• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

AIIMS गोरखपुर के MMBS फर्स्‍ट ईयर के 11 छात्रों को SC ने दी बड़ी राहत, दोबारा आयोजित होगी परीक्षा

|

नई दिल्‍ली। कोरोना वायरस संक्रमण के प्रोटोकॉल के कारण AIIMS गोरखपुर में MBBS प्रथम वर्ष के 11 छात्र-छात्राओं की कम उपस्थिति को लेकर देश की सबसे बड़ी अदालत ने बड़ा फैसला सुनाया है। सुप्रीम कोर्ट ने आदेश दिया है कि एम्‍स गोरखपुर में कम उपस्थिति के कारण परीक्षा देने से वंचित रहे 11 छात्र-छात्राओं की परीक्षा फिर से होगी। कोर्ट ने कहा है कि ये छात्र अगर परीक्षा में पास होते हैं तो उनको अगली क्‍लास में प्रमोट भी किया जाए।

suprepe

आपको बता दें कि कोरोना वायरस प्रोटोकॉल के चलते एम्‍स गोरखपुर के से एमबीबीएस कर रहे 11 छात्र कम उपस्थिति के कारण परीक्षा देने से वंचित रह गए थे। एम्‍स प्रशासन ने इन छात्रों की परीक्षा कराने से इंकार कर दिया था जिसके बाद परेशान छात्रों ने सुप्रीम कोर्ट का दरवाजा खटखटाया था।

सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि एम्स गोरखपुर में एमबीबीएस प्रथम वर्ष के शॉर्ट अटेंडेंस के छात्रों परीक्षा में बैठने की इजाजत दी जानी चाहिए। कोर्ट ने याचिककर्ता से ऐसे छात्रों की कुल संख्या बताने को कहा था जिनकी अटेंडेंस कम है। सुनवाई के दौरान एक याचिकाकर्ता के वकील नेदुम्पार ने कहा था कि उनके क्लाइंट की पर्याप्त अटेंडेंस है और उनको परीक्षा में बैठने की इजाजत दी जानी चहिए। AIIMS के वकील उदित्य बनर्जी ने कहा था कि छात्र की उपस्थिति कोरोना से पहले 60 फीसदी थी और कोविड के बाद वह 4 कक्षाओं में उपस्थित हुए।

VIDEO: दो बच्‍चों को बचाने के लिए दुनिया के दूसरे सबसे विषैले सांप से लड़ गई बिल्‍ली, जानिए क्‍या हुआ

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Supreme Court directs AIIMS Gorakhpur to conduct the examinations for 11 first-year students whose attendance was low due to coronavirus
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X