में जारी छूट जारी रहेगी या नहीं.

    2015 में तत्कालीन अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ईरान के साथ यह समझौता किया था. इस समझौते के तहत ईरान को तेल बेचने और उसके केंद्रीय बैंक को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर कारोबार की अनुमति मिली थी.

    अमरीकी वित्त मंत्री बोरिस जॉनसन
    Getty Images
    अमरीकी वित्त मंत्री बोरिस जॉनसन

    ताज़ा बयान में अमरीकी वित्त मंत्री स्टीव मनुचन ने कहा, "मेरा मानना है कि ईरान को लेकर राष्ट्रपति ट्रंप बिल्कुल स्पष्ट हैं. ईरान के साथ हुए समझौते में कई तरह के बदलावों की ज़रूरत है. इसमें कई ऐसे पहलू हैं जो ठीक नहीं हैं. इस समझौते के बाहर कई ऐसी चीज़ें हैं जो चिंताजनक हैं. चाहे वो बैलिस्टिक मिसाइल हो, मानवाधिकारों का उल्लंघन हो या फिर दूसरे मुद्दे हों."

    ईरान डील के ख़िलाफ रहे हैं ट्रंप

    ईरान
    Getty Images
    ईरान

    डोनल्ड ट्रंप ने जब अमरीकी कमान संभाली थी तब से ही ईरान को लेकर उनका रुख़ कड़ा रहा है. 2015 में तत्कालीन अमरीकी राष्ट्रपति बराक ओबामा ने ईरान के साथ जो परमाणु समझौता किया था उसकी वो लगातार आलोचना करते रहे हैं.

    अभी हाल ही में जब ईरानी सरकार के ख़िलाफ़ लोग सड़क पर उतरे तो अमरीका खुलकर प्रदर्शनकारियों के समर्थन में आया. अब ट्रंप उस समझौते को तोड़ सकते हैं जो मध्य-पूर्व ही नहीं बल्कि पूरी दुनिया के लिए अहम है.

    ट्रंप कांग्रेस से कई बार इस समझौते को रद्द करने के लिए कह चुके हैं. हालांकि यूरोप का मानना है कि यह समझौता अंतरराष्ट्रीय सुरक्षा के लिए महत्वपूर्ण है.

    इस समझौते से बेहतर विकल्प नहीं: ब्रिटेन

    बोरिस जॉनसन
    Getty Images
    बोरिस जॉनसन

    यूरोप के कई देशों ने अमरीका से आग्रह किया है कि वो ईरान के साथ 2015 के समझौते से पीछे नहीं हटे. इस समझौते के तहत ईरान परमाणु कार्यक्रम सीमित रखने के लिए बाध्य है. यूरोप की कई शक्तियों ने कहा कि सुरक्षित दुनिया के लिए यह एक ज़रूरी समझौता है.

    ईरान, जर्मनी, फ़्रांस और यूरोपीय संघ के विदेश मंत्रियों से मुलाक़ात के बाद ब्रिटेन के विदेश मंत्री बोरिस जॉनसन ने कहा कि यह समझौता ईरान को परमाणु हथियार हासिल करने से रोकता है. उन्होंने कहा कि अमरीका को अन्य विकल्पों के साथ जाना चाहिए.

    बोरिस जॉनसन ने कहा, "मेरा मानना है कि ईरान और अमरीका के बीच जो समझौता है उसका कोई विकल्प नहीं हो सकता है. यह समझौता ईरानी सेना को परमाणु हथियार हासिल करने से रोकता है. मुझे नहीं लगता कि कोई इससे बेहतर विकल्प दे सकता है. जो भी इस समझौते को ख़त्म करने की बात कर रहे हैं उन्हें बेहतर विकल्प के साथ आना चाहिए."

    यूरोपीय संघ में विदेशी मामलों की प्रमुख फेडेरिका मोघेरिनी ने कहा कि यह समझौता प्रभावी है.

    उन्होंने कहा कि इससे मुख्य उद्देश्य को हासिल किया जा रहा है. मतलब ईरान पर पूरी निगरानी है और वो परमाणु कार्यक्रम को लेकर बंधा हुआ है.

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    US will put new restrictions on Iran

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X