• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

दिल्ली हिंसा: सिर में घुसी ड्रिल मशीन के साथ GTB अस्पताल पहुंचा शख्स, डॉक्टरों ने ऐसे बचाई जान

|

नई दिल्ली। मंगलवार की शाम जब दिल्ली हिंसा की आग में जल रही थी तो उसी दौरान करीब शाम पांच बजे गुरु तेग बहादुर (जीटीबी) अस्पताल में मौजूद सभी लोगों का ध्यान हॉस्पिटल में लाए गए एक घायल के ऊपर गया। वह गंभीर रूप से घायल था और उसे तुरंत आपातकालीन सेवा की ओर ले जाया गया। लोग उस समय हैरान हो गए जब उसके सिर के बाईं तरफ एक लोहे की मोटी वस्तु घुसी हुई देखी। उस व्यक्ति के साथ आए युवकों ने तुरंत डॉक्टरों से संपर्क किया और उसका उपचार करने का अनुराध किया।

दिल्ली में भड़की हिंसा

दिल्ली में भड़की हिंसा

दिल्ली में सोमवार और मंगलवार को भड़की हिंसा ने उत्तर-पूर्वी के हालात बद से बदतर कर दिए हैं। हालांकि दंगे की आग को बुझा दिया गया है और हालात धीरे-धीरे सामान्य हो रहे हैं। इसी बीच जीटीबी हॉस्पिटल में एक हिंसा से घायल हुए युवक को लाया गया जिसके सिर में मोटी लोहे की छड़ घुसी हुई थी। देखने में वह वस्तु किसी ड्रिल मशीन का एक पार्ट लग रहा था। घायल जब अस्पताल लाया गया तो उसके सिर से काफी खून बह रहा था।

विवेक चौधरी के रूप में हुई पहचान

विवेक चौधरी के रूप में हुई पहचान

घायल के साथ आए युवकों ने उसे इमजेंसी में भर्ती कराया गया जहां डॉक्टरों ने उसका उपचार किया। घायल युवक की पहचान 19 वर्षीय विवेक चौधरी के रूप में की गई है। मीडिया रिपोर्ट्स के मुताबिक हिंसा के दौरान किसी ने उसके सिर में वह लोहे की वस्तु घुसा दी थी जिसके बाद वह अस्पताल लाया गया। करीब आधे घंटे बात उसे अस्पताल के न्यूरोलॉजिकल डिपार्टमेंट में रेफर किया गया जहां डॉक्टरों ने उसकी जांच की। शुरुआती जांच में पहली विवेक का सिटी स्कैन किया गया।

जीटीबी के डॉक्टरों ने बचाई जान

जीटीबी के डॉक्टरों ने बचाई जान

इसके बाद जीटीबी के डॉक्टरों ने एक अन्य अस्पताल से विवेक के उपचार के लिए अपील की, करीब रात आठ बजे विवेक के सभी टेस्ट किए गए। आधी रात के आसपास, जीटीबी अस्पताल में विवेक चौधरी पर लगभग 45 मिनट तक चलने वाला क्रैनियोटॉमी किया गया। न्यूरोलॉजी विभाग के प्रमुख डॉ. प्रज्ञान के नेतृत्व में दो या तीन डॉक्टरों की एक टीम ने सफलतापूर्वक चौधरी का ऑपरेशन किया और लोहे की वस्तु को हटा दिया। विवेक और उनके परिजनों के लिए यह किसी चमत्कार से कम नहीं था।

कठिन परिस्थितियों में की गई सर्जरी

बुधवार सुबह, जीटीबी अस्पताल के एमडी डॉ. सुनील कुमार ने बताया कि विवेक रिकवर कर रहे हैं और जल्द ही स्वस्थ हो जाएंगे। जीटीबी अस्पताल के सहायक एमएस डॉ. राकेश कालरा के मुताबिक घायल विवेक की बहुत ही कठिन परिस्थितियों में की गई सर्जरी को अंजाम दिया गया। वह सर्जरी के दौरान शांत रहे और हमारा सहयोग भी किया। गनिमत रही कि लोहे की छड़ सिर में काफी अंदर तक नहीं घुसी थी इसलिए सर्जरी में कोई दिक्कत नहीं आई। अगर वह अंदर तक जाती तो इसके काफी गंभीर परिणाम भी हो सकते थे।

उपद्रवियों ने सिर में घुसा दी थी रॉड

उपद्रवियों ने सिर में घुसा दी थी रॉड

लेकिन यहां पर यह सवाल खड़ा होता है कि विवेक पर किसने, क्यों और कहां हमला किया? विवेक की बहन बबिता ने बताया कि, उसपर करीब शाम 4 बजे हमला हुआ था, विवेक शिव मार्केट में किसी काम से गया हुआ था। उन्होंने बताया, कहीं से वहां कुछ उपद्रवी आए और उन्होंने बिना किसी उकसावे के विवेक पर हमला कर दिया। उन्होंने लोहे की एक वस्तु ली जो ड्रिल मशीन की लगती है, उसे विवेक के सिर में घुसा दिया। विवेक वहीं गिर गया और बाद में स्थानीय लोगों द्वारा अस्पताल पहुंचाया गया।

खाई में गिरा बारहसिंगा तो लोगों ने ऐसे बचाई उसकी जान, देखिए दिल जीतने वाला Video

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Vivek Chaudhary Arrives With GTB Hospital Drilled Machine during Violence in Delhi
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X