पद्मावत फिल्म रीलीज होने पर महिलाओं ने दी जौहर की धमकी, करणी सेना करेगी पीएम, गृहमंत्री से मुलाकात

Written By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। रीलीज से पहले ही जिस तरह से संजय लीला भंसाली की फिल्म पद्मावती को लेकर विवाद चल रहा था, उसके बाद फिल्म के नाम को सेंसर बोर्ड ने बदलकर पद्मावत कर दिया और कई सारे कट के बाद इस फिल्म को रीलीज करने की इजाजत दे दी गई है। लेकिन सेंसर बोर्ड से इजाजत मिलने के बाद भी फिल्म का विरोध लगातार जारी है। अब महिलाओं ने चित्तौड़गढ़ के उसी किले में जौहर की धमकी दी है जहां रानी पद्मिनी ने तमाम रानियों और दासियों के साथ जौहर किया था। महिलाओं ने चेतावनी दी है कि अगर फिल्म रीलीज हुई तो हम चित्तौड़गढ़ के उसी किले में जौहर करेंगे।

पीएम, गृहमंत्री से मुलाकात

पीएम, गृहमंत्री से मुलाकात

चित्तौड़गढ़ में सर्व समाज की बैठक में बड़ी संख्या में महिलाओं ने भी हिस्सा लिया। सूत्रों की मानें तो शनिवार को हुई इस बैठक में जौहर स्मृति संस्थैान के जनरल सेक्रेटरी कण सिंह ने कहा कि अगर फिल्म की रीलीज को नहीं रोका गया तो फिल्म से जुड़े सभी लोगों को फांसी पर चढ़ा देंगे। इस बैठक में फैसला लिया गया है कि 17 जनवरी को राजमार्ग जाम किया जाएगा, साथ ही रेल यातायात को भी रोका जाएगा। साथ ही सर्वसमाज का एक प्रतिनिधिमंडल आज दिल्ली में गृहमंत्री राजनाथ सिंह से भी मुलाकात करेगा और फिल्म की रीलीज को रोकने की मांग की जाएगी।

हर जगह फिल्म का विरोध

हर जगह फिल्म का विरोध

करणी सेना के प्रवक्ता वीरेंद्र सिंह का कहना है कि बोर्ड का अध्यक्ष 16 जनवरी को प्रधानमंत्री मोदी से मिलेगा और फिल्म पर रोक लगाने की मांग करेगा। उन्होंने कहा कि अगर इन तमाम विरोध के बाद भी अगर फिल्म की रीलीज पर रोक नहीं लगी तो महिलाएं उसी जगह पर जौहर करेंगी जहां रानी पद्मिनी ने जौहर किया था।
वहीं श्री करणी सेना के संरक्षक लोकेन्द्र सिंह कालवी का कनहा है कि पहले करणी सेना ने 25 व 26 जनवरी को भारत बंद का फैसला लिया था, लेकिन गणतंत्र दिवस के चलते इसे टाल दिया गया है, अब यह आंदोलन 17 जनवरी से ही शुरू होगा। गौरतलब है कि राजस्थान में पहले ही फिल्म की रीलीज पर रोक लगा दी गई है, लेकिन फिल्म की रीलीजी की तारीख 25 जनवरी निर्धारित की गई है। राजस्थान के अलावा तीन अन्य राज्यों में भी फिल्म की रीलीज को लेकर विरोध हो रहा है।

गोवा में भी फिल्म का विरोध

गोवा में भी फिल्म का विरोध

एक तरफ जहां मुंबई में फिल्म की रीलीज को लेकर विरोध की खबरें आ रही हैं, तो दूसरी तरफ हिमाचल प्रदेश की सरकार ने भी फिल्म के प्रदर्शन से खुद को पीछे कर लिया है, साथ ही गोवा सरकार ने फिल्म की रीलीज को रोकने की मांग की है। गोवा पुलिस का तर्क है कि यह मौसम पर्यटकों के आने का है, ऐसे में फिल्म की रीलीज से यहां हिंसा भड़क सकती है, जिससे पर्यटन पर काफी बुरा असर पड़ेगा। साथ ही मुंबई पुलिस ने भी 26 जनवरी की सुरक्षा के चलते फिल्म की रीलीज को टालने की बात कही है।

हिमाचल प्रदेश में भी विरोध

हिमाचल प्रदेश में भी विरोध

फिल्म की रीलीज से पहले हिमाचल प्रदेश के मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा कि मैं खुद एक कलाप्रेमी हूं और इसका सम्मान करता हूं, लेकिन यह फिल्म काफी विवादित रही है, फिल्म में कई तरह के विवाद हमारी संस्कृति व संस्कार से जुड़े हैं, ऐसे में जिस चीज से लोगों की भावनाएं आहत होती है सरकार उसका ज्यादा समर्थन नहीं करेगी। करणी सेना ने दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल से मिलकर फिल्म के दिल्ली में रीलीज को रोकने की भी मांग करेगी।

इसे भी पढ़ें- हिमाचल: 300 कट! और नाम बदलने के बावजूद नहीं माने जयराम ठाकुर, लगाई 'पद्मावत' पर रोक

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Women threatens to perform Jauhar if Padmavat film released. Karni Sena threatens Bharat Bandh on 17 January.

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.