• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

जहरीली शराब से मौत मामले की जांच के लिए एसआईटी का गठन

|

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में जहरीली शराब पीने से कई लोगों की मौत हो गई है। इस मामले में योगी सरकार ने सख्त कदम उठाते हुए एसआईटी का गठन किया है। एसआईटी इस मामले में 10 दिन के भीतर अपनी रिपोर्ट पेश करेगी। एसआईटी के अध्यक्ष एडीजी रेलवे संजय सिंघल होंगे। जबकि कमिश्नर चंद्र प्रकाश त्रिपाठी, आईजी सहारनपुर शरद सचान, गोरखपुर के कमिश्नर अमित गुप्ता और आईजी जय नारायणम सिंह इसके सदस्य होंगे। इस मामले में योगी सरकार ने दो क्षेत्राधिकारियों को सस्पेंड कर दिया है।

yogi

प्रमुख सचिव गृह अरविंद कुमार ने बताया कि जहरीली शराब से मौत मामले में एसआईटी अपनी रिपोर्ट 10 दिन के भीतर दे देगी। 6 से लेकर 10 फरवरी के बीच जितने भी लोगों की जहरीली शराब पीने से मौत हुई है उसकी जांच एसआईटी करेगी। इस दौरान एसआईटी की टीम मृतकों के परिजनों का बयान भी दर्ज करेगी। अरविंद कुमार ने बताया कि मामले में सख्त कदम उठाते हुए सहारनपुर में सीओ देवबंद सिद्धार्थ और कुशीनगर में तमकुही राज के क्षेत्राधिकारी रामकृष्ण तिवारी को सस्पेंड कर दिया गया है।

दोनों ही अधिकारियों को उनकी ड्यूटी सही से नहीं निभाने की निभाने की वजह से सस्पेंड किया गया है। ये दोनों ही अधिकारी लखनऊ के डीजीपी मुख्यालय में अटैच रहेंगे। आपको बता दें कि जहरीली शराब पीने से यूपी और उत्तराखंड में 100 से अधिक लोगों की मौत हो गई है। इस मामले के बाद विपक्ष लगाार योगी सरकार पर हमलावर है और आरोप लगाया है कि इस घटना में सरकार की मिली भगत है। बिना सरकार की मिलीभगत के इतना बड़ा रैकेट नहीं चल सकता है। अखिलेश यादव ने योगी सरकार पर आरोप लगाया है कि वह प्रदेश संभाल नहीं पा रहे हैं, जबकि कांग्रेस नेता राजबब्बर ने योगी आदित्यनाथ का इस्तीफा मांगा है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Yogi Adityanath constitutes sit to probe hooch tragedy.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X