• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

डोनाल्‍ड ट्रंप के NSA बोले- LAC पर कब्जे की कोशिश में चीन, लातों का भूत है, बातों से नहीं मानेगा

|

वॉशिंगटन। अमेरिकी राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के राष्‍ट्रीय सुरक्षा सलाहकार (एनएसए) रॉबर्ट ओ ब्रायन ने चीन पर बड़ी प्रतिक्रिया दी है। उन्‍होंने कहा है कि चीन ने जबरन लाइन ऑफ एक्‍चुअल कंट्रोल (एलएसी) पर कब्‍जे की कोशिश की थी। उन्‍होंने कहा है कि चीन सिर्फ बातों से नहीं सुधरेगा और अब समय आ गया है जब पूरी दुनिया को यह बात समझनी होगी। ब्रायन का यह बयान ऐसे समय में आया है जब अमेरिका के विदेश मंत्री माइक पोंपेयो ने भी कहा है कि चीन का आक्रामक रवैया अब खतरा बनता जा रहा है।

US-NSA.jpg

यह भी पढ़ें- पोंपेयो ने कहा- लद्दाख में चीन के 60,000 से ज्‍यादा सैनिक

    China ने LAC पर तैनात किए 60 हजार सैनिक, US के विदेश मंत्री ने India से क्या कहा? | वनइंडिया हिंदी

    बलपूर्वक कब्‍जा करने की कोशिश

    अमेरिका के एनएसए ने कहा है, 'चाइनीज कम्‍युनिस्‍ट पार्टी (सीसीपी) ने क्षेत्रीय आक्रामकता को बढ़ा दिया है और भारत के बॉर्डर को देखकर यह बात आसानी से समझी जा सकती है। यहां पर चीन ने बलपूर्वक एलएसी पर कब्‍जे की कोशिश की है।' ब्रयान ने कहा कि चीन का डेवलपमेंट प्रोग्राम वन बेल्‍ट वन रोड (ओबीओर) में कई बड़ी कंपनियां है जो अस्थिर तौर पर चीन से कर्ज लेकर चीन की ही कंपनियों को चुका रही हैं जहां पर चीनी मजदूर हैं जो इनफ्रास्‍ट्रक्‍चर के काम को पूरा करने में लगे हैं। ब्रायन के मुताबिक इनमें से बहुत से प्रोजेक्‍ट्स बेकार हैं। उनके शब्‍दों में, 'सभी देश चीन के कर्ज तले दबते जा रहे हैं और उनके पास कोई और विक‍ल्‍प ही नहीं बचा है बस सीसीपी का समर्थन करना पड़ता है। इसके बाद ब्रायन ने कहा, 'अब समय आ गया है जब हमें यह मानना होगा कि बातचीत और समझौतों से चीन नहीं सुधरेगा। ऐसे में अब अगर कुछ हासिल करना है तो दूसरे विकल्‍पों को भी देखना होगा।'

    CPC का असली चेहरा आक्रामकता

    इससे पहले 15 जून को गलवान घाटी हिंसा के बाद भी ब्रायन ने ऐसा ही बयान दिया। उस समय ब्रायन ने कहा था कि भारत समेत साउथ चाइना सी और हांगकांग के खिलाफ चीन की आक्रामकता सीपीसी का असली चेहरा दिखाती है। उनका कहना था कि पूर्वी लद्दाख की गलवान घाटी में हुए हिंसक प्रदर्शन से इस बात की झलक मिलती है कि सीपीसी इन दिनों क्‍या सोच रही है। ब्रायन ने कहा था कि भारत के खिलाफ चीनी बहुत ही आक्रामक हैं। ब्रायन के मुताबिक भारत एक लोकतंत्र है और अमेरिका का काफी अच्‍छा दोस्‍त है। उनके मुताबिक प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और राष्‍ट्रपति डोनाल्‍ड ट्रंप के बीच काफी अच्‍छे रिश्‍ते हैं और दोनों काफी अच्‍छे दोस्‍त भी हैं।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    China attempted to seize control of LAC by force says Donald Trump NSA.
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X