• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

पश्चिम बंगाल चुनाव से पहले 'नाबन्ना चलो' मार्च में उजागर हुई भाजपा की अंदरुनी कलह

|

कोलकाता। पश्चिम बंगाल में भाजपा कार्यकर्ताओं की हत्या के खिलाफ पिछले दिनों पार्टी के नेताओं ने सड़क पर उतरकर ममता सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया। राजधानी कोलकाता में जगह-जगह कार्यकर्ताओं द्वारा राज्य सरकार के खिलाफ प्रदर्शन किया गया। भाजपा कार्यकर्ता बड़ी संख्या में 'नाबन्ना चलो' आंदोलन कर रहे हैं लेकिन इस मार्च में भाजपा में दो फाड़ होता नजर आ रहा है। पार्टी के सूत्रों के अनुसार, यह पहली बार था कि राहुल सिन्हा ने पार्टी के राज्य-स्तरीय विरोध कार्यक्रम को छोड़ दिया था।

bjp

बता दें कोलकाता और हावड़ा में गुरुवार को पुलिस के साथ झड़प में भाजपा का विरोध मार्च में विधानसभा चुनाव के छह महीने पहले पार्टी में घुसपैठ को उजागर करता है। इस मार्च के पहले प्रारंभ में, यह योजना बनाई गई थी कि बैरकपुर के भाजपा सांसद अर्जुन सिंह राज्य के प्रमुख दिलीप घोष के साथ बुर्राबाजार क्षेत्र में पार्टी के मुख्यालय से विरोध मार्च में शामिल होंगे।

अर्जुन सिंह अपने समर्थकों के साथ बुर्राबाजार के बजाय हेस्टिंग पहुंचे

पार्टी ने चार अलग-अलग स्थानों- बुर्राबाजार, हेस्टिंग्स, सेंट्रल एवेन्यू और संतरागाछी से 'नाबन्ना चलो' मार्च राज्य सचिवालय तक एक साथ विरोध मार्च की योजना बनाई थी। हालांकि,अर्जुन सिंह, जो पहले तृणमूल कांग्रेस के साथ थे, अपने समर्थकों के साथ बुर्राबाजार के बजाय हेस्टिंग्स पहुंचे। तृणमूल के एक अन्य पूर्व नेता मुकुल रॉय जिन्‍हें हाल ही में भाजपा का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया था उनके नेतृत्व में वहां विरोध प्रदर्शन किया जा गया । तृणमूल के दो पूर्व नेता - शंकुदेव पांडा, सब्यसाची दत्ता - मुकुल रॉय के अलावा दो केंद्रीय नेता अरविंद मेनन और भाजपा के महासचिव बंगाल इकाई के प्रभारी कैलाश विजयवर्गीय जो दिल्ली से आए थे, शामिल हुए

विरोध मार्च का में वरिष्‍ठ नेताओं की कमी

भारतीय जनता युवा मोर्चा के नए नियुक्त प्रमुख और कर्नाटक से भाजपा सांसद तेजस्वी सूर्या हावड़ा मैदान में थे, जहां रैली का नेतृत्व सांसद और पूर्व टीएमसी नेता सौमित्र खान कर रहे थे। नतीजतन, दिलीप घोष हावड़ा ब्रिज के पास पार्टी के मुख्यालय से विरोध मार्च का नेतृत्व करने वाले एकमात्र वरिष्ठ नेता थे। ये मार्च पिछले एक वर्ष से अधिक समय में पहला पार्टी का सबसे बड़ा विरोध कार्यक्रम था जिसमें विशेष रूप से, पार्टी के वरिष्ठ नेता राहुल सिन्हा, जिन्हें हाल ही में पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव के पद से हटा दिया गया था, ने विरोध मार्च से नदरात रहे।

सिन्‍हा ने नहीं बताई मार्च में नहीं शामिल होने की वजह

पार्टी के सूत्रों के अनुसार, यह पहली बार था कि सिन्हा ने पार्टी के राज्य-स्तरीय विरोध कार्यक्रम को छोड़ दिया था। सिन्हा, जिन्होंने अपनी अनुपस्थिति पर टिप्पणी करने से इनकार कर दिया, केवल यह कहा कि वह घर पर थे। हालांकि, उन्होंने बीजेपी प्रदर्शनकारियों पर पुलिस कार्रवाई के लिए तृणमूल सरकार की खिंचाई करते हुए कुछ ट्वीट पोस्ट किए।

सिन्‍हा पहले जता चुके हैं नाराजगी

बता दें एक पखवाड़े पहले सिन्हा ने भाजपा की राष्ट्रीय टीम से बाहर किए जाने के बाद नाखुशी जाहिर की थी। उन्होंने कहा था '40 साल से मैंने भाजपा की सेवा की है। मैं हमेशा शुरू से ही पार्टी का एक सिपाही रहा हूं और आज, मुझे अपना पद छोड़ना होगा क्योंकि तृणमूल कांग्रेस के एक नेता आ रहे हैं। इससे ज्यादा दुर्भाग्यपूर्ण कुछ नहीं हो सकता है ... क्या यह इनाम है? " सिन्हा ने ट्वीट किया था और इस पर फैसला लेने की घोषणा की थी कि वह अगले 10-12 दिनों में पार्टी में रहेंगे या नहीं।

छह महीने से नर्स बनकर कोरोना मरीजों की सेवा करने वाली एक्‍ट्रेस भी हुईं संक्रमित, अस्‍पताल में भर्ती

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
'Nabanna Chalo' march exposed before West Bengal elections; Discord within BJP exposed
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X