• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

तनिष्क ही नहीं इन पांच विज्ञापनों पर भी देश में मच चुका है बवाल

|

नई दिल्ली। मशहूर जूलरी ब्रांड 'तनिष्क' ने अपने 'एकत्वम' विज्ञापन पर विवाद होने के बाद मंगलवार को उसे वापस लेने का ऐलान कर दिया। पूरे मामले पर टाटा समूह की ओर से सफाई आई है। इस विज्ञापन में तनिष्क पर लव जिहाद को बढ़ावा देने का आरोप लगा है। यह पहली बार नहीं है जब किसी विज्ञापन को लेकर देश में विवाद पैदा हुआ हो। भारत एक बहुत बड़ा बाजार है, लेकिन यह एक सजातीय बाजार नहीं है। आपके पास एक प्रोडक्ट या मार्केटिंग रणनीति नहीं हो सकती है जो सभी पर फिट बैठती हो। अलग-अलग क्षेत्रों से आने वाले लोगों के भिन्न-भिन्न नजरिए होते हैं। इसलिए कंपनियों को हर के लिए अलग-अलग रणनीति बनानी पड़ती हैं। विज्ञापन किसी उत्पाद या सेवा को उपयोगकर्ताओं तक पहुंचाने का एक साधन है। लेकिन कभी कभी कंपनियां अपने लक्षित उपभोक्ताओं तक किसी प्रोडक्ट को पहुंचाने के लिए जो तरीका अपनाती है, वह कई बार गलत साबित हो जाता है। ऐसे कई उदाहारण सामने आ चुके हैं।

1-वर्ष 1995: 'टफ शूज' विज्ञापन

1-वर्ष 1995: 'टफ शूज' विज्ञापन

1995 में जूते की कम्पनी टफ शूज्स के प्रिंट एड कानूनी मुसीबत में फंस गया था। इस एड में प्रसिद्ध मॉडल मिलिंद सोमन और मधु साप्रे को बिल्कुल नग्न अवस्था में दिखाया गया। आपत्तीजनक स्थिति में खड़े इन मॉडल के शरीर पर एक इंच कपड़े का टूकड़ा नहीं था। उनके शरीर पर अजगर को लिप्टा दिखाया गया था। इस विज्ञापन को दो पत्रिकाओं ने छापा था। मुंबई पुलिस की सामाजिक सेवा शाखा ने इन सभी के खिलाफ अगस्त 1995 में एक मामला दर्ज किया था और एक अन्य मामला अजगर के अवैध उपयोग के लिए विज्ञापन एजेंसी के खिलाफ वन्यजीव संरक्षण अधिनियम के तहत दर्ज किया गया था। मामला सालों तक खिंचता रहा और आखिरकार नवंबर 2009 में ही उन्हें बरी कर दिया गया।

    Gujarat: Tanishq के मैनेजर से लिखवाया माफीनामा, मिल रहे हैं धमकी भरे Call | वनइंडिया हिंदी
    2-वर्ष 1998: कालिदा इनर वियर विज्ञापन

    2-वर्ष 1998: कालिदा इनर वियर विज्ञापन

    साल 1998 में बिपासा बासु और डीनो मोरिया ने एक अंडरवियर के विज्ञापन में काम किया था।दोनों एक स्विजरलैंड की इनरवियर बनाने वाली कपनी कैलिडा के विज्ञापन में फिल्माए गए थे। उसमें दोनों ने बेहद बोल्ड पोज दिए थे। डीनो मोरिया ने बिपासा का अंडरवियर अपने दांतों से खींचा था और इस विज्ञापन का विरोध कुछ महिला संगठन ने किया, फिर इसे बैन कर दिया गया। तत्कालीन राज्य संस्कृति मंत्री रहे अनिल देशमुख ने भी इस पर आपत्ति जताई थी। आखिरकार विज्ञापन बैन कर दिया गया था। दिलचस्प बात यह है कि कानूनी परेशानी से बचने के लिए, बिपाशा बसु ने कथित तौर पर कहा कि यह एक विज्ञापन नहीं था,कुछ निजी क्षणों को कैमरे में कैद किया गया।

