• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

वो गौरैया जो दंगों में पुलिस की गोली का शिकार हुई थी

By Bbc Hindi
विश्व गौरैया दिवस
KALPIT BHACHECH/BBC
विश्व गौरैया दिवस

आज दुनिया विश्व गौरैया दिवस मना रही है.

इस मौके पर हम आपको उस गौरैया की कहानी सुना रहे हैं जो दंगों में पुलिस की गोली का शिकार हुई थी.

बात 1974 की है. उन दिनों गुजरात में नवनिर्माण आंदोलन जोरों पर था. आर्थिक संकट और भ्रष्टाचार के ख़िलाफ़ ये छात्रों और मध्य वर्ग का सामाजिक आंदोलन था.

इस आंदोलन में हिंसा भी हुई और हालात इतने बिगड़ गए कि 100 लोग मारे गए.

ओ री गोरैया, अंगना में फिर आजा रे...

ताकि ग़ायब न हो जाए गौरैया....

विश्व गौरैया दिवस
KALPIT BHACHECH/BBC
विश्व गौरैया दिवस

अहमदाबाद के पुराने शहर में लोग उस वाकये को अपनी तरह से याद करते हैं. उन्होंने एक गौरैया की याद में एक स्मारक बनवाया.

ये वही गौरैया थी जो दंगों में पुलिस की गोली का शिकार हुई थी.

गौरैया का ये स्मारक अहमदाबाद के पुराने शहर के 'ढल नी पोल' इलाके में देखा जा सकता है.

शहरों से गायब हो रही गौरैया

एक शख्स जो बनाता है गौरैयों का आशियाना

विश्व गौरैया दिवस
KALPIT BHACHECH/BBC
विश्व गौरैया दिवस

स्मारक के बाहर लगे पत्थर पर लिखा है, '1974 के दंगों के दौरान दो मार्च, शाम 5:25 बजे एक भूखी गौरैया पुलिस फ़ायरिंग का शिकार हो गई थी.''ढल नी पोल' इलाके के लोग इस स्मारक की आज भी देखभाल करते हैं.

जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

BBC Hindi
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
The sparrow which was the victim of a police bullet in the riots

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X