राष्ट्रपति भवन के पीछे मिली 'रहस्यमय' मजार, पुलिस भी चौंकी

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। देश की राजधानी दिल्ली में राष्ट्रपति भवन के ठीक पीछे की तरफ जंगल में पुलिस को एक गुफानुमा मजार मिली है। इस गुफा के बारे में पुलिस को इससे पहले कोई जानकारी नहीं थी।

delhi police

दिल्ली पुलिस ने इस मजार से दो संदिग्ध लोगों को गिरफ्तार भी किया लेकिन गहन पूछताछ के बाद सबकुछ सामान्य मिलने पर दोनों को छोड़ दिया गया।

ये भी पढ़ें, लड़कियों के लिए भी जरूरी है हस्तमैथुन, एक भाई का बहन को खत

दरअसल, पुलिस की पेट्रोलिंग वैन शनिवार शाम को राष्ट्रपति भवन के पीछे के रोड से गुजर रही थी। उसी दौरान एक पुलिसकर्मी ने जंगल की दीवार फांदते हुए एक युवक को देखा।

मामला चुंकि राष्ट्रपति भवन से जुड़ा हुआ था, इसलिए पुलिस ने तुरंत एक्शन लेते हुए जंगल में तलाशी अभियान चलाया। तलाशी के दौरान ही पुलिस की टीम की नजर इस गुफानुमा मजार पर पड़ी।

Airtel, Vodafone और Idea के ग्राहकों के लिए बड़ी खुशखबरी, जरूर पढ़ें

इससे पहले पुलिस के पास इस मजार के बारे में कोई जानकारी नहीं थी। पुलिस को मजार के पास 70 वर्षीय गाजी नुरूल हसन और उनका बेटा मोहम्मद नूर मिले, जिन्हें पुलिस ने हिरासत में ले लिया।

पुलिस ने जब थाने लाकर दोनों से पूछताछ की तो नुरूल हसन ने बताया कि वह पिछले 42 साल से इस मजार पर रह रहा है और मजार पर आने वाले चढ़ावे से ही अपना गुजारा करता है।

नोटबंदी के बुरे असर से अब बीजेपी के अंदर भी चिंताएं

पुलिस के मांगने पर उसने अपना मतदाता पहचान पत्र सहित कई और दस्तावजे भी दिखाए। हालांकि नुरूल हसन को आस-पास के लोग नहीं जानते। उसने बताया कि वह जड़ी-बूटी की तलाश में यहां आया था।

उसने बताया कि इस दौरान उसे यह मजार मिली और फिर वो वहीं रहने लगा। नुरूल हसन ने यह भी बताया कि वह पूर्व राष्ट्रपति फखरूद्दीन अली अहमद के लिए धार्मिक उपदेश देता था।

हालांकि दिल्ली पुलिस ने बताया कि यह सुरक्षा से जुड़ा एक रूटीन अभ्यास था।

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
delhi police found a mazar behind president house, detain 70 year old maulvi.
Please Wait while comments are loading...