• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Yes Bank: ईडी का खुलासा- राणा कपूर के अप्रूव किए लोन में 20000 करोड़ बने NPA, परिवार के नाम पर 78 कंपनियां

|

नई दिल्ली। प्रवर्तन निदेशालय ने मनी लॉन्ड्रिंग के आरोप में यस बैंक के संस्थापक और पूर्व चेयरमैन राणा कपूर को गिरफ्तार किया था। ईडी ने राणा कपूर को रिमांड के लिए पीएमएलए कोर्ट में पेश किया, जहां सुनवाई के दौरान जांच एजेंसी ने बड़ा खुलासा किया। जांच एजेंसी ने कोर्ट को बताया कि राणा कपूर जब यस बैंक के चेयरमैन थे, उन्होंने 30 हजार करोड़ का लोन पास किया था, जिसमें से अब 20 हजार करोड़ एनपीए घोषित कर दिए गए हैं।

राणा कपूर ने पास किए 30 हजार करोड़ के लोन- ईडी

राणा कपूर ने पास किए 30 हजार करोड़ के लोन- ईडी

ईडी की तरफ से वकील सुनील गोंजाल्वेज ने कोर्ट को बताया कि राणा कपूर और उनके परिवार के सदस्यों के नाम 78 कंपनियां हैं। उन्होंने कहा कि ईडी को शक है कि एनपीए वाली अधिकतर कंपनियां राणा कपूर के परिवार की हैं। इसके अलावा बाकी के 10 हजार करोड़ रुपए कहां गए, इसकी भी जांच करनी है। ईडी ने कहा कि यस बैंक के बड़े पदाधिकारियों के बयान लिए जाने हैं और राणा कपूर से इस मामले में पूछताछ की जानी है। ईडी का आरोप है कि यस बैंक द्वारा लोन पास करने के बदले राणा कपूर को फायदा मिला है।

ये भी पढ़ें: Madhya Pradesh LIVE: ज्योतिरादित्य सिंधिया ने रक्षामंत्री राजनाथ सिंह से की मुलाकात

कपूर परिवार के सदस्यों के नाम 78 कंपनियां- ईडी

कपूर परिवार के सदस्यों के नाम 78 कंपनियां- ईडी

स्पेशल जज ने जांच एजेंसी के दावे की पुष्टि के लिए कागजात मांगे, जिसपर एजेंसी ने बैंक का फॉरेंसिक ऑडिट कोर्ट में पेश किया। वहीं, राणा कपूर के वकील सतीश मानेशिंदे ने ईडी की दलीलों का विरोध किया। उन्होंने कहा कि जब कपूर ने यस बैंक छोड़ा था, एनपीए केवल 1 फीसदी था। उन्होंने आरोप लगाया कि कपूर को बलि का बकरा बनाया गया है। वकील ने केस दर्ज होने से पहले ईडी द्वारा कपूर के घर की तलाशी पर सवाल उठाए। इसपर ईडी ने कहा कि डीएचएफएल के मनी लॉन्ड्रिंग से जुड़े केस में ये तलाशी ली गई थी।

16 मार्च तक ईडी की हिरासत में भेजे गए राणा कपूर

16 मार्च तक ईडी की हिरासत में भेजे गए राणा कपूर

राणा कपूर के वकील ने किसी तरह के रिश्वत की बात को खारिज किया। वकील ने डीएचएफएल के साथ यस बैंक के लेनदेन के मामले में मनी लॉन्ड्रिंग के आरोपों को भी खारिज किया। वकील ने कहा, 'वे चार महीने के लिए लंदन में थे और कर्ज चुका रहे थे। वह बैंक को टेक ओवर करने के लिए आरबीआई के साथ बातचीत कर रहे थे और सरकारी अधिकारियों के साथ लगातार मीटिंग कर रहे थे। और एक हफ्ते बाद, केस दर्ज कर लिया गया।' दोनों पक्षों की दलीलों को सुनने के बाद पीएमएलए कोर्ट ने राणा कपूर को 16 मार्च तक की ईडी की हिरासत में भेज दिया है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Yes bank: Rana kapoor approved bad loans worth 20000 cr, ED tells court
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X