'जब मैं बना पीएम तो प्रणब थे अपसेट, लेकिन मेरे पास नहीं था कोई रास्ता': ManMohan Singh

Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली। साल 2004 में, सोनिया जी ने मुझे प्रधानमंत्री बनने का चुना। प्रणब जी मेरे सबसे प्रतिष्ठित सहयोगी थे। यह बात पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने कही। मनमोहन सिंह पूर्व राष्ट्रपति प्रणब मुखर्जी के पुस्तक विमोचन कार्यक्रम को संबोधित कर रहे थे। मनमोहन सिंह ने कहा कि उनके पास शिकायत करने का हर कारण था कि वह प्रधान मंत्री बनने की तुलना में मुझसे योग्य थे लेकिन उन्हें यह भी पता था कि मेरे पास कोई विकल्प नहीं है। उन्होंने कहा कि इसके बाद हमारे रिश्ते में निखार आया। हमने सरकार को एकजुट टीम के रूप में चलाया जिनमें से प्रणब मुखर्जी सबसे महत्वपूर्ण सदस्य थे। मनमोहन ने कहा कि जब मैं पीएम बना तो प्रणब अपसेट थे,लेकिन मेरे पास कोई रास्ता नहीं था। प्रणब राजनीतिक लिहाज से मुझसे हर जगह वरिष्ठ थे।' मनमोहन के यह कहने पर कार्यक्रम में मौजूद कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी मुस्कुरा उठीं।

'When I made PM, Pranab was upset, but I did not have any way' Manmohan Singh

मनमोहन सिंह ने कहा कि मैं राजनीति में संयोग से आया था और प्रणब मुखर्जी अपनी पसंद से आए थे। इस मौके पर प्रणब मुखर्जी ने भी सरकार में अपने अनुभवों को याद किया। उन्होंने कांग्रेस पार्टी को अपने आप में एक गठबंधन बताया, जिसमें कई विचार हैं। सीताराम येचुरी ने कहा कि प्रणब दादा घटक दलों से बात करते थे और कई बार बहुत जल्दी नाराज हो जाते थे।

ये भी पढ़ें: मनमोहन सिंह पर बनने वाली फिल्म में विदेशी एक्टर्स निभाएंगे सोनिया और राहुल गांधी का किरदार

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
'When I made PM, Pranab was upset, but I did not have any way' Manmohan Singh

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.