• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

ट्रंप के वार पर चीन बना पाकिस्तान की ढाल

By Bbc Hindi

डोनल्ड ट्रंप शी जिनपिंग
Getty Images
डोनल्ड ट्रंप शी जिनपिंग

ऐसे समय पर जब अमरीका ने पाकिस्तान को आंखें दिखाई हैं, चीन अपने पुराने दोस्त के साथ खड़ा दिख रहा है.

अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने बीते डेढ़ दशक में पाकिस्तान को दी गई मदद को 'मूर्खतापूर्ण फ़ैसला' बताया था, जिसके बाद मंगलवार को अमरीकी प्रशासन ने पाकिस्तान पर 'डबल गेम' खेलने का आरोप लगाया और उसकी 1621 करोड़ रुपए की आर्थिक मदद रोकने का ऐलान कर दिया.

लेकिन ऐसे हालात में पाकिस्तान के सबसे करीबी दोस्त चीन ने उसका साथ देने की बात कही है.

डोनल्ड ट्रंप शी जिनपिंग
Getty Images
डोनल्ड ट्रंप शी जिनपिंग

'हम हमेशा पाकिस्तान के साथ'

पाकिस्तान में मौजूद चीनी दूतावास के प्रवक्ता लिजिआन ज़िआओ ने ट्वीट कर कहा कि चीन हमेशा पाकिस्तान के साथ खड़ा रहेगा और उसका सहयोग जारी रखेगा.

लिजिआन ज़िआओ ने ट्वीट किया, ''जैसा कि हमने पहले भी कई बार कहा है, पाकिस्तान ने चरमपंथ से मुक़ाबला करने के कई महत्वपूर्ण प्रयास और त्याग किए. अंतरराष्ट्रीय स्तर पर चरमपंथ विरोधी गतिविधियों में भी पाकिस्तान ने महत्वपूर्ण योगदान दिया और अंतरराष्ट्रीय समुदाय को इसे पहचानना चाहिए.''

https://twitter.com/zlj517/status/948227922460119045

उन्होंने आगे लिखा, ''चरमपंथ के ख़िलाफ़ लड़ाई में सहयोग के लिए हम पाकिस्तान और अन्य देशों का स्वागत करते हैं, साथ ही हमें अन्य क्षेत्रों की सुरक्षा और स्थिरता का भी सम्मान करना चाहिए.''

https://twitter.com/zlj517/status/948228278820786176

''चीन और पाकिस्तान हमेशा से ही बेहतर रणनीतिक साझेदार रहे हैं. चीन विभिन्न क्षेत्रों में पाकिस्तान के साथ सहयोग बढ़ाने के लिए तैयार है जिससे दोनों देशों को और अधिक लाभ मिल सके.''

https://twitter.com/zlj517/status/948228550506754048

'भारत को खुश करने के लिए ट्रंप ने किया ट्वीट'

चीन की कम्युनिस्ट पार्टी के मुखपत्र ग्लोबल टाइम्स में लिखा गया है कि अमरीकी राष्ट्रपति डोनल्ड ट्रंप ने भारत को खुश करने के लिए पाकिस्तान के ख़िलाफ़ ट्वीट किया.

रिपोर्ट में लिखा गया है कि अमरीका अपनी इंडो-पैसेफिक रणनीति में भारत के साथ अपनी अहम साझेदारी निभाने के लिए इस तरह के ट्वीट कर रहा है.

शंघाई इंस्टिट्यूट फॉर इंटरनेश्नल स्टडीज़ में एशिया-पैसेफिक सेंटर के निदेशक ज़ाओ गैनचेंग ने कहा है, ''ट्रंप के तमाम आरोप बेबुनियाद हैं, उनका इस तरह बयान देना गलत है.''

उन्होंने कहा, ''9/11 हमले के बाद पिछले 15 साल से पाकिस्तान ने लगातार अमरीका का सहयोग किया है, पाकिस्तान की मदद से ही अमरीकी सैनिक अफ़ग़ानिस्तान की धरती पर चरमपंथ के ख़िलाफ़ लड़ सके, और अब भी पाकिस्तान इस कार्य में अमरीका को ज़रूरी मदद कर रहा है.''

चीन के विदेश मंत्रालय के प्रवक्ता गेन शुआंग ने एक प्रेस वार्ता में कहा कि चरमपंथ से लड़ने में पाकिस्तान ने महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है, वह चरमपंथ के ख़िलाफ़ चल रहे अंतरराष्ट्रीय स्तर के कार्यक्रम में भी जरूरी सहयोगी है.

ग्लोबल टाइम्स की रिपोर्ट में लिखा है कि ट्रंप का यह ट्वीट चीन-अफ़ग़ानिस्तान-पाकिस्तान के विदेश मंत्रियों की दिसंबर के अंत में हुई बैठक के बाद आया है.

इस बैठक में चीन और पाकिस्तान के इकॉनोमिक कोरिडोर के संबंध में बात हई थी. ज़ाओ कहते हैं कि ट्रंप अपने ताज़ा रुख से भारत को अपनी तरफ़ करना चाहते हैं. इससे इंडो-पैसेफिक रणनीति में अमरीका-भारत-जापान-ऑस्ट्रेलिया का गठजोड़ करने में मदद मिलेगी.

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
China shields on Chinas war on trump
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X