4 साल की बच्‍ची के पेट में घुसी रॉड, 100 KM तक किया सफर, हिम्‍मत देख डॉक्‍टर भी हुए हैरान

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

भोपाल। सच ही कहा गया है कि अगर हौसला हो तो आप जिंदगी की कोई भी जंग जीत सकते हैं। ऐसा ही एक मामला मध्‍य प्रदेश के मुरैना में सामने आया है जहां चार साल की बच्ची की हिम्मत देखकर डॉक्टर भी हैरान हैं। जी हां चार साल की मासूम के पेट में लोहे की छड़ आरपास हो गई थी लेकिन उसने हार नहीं मानी और अपने हौसले के बल पर मौत को मात दे दिया। जानकारी के मुताबिक बच्‍ची का नाम अनन्‍या है।

4 साल की बच्‍ची के पेट में घुसी रॉड, 100 KM तक किया सफर, हिम्‍मत देख डॉक्‍टर भी हुए हैरान

खेलते समय गलती से उसके पेट में 8mm का सरिया घुस गया। घबराए मां-बाप बच्‍ची को लेकर फौरन कैलारस और फिर मुरैना के अस्‍पताल ले कर पहुंचे। बच्‍ची की हालत देखकर डॉक्‍टरों ने हाथ खड़ा कर दिया। बच्‍ची को ग्वालियर के जयारोग्य अस्पताल रेफर कर दिया गया। यहां 2 घंटे की सर्जरी के बाद बच्ची के पेट से सरिया निकाला गया। ऑप्रेशन करने वाले डॉक्टर खुद हैरान थे कि कैसे सर्जरी के दौरान बच्ची एकदम शांत रही।

अनन्या की सर्जरी करने वाले डॉ. समीर गुप्ता ने कहा, मैंने कई ऑपरेशन किए हैं, लेकिन इलाज के दौरान एक 4 साल की बच्ची को इतना शांत पहली बार देखा है। यह उसकी हिम्मत है कि वह दर्द सहन करती रही। ईश्वर की दया से सरिया तिरछा पेट में धंसा, सीधा होता तो लिवर या दूसरे बॉडी ऑर्गन डैमेज हो सकते थे।

पेट में घुसी रॉड के साथ 100 किमी का सफर

रात को अनन्या 2 हॉस्पिटल और 100 किमी का सफर तय कर ग्वालियर पहुंची, लेकिन इस दौरान वह बिल्कुल शांत रही। अनन्या की सर्जरी करने वाले JAH के डॉ समीर गुप्ता उसकी हिम्मत देखकर हैरान रह गए। उनके मुताबिक आमतौर पर बच्चे दर्द से तड़पते हैं, लेकिन अनन्या दर्द सहन कर रही थी। डॉ. गुप्ता ने ट्रामा सेंटर के ऑपरेशन थियेटर में रात को ही तुरंत ऑपरेशन किया और करीब पौने दो घंटे की मेहनत के बाद सरिया उसके पेट से निकाल दिया।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Parents travelled over 100Km as 4 Year Old Girl Battled For Life After An Iron Rod Pierced Her Tiny Body.
Please Wait while comments are loading...