• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

जब रुहानी बोले- ज़िंदाबाद इस्लाम, ज़िंदाबाद हिंदुस्तान

By Bbc Hindi
हसन रुहानी
AFP
हसन रुहानी

भारत दौरे पर आए ईरान के राष्ट्रपति हसन रूहानी ने उम्मीद जताई है कि ये दोनों देश एक नई सभ्यता के निर्माण में अहम भूमिका निभाएंगे.

तेलंगाना की राजधानी हैदराबाद स्थिति ऐतिहासिक मक्का मस्जिद में जुमे की नमाज़ के लिए जुटे लोगों को संबोधित करते हुए उन्होंने मुसलमानों से पंथ के आधार पर होने वाले मतभेदों से ऊपर उठने को कहा.

ईरान के राष्ट्रपति शनिवार को नई दिल्ली में भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और दूसरे नेताओं से मुलाक़ात करेंगे. वो व्यापारियों से भी मुलाक़ात करेंगे.

हसन रुहानी
AFP
हसन रुहानी

सहयोग बढ़ाएंगे

रुहानी ने शुक्रवार को कड़ी सुरक्षा के बीच नमाज अदा की.

मक्का मस्जिद में जुटे लोग रुहानी की एक झलक पाने के लिए बेताब दिखे. उनमें से ज्यादातर लोग अपने स्मार्टफोन में उनकी तस्वीर क़ैद करते नज़र आए. मस्जिद के हॉल में सदा कपड़ों में करीब सौ पुलिसकर्मी तैनात थे.

नमाज़ के बाद रुहानी ने वहां जुटे लोगों को संबोधित करते हुए कहा कि ईरान भारत के साथ सहयोग बढ़ाएगा.

उन्होंने कहा, "ईरान तेल, गैस और ऊर्जा के लिहाज से समृद्ध है. ईरान भारत के विकास और प्रगति के लिए अपने हिस्से के गैस, तेल और ऊर्जा के संसाधन साझा करने को तैयार है. "

उन्होंने ये भी कहा कि चाबहार पोर्ट के जरिए सहयोग बढ़ेगा. इस बंदरगाह को विकसित करने में भारत ईरान की मदद कर रहा है. ये बंदरगाह ईरान और पाकिस्तान की सीमा के करीब है. इसके जरिए भारतीय उत्पादों को अफ़गानिस्तान और मध्य एशिया तक भेजा जा सकेगा. भारत को सामान भेजने के लिए पाकिस्तान के ज़मीनी रास्ते की जरुरत नहीं होगी.

'मक्का मस्जिद का राजमिस्री हिंदू था'

'जड़ें ईरान में पर जुड़ाव हैदराबाद से महसूस करता हूं'

हसन रुहानी
AFP
हसन रुहानी

नियमों में छूट

रुहानी ने कहा कि हैदराबाद और ईरान के मुसलमानों के बीच के संबंध सदियों पुराने हैं और उन्हें मजबूत किए जाने की जरूरत है.

उन्होंने ऐलान किया कि उनकी सरकार भारतीयों के लिए वीज़ा नियमों में छूट देगी और उम्मीद जताई कि 'भारत भी ऐसा ही करेगा'.

संस्कृति और भाषा के लिहाज से भारत और ईरान के संबंध सदियों पुराने हैं लेकिन हाल के बरसों में इन संबंधों में कई झटके लगे हैं.

साल 2009 में जब भारत ने ईरान के परमाणु कार्यक्रम की आलोचना के लिए इंटरनेशनल एटोमिक एनर्जी एजेंसी के प्रस्ताव का समर्थन किया तो ईरान खुश नहीं था. बाद के बरसों में भारत ने ईरान से तेल आयात में भी कमी की. बीते साल ईरान से प्रतिबंध हटाने जाने के बाद भारतीय कंपनियां इस देश को निवेश की उम्दा जगह के तौर पर देख रही हैं.

हसन रुहानी
AFP
हसन रुहानी

अमरीका नहीं हो सकता मशाल वाहक

रूहानी ने मुसलमानों की एकता पर ज़ोर देते हुए कहा कि अगर मुसलमान एकजुट होते तो दुनिया फ़लस्तीन के मुसलमानों को चोट पहुंचने का साहस नहीं करती.

उन्होंने कहा, "हमारा एक मात्र ध्येय दुनिया के मुसलमानों के बीच एकजुटता को बढ़ावा देना है."

अमरीका के एक स्कूल में हालिया गोलीबारी का जिक्र करते हुए रुहानी ने कहा, "पश्चिमी देशों और अमरीका में, स्कूल, कॉलेज और विश्वविद्यालयों में लोगों की सामूहिक तौर पर जान ली जाती है और इसका मतलब ये है कि अमरीका मानवता का मशाल वाहक नहीं हो सकता है. "

उन्होंने अपने भाषण का समापन 'ज़िंदाबाद इस्लाम, ज़िंदाबाद हिंदुस्तान, ज़िंदाबाद ईरान' कहते हुए किया.

रूहानी शुक्रवार को क़ुली क़ुतुब शाह के मकबरे पर भी गए.

lok-sabha-home
BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
When Rouhani says Zindabad Islam Zindabad Hindustan

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X

Loksabha Results

PartyLWT
BJP+27376349
CONG+771289
OTH986104

Arunachal Pradesh

PartyLWT
BJP20020
CONG000
OTH707

Sikkim

PartyLWT
SDF11011
SKM808
OTH000

Odisha

PartyLWT
BJD1070107
BJP26026
OTH13013

Andhra Pradesh

PartyLWT
YSRCP13815153
TDP20020
OTH101

TRAILING

Hemraj Verma - SP
Pilibhit
TRAILING