    3-वर्ष 2007: द वाइल्ड स्टोन विज्ञापन

    3-वर्ष 2007: द वाइल्ड स्टोन विज्ञापन

    यह विज्ञापन 2007 में प्रसारित किया गया। इस विज्ञापन में दुर्गा पूजा को दर्शाया गया था। एक पुरूष वाइल्ड स्टोन डियोंडरेंट लगाकर कमरे से निकलता है। जिसमें एक महिला टकराती है। इसके बाद दोनों को इंटीमेट करते दिखाया गया है। हालांकि यह उस महिला की कल्पना होती है। जैसे ही डियोंडरेंट की खुशबू खत्म होती है तो महिला वास्तविक दुनिया में होती है। विज्ञापन अपनी टैग लाइन को पूरी तरह स्पष्ट करता है। इस विज्ञापन की टेग लाइन 'वाइल्ड बाई नेचर' है। इस विज्ञापन के अंतिम भाग पर आंपत्ति जताई गई। सूचना व प्रसारण मंत्रालय ने इसके अंतिम भाग को प्रतिबंधित किया। विज्ञापन पूरी तरह प्रतिबंधित नहीं किया गया।

    4- अमूल माचो अंडरगारमेंटस

    4- अमूल माचो अंडरगारमेंटस

    विवादस्पद विज्ञापनों की लाइन में अमूल माचो अडंरगारमेंटस का विज्ञापन काफी चर्चा में रहा। बाद में विज्ञापन को विज्ञापन समिति ने बैन कर दिया।विज्ञापन को प्रतिबंधित किये जाने का प्रमुख कारण विज्ञापन का टैगलाइन रहा। विज्ञापन की टैग लाइन था - ये तो बड़ा टॉइन है। विज्ञापन में महिला एक पुरुष का अंडरवियर धो रही है और उसको शरारत के साथ एक इशारा करते हुए दिखाया गया है। ऐसा प्रतीत होता था कि वह महिला कुछ और ही इशारे कर रही है। यह इशारा अश्लील था। इस विज्ञापन को भारतीय इतिहास में सबसे अश्लील विज्ञापनों में से एक माना गया। हांलाकि कंपनी ने विज्ञापन के चलते सिर्फ सन् 2007 -2008 के बीच में ही 201 करोड़ का अतिरिक्त कारोबार किया था।

    5-वर्ष 2017: मैनफोर्स कंडोम का विज्ञापन

    5-वर्ष 2017: मैनफोर्स कंडोम का विज्ञापन

    गुजरात में पिछले महीने नवरात्रि के समय सनी लियोनी का कंडोम का एक विवादित विज्ञापन सामने आया था। उस विज्ञापन में गुजराती भाषा में लिखा था कि ‘इस नवरात्रि खेलो, मगर प्यार से।' विज्ञापन की इस टैगलाइन को लेकर कई धार्मिक संगठनों ने कड़ा ऐतराज जताया था। सोशल मीडिया पर भी सनी को इस विज्ञापन की वजह से ट्रोल होना पड़ा था। हालांकि इसके बाद सड़कों से इसके होर्डिंग्स भी हटा दिए गए थे लेकिन कॉन्ट्रोवर्सी के बाद कॉन्डम की सेल 35 फीसदी तक बढ़ गई थी। वहीं कंपनी की तरफ से जारी बयान में कहा गया, 'नवरात्र होर्डिंग कैंपेन का मकसद किसी की भावनाओं को ठेस पहुंचाना नहीं था और जल्द ही इसे हटा भी दिया गया है। हम इस घटना से गहरा अफसोस जताते हैं।

    सुशांत की बहन श्वेता सिंह ने डिलीट किया ट्विटर-इंस्टाग्राम अकाउंट, फैन्स हैं परेशान

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Not only Tanishq, these five advertisements have also created a stir in the country
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X