• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

सरकारी बंगला और एसपीजी सुरक्षा नहीं चाहता वाजपेयी का परिवार, पीएमओ को लिखी चिट्ठी

|

नई दिल्ली। दिवंगत पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी के परिवार ने सरकारी सुविधाएं त्यागने का फैसला किया है। पूर्व प्रधानमंत्री की गोद ली हुई बेटी नमिता भट्टाचार्य ने पीएमओ को चिट्ठी लिख वाजपेयी को आवंटित कृष्णा मेनन मार्ग बंग्ला और सीपीजी सुरक्षा त्यागने की बात कही है। परिवार का कहना है कि वो सरकारी खजाने पर व्यर्थ में भार नहीं डालना चाहते। बता दें कि अटल बिहारी वाजपेयी का परिवार होने के नाते उन्हें सरकारी घर और एसपीजी सुरक्षा सरकार की तरफ से मिली हुई है।

Namita Bhattacharya

नमिता भट्टाचार्य ने पीएमओ को इस सिलसिले में चिट्ठी लिखी है। चिट्ठी में उन्होंने वाजपेटी को आवंटित कृष्णा मेनन मार्ग पर स्थित सरकारी बंगला 6-ए और भट्टाचार्य को मिली एसपीजी सुरक्षा को त्यागने की बात कही है। वो अब और लुटेयंस दिल्ली के इस घर में नहीं रहना चाहतीं।

राम मंदिर का मुद्दा मोदी को संकट में डालेगा या संकट से निकालेगा: नजरिया

नमिता भट्टाचार्य और उनका परिवार जल्द ही अपने घर में शिफ्ट हो जाएगा। इसके अलावा उन्होंने सरकार से एसपीजी सुरक्षा लेने का भी निवेदन किया है। पूर्व प्रधानमंत्री के परिवार को सरकार एसपीजी की सुरक्षा मुहैया कराती है।

वाजपेयी के परिवार में उनकी दत्तक पुत्री नमिता भट्टाचार्य, उनके पति रंजन भट्टाचार्य और दोनों की बेटी निहारिका हैं। ये परिवार वाजपेयी के साथ इसी घर में रहता था। रंजव भट्टाचार्य ने वाजपेटी के साथ पीएमओ में ओएसडी के तौर पर काम भी किया है। पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेयी का 16 अगस्त को दिल्ली के एम्स अस्पताल में लंबी बीमारी के बाद निधन हो गया था।

टीवी पर प्रचार-प्रसार में भाजपा पहले नंबर पर, Netflix और अमेजन को भी छोड़ा पीछे

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Late PM Atal Bihari Vajpayee's Family Decides To Leave Official Bunglow And SPG Protection.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X