• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Buta Singh Passes Away: दिग्गज नेता बूटा सिंह के निधन पर पीएम मोदी, सोनिया और राहुल गांधी ने जताया दुख

|

Buta Singh Passes Away: कांग्रेस के वरिष्ठ नेता और पूर्व केंद्रीय मंत्री बूटा सिंह का शनिवार को निधन हो गया। वो उम्र संबंधित कई बीमारियों से परेशान थे। बूटा सिंह को दलितों का मसीहा कहा जाता था। साथ ही वो गांधी परिवार के करीबियों में से एक थे। अभी नवंबर में ही सोनिया गांधी के राजनीतिक सलाहकार अहमद पटेल का निधन हुआ था। अब बूटा सिंह के निधन के बाद कांग्रेस ने एक और संकटमोचन को खो दिया। उनके निधन पर प्रधानमंत्री मोदी, राहुल गांधी समेत कई बड़ी हस्तियों ने दुख व्यक्त किया है।

    Sardar Buta Singh Congress Passes Away: PM Modi और Rahul Gandhi ने जताया शोक | वनइंडिया हिंदी

    Modi

    बूटा सिंह के निधन की खबर मिलते ही प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने ट्वीट कर दुख व्यक्त किया। उन्होंने लिखा कि बूटा सिंह जी गरीबों के कल्याण के साथ-साथ दलितों के कल्याण के लिए एक अनुभवी प्रशासक और प्रभावी आवाज थे। उनके निधन से दुखी हूं। उनके परिवार और समर्थकों के प्रति मेरी संवेदना है। पीएम मोदी के अलावा सोनिया गांधी ने भी उनके निधन पर संवेदना व्यक्त की और बूटा सिंह के बेटे से बात की।

    वहीं अपने करीबी बूटा सिंह के दुनिया से जाने से राहुल गांधी भी दुखी हैं। उन्होंने ट्वीट कर लिखा कि सरदार बूटा सिंह के देहांत से देश ने एक सच्चा जनसेवक और निष्ठावान नेता खो दिया है। उन्होंने अपना पूरा जीवन देश की सेवा और जनता की भलाई के लिए समर्पित कर दिया, जिसके लिए उन्हें सदैव याद रखा जाएगा। इस मुश्किल समय में उनके परिवारजनों को मेरी संवेदनाएं। वहीं राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत ने ट्वीट कर कहा कि पूर्व केंद्रीय मंत्री और वरिष्ठ कांग्रेस नेता बूटा सिंह के निधन के बारे में जानकर दुख हुआ। इस कठिन समय में उनके परिवार के सदस्यों के प्रति मेरी हार्दिक संवेदना, ईश्वर उन्हें यह दुख सहने की शक्ति दे और उनकी आत्मा को शांति मिले।

    किसान नेता बूटा सिंह ने कहा- कृषि कानून रद्द नहीं होता है तो हम रेलवे ट्रैक को ब्लॉक करेंगे

    इस वजह से गांधी परिवार के थे करीबी

    जब 1977 से देश में जनता पार्टी की लहर आई और कांग्रेस बुरी तरह हारी, तो कई दिग्गज नेताओं ने इंदिरा गांधी का साथ छोड़ दिया। उस दौरान बूटा सिंह कांग्रेस के इकलौते राष्ट्रीय महासचिव थे। उनकी कड़ी मेहनत की वजह से पार्टी में कई बड़े चेहरे जुड़े और 1980 में कांग्रेस की सत्ता में वापसी हुई। तब से बूटा सिंह गांधी परिवार के सबसे करीबी रहे। इसी वजह से उनको गृह, कृषि, खेल, रेल समेत कई महत्वपूर्ण मंत्रालयों की जिम्मेदारियां भी मिलीं।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    pm modi and rahul gandhi condolence on buta singh passes away
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X