• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

नेपाली कम्युनिस्ट पार्टी में फूट के आसार, शुक्रवार को तय होगा PM ओली का राजनीतिक भविष्य

|

नई दिल्ली। नेपाल की सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) के भीतर पैदा हुए मतभेद के खत्म होने के आसार कम हो गए हैं। प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली और पार्टी के कार्यकारी अध्यक्ष पुष्प कमल दहल प्रचंड के बीच सप्ताह भर में आधा दर्जन से अधिक बैठकें हो चुकी हैं, लेकिन पार्टी में कोई आम सहमति नहीं बन सकी है।

nepal

गौरतलब है बुधवार को एनसीपी की 45 सदस्यीय स्थायी समिति की एक महत्वपूर्ण बैठक शुक्रवार तक के लिए टाल दी गई। यह लगातार चौथा मौका था जब पार्टी की बैठक टाल दी गई थी ताकि पार्टी के दो अध्यक्षों को मतभेदों को दूर करने के लिए पर्याप्त समय मिल सके। उम्मीद की जा रही है कि 68 वर्षीय ओली के राजनीतिक भविष्य के बारे में शुक्रवार को स्थायी समिति की बैठक के दौरान फैसला किया जा सकता है।

नेपाल के पीएम ओली को बचाने के लिए आगे आईं उनकी 'करीबी' चीन की राजदूत

nepal

इस बीच नेपाल में चीनी राजदूत होउ यान्की की सक्रियता बढ़ गई है ताकि ओली की कुर्सी को बचाया जा सके। उधर, प्रचंड खेमे को वरिष्ठ नेताओं और पूर्व प्रधानमंत्रियों माधव कुमार नेपाल और झालानाथ खनल का समर्थन हासिल है। यह खेमा ओली के इस्तीफे की मांग कर रहा है और उसका कहना है कि ओली की हालिया भारत विरोधी टिप्पणी न तो राजनीतिक रूप से सही थी और न ही राजनयिक रूप से उचित थी।

तो क्‍या चीन ने नेपाल के प्रधानमंत्री केपी ओली को कर लिया 'Honeytrap'?

nepal

उल्लेखनीय है नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के दो धड़ों के बीच मतभेद उस समय बढ़ गया था जब प्रधानमंत्री ओली ने एकतरफा फैसला करते हुए संसद के बजट सत्र का समय से पहले ही सत्रावसान करने का फैसला किया। इस बीच विरोध प्रदर्शनों के लिए निर्देश नहीं देने के संबंध में प्रचंड के साथ समझौता होने के बावजूद बुधवार को देश भर में ओली के समर्थन में छिटपुट प्रदर्शन हुए थे।

ड्रैगन के बढ़ते दखल से नेपाल में हड़कंप, सांसद बोलीं- नहीं संभले तो नॉर्थ कोरिया बन जाएगा

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Differences that have arisen within the ruling Communist Party of Nepal (NCP) have diminished. More than half a dozen meetings have been held between Prime Minister KP Sharma Oli and party's working president Pushp Kamal Dahal Prachanda, but no consensus has been reached in the party.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X