• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

लोकसभा चुनावों में राज की हालत 'बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना' जैसी

|
Google Oneindia News

मुंबई शुक्रवार को जो चुनावी नतीजे सामने आये उससे यह साबित हो गया कि देश की जनता अब किसी से डरने वाली नहीं है उसे पता है कि गंदी और जहरीली राजनीति करने वालों का हश्र क्या करना है जिसका ताजा उदाहरण है इस चुनाव में मनसे का खाता ना खुलना।

<strong>जानिए कौन-कौन से फिल्मी सितारे पहुंचे लोकसभा</strong>जानिए कौन-कौन से फिल्मी सितारे पहुंचे लोकसभा

हमेशा जहर उगलने वाली राज ठाकरे की पार्टी महाराष्ट्र नवनिर्माण सेना (मनसे) की तोड़फोड़ वाली राजनीति को महाराष्ट्र की जनता ने 16वें लोकसभा चुनाव में सिरे से ठुकरा दिया। महाराष्ट्र में मनसे को जो भी मत मिले उससे राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) और कांग्रेस गठबंधन के ही वोट काटने वाले साबित हुए।

जब मीडिया ने इस हश्र का कारण जानना चाहा तो मुंबई के स्थानीय नागरिको ने कहा कि "यह तो होना ही था, क्योंकि मनसे क्षेत्रीयतावाद और प्रांतीयतावाद की संकीर्ण राजनीति कर रही थी, जो पूरी तरह विफल रही। मनसे की सबसे बड़ी हार तो यह है कि खुद को बाल ठाकरे की विरासत बताने वाले उसके दावे को जनता ने झुठला दिया, और उद्धव ठाकरे को सही मायने में वह विरासत सौंप दी।

महाराष्ट्र में भाजपा की गठबंधन सहयोगी रिपब्लिकन पार्टी ऑफ इंडिया (आरपीआई) के एक वरिष्ठ नेता ने कहा, "अगर आप महाराष्ट्र में राजनीति करना चाहते हैं, तो आपको उद्धव ठाकरे से मिलकर चलना होगा।"

मनसे के सामने महाराष्ट्र में अक्टूबर में होने वाले विधानसभा चुनाव तक कम से कम अपने कार्यकर्ताओं को बांधे रखना होगा, क्योंकि उनमें से अधिकांश शिव सैनिक ही हैं, जो असंतुष्ट होकर मनसे में आए।

मुंबई में कांग्रेस के एक नेता ने कहा, "राज के लिए तो वही स्थिति हो गई है कि 'बेगानी शादी में अब्दुल्ला दीवाना' । उनकी पार्टी को भविष्य में महाराष्ट्र की राजनीति में किंगमेकर के रूप में देखा जाने लगा था, उसकी राजनीतिक जमीन अब सिकुड़ कर रह गई है।"

मौजूदा राजनीतिक घटनाक्रम पर टिप्पणी करने से बचते हुए मनसे के उपाध्यक्ष वागीश सारस्वत ने अपनी पार्टी के भाजपा के साथ किसी तरह के समझौते की बात से इनकार कर दिया। "हमने सभी उम्मीदवार जीतने के इरादे से खड़े किए थे..हम जनता के जनादेश को विनम्रतापूर्वक स्वीकार करते हैं। हम हमेशा से राजनीति में अकेले थे और आगे भी अपने दम पर ही राजनीति करेंगे।"

English summary
Raj Thackeray's MNS not yield a single seat in the Maharashtra , its nominees came a poor third in most constituencies, with many losing their deposits and the party forfeiting its clout in the city.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X