• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण का पार्थिव शरीर ले जाने को नहीं मिली एंबुलेंस, पीएमसीएच में घंटों पड़ा रहा शव

|
    Mathematician Vashishtha Narayan Singh का निधन, मौत के बाद भी सरकारी उपेक्षा के शिकार | वनइंडिया

    नई दिल्ली। गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का गुरुवार को बिहार की राजधानी पटना में निधन हो गया। लंबे समय से बीमार चल रहे सिंह पटना मेडिकल कॉलेज अस्पताल (पीएमसीएच) में भर्ती थे, जहां आज उन्होंने दम तोड़ दिया। नासा के साथ काम करने वाले और आइंस्टीन के सिद्धान्त को चुनौती देने वाले गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का निधन हुआ तो अस्पताल एक एंबुलेंस तक समय पर नहीं दे सका। पीएमसीएच में घंटो उनका शव स्ट्रेटर पर पड़ा रहा। उनके छोटे भाई ब्लड बैंक के बाहर शव लिए देर तक खड़े ये इंतजार करते रहे कि अस्पताल प्रशासन एंबुलेंस उपलब्ध कराएगा।

    vashishtha narayan singh, vashishtha narayan singh patna, pmch not provide ambulance for vashishtha narayan singh, mathematician, nasa, bihar, patna, वशिष्ठ नायारण सिंह, पटना, बिहार

    74 साल के नारायण सिंह के निधन के बाद पीएमसीएच प्रशासन ने मृत्यु प्रमाणपत्र देकर खुद को अलग कर लिया। इसको लेकर वशिष्ठ नारायण सिंह के छोटे भाई ने नाराजगी भी जताई, वो मीडिया के सामने ही रो भी पड़े। बताया गया है कि करीब दो घंटे बाद उनका शव ले जाने को एंबुलेंस दी गई।

    गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह बीते 40 साल से सिजोफ्रेनिया नामक मानसिक बीमारी से पीड़ित थे। वह बीते दिनों से काफी बीमार चल रहे थे। उनके निधन पर मुख्यमंत्री नीतीश कुमार ने शोक जताया है। पू्र्व मुख्यमंत्री जीतन राम मांझी ने भी नारायण सिंह के निधन पर शोक जताते हुए कहा कि नारायण सिंह के निधन से समाज को अपूरणीय क्षति पहुंची है। नेता विपक्ष तेजस्वी यादव ने भी उनकी मौत को बड़ी क्षति बताया है।

    1965 में अमेरिका गए पटना साइंस कॉलेज में पढ़ाई के दौरान कैलिफोर्निया विश्वविद्यालय के प्रोफेसर जॉन कैली की नजर नारायण सिंह पर पड़ी और उन्होंने उनकी प्रतिभा को पहचाना। 1965 में वह अमेरिका चले गए। उन्होंने 1969 में कैलिफोर्निया यूनिवर्सिटी से पीएचडी की डिग्री हासिल की। इसके बाद वह वॉशिंगटन यूनिवर्सिटी में एसोसिएट प्रोफेसर बन गए। उन्होंने नासा में भी काम किया। वह साल 1971 में भारत लौट आए थे। भारत लौटने के बाद नारायण सिंह ने आईआईटी कानपुर, आईआईटी बंबई और आईएसआई कोलकाता में नौकरी की। बाद में वह मानसिक बीमारी सिजोफ्रेनिया से पीड़ित हो गए।

    नारायण सिंह ने वैज्ञानिक आइंस्टीम के सिद्धांत को चुनौती दी थी। उनके बारे में जो सबसे ज्यादा मशहूर बात है, वो ये है कि जब नासा में अपोलो को लॉन्च किए जाने से पहले 31 कंप्यूटर कुछ समय के लिए बंद हो गए थे, तब उनके ठीक होने पर नारायण सिंह और कंप्यूटर्स का कैलकुलेशन एक जैसा था।

    महान गणितज्ञ वशिष्ठ नारायण सिंह का निधन, नासा में भी कर चुके हैं काम

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    vashishtha narayan singh passes away pmch not provide ambulance for mathematician dead body who worked nasa
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X