• search

पीपीएफ पर फिर घटा ब्याज, अच्छे रिटर्न के लिए कहां करें निवेश

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    पीपीएफ
    Reuters
    पीपीएफ

    सरकार ने पब्लिक प्रॉविडेंट फंड यानि पीपीएफ और कुछ दूसरी लघु बचत योजनाओं पर मिलने वाले ब्याज दर में 0.2 फीसदी की कटौती की है.

    पहले पीपीएफ पर 6.8 प्रतिशत की दर से ब्याज मिलता था जो अब घट कर 6.6 प्रतिशत रह जाएगा.

    अगर आपके पीपीएफ में एक लाख रुपये हैं तो अब साल में आपको दो सौ रुपये का नुकसान होगा, यानी पहले आपको एक साल में ब्याज के रूप में 6800 रुपये मिलते थे, तो अब आपको 6600 रुपये मिलेंगे.

    इसी तरह पांच लाख की रक़म पर सालाना एक हज़ार रुपये का नुकसान होगा. पीपीएफ में पैसा लंबे समय के लिए रखा जाता है. आर्थिक मामलों के जानकार आलोक पुराणिक के मुताबिक़ दस साल में पांच लाख की रक़म पर 14,000 से 15,000 रुपये तक का नुकसान हो सकता है.

    पीपीएफ
    Thinkstock
    पीपीएफ

    क्यों कम हो रही हैं दरें?

    ये पहली बार नहीं है जब सरकार ने इन योजनाओं में मिलने वाले ब्याज में कटौती की है. आलोक पुराणिक के मुताबिक़ ब्याज की दरें मुद्रास्फीति के हिसाब से घटती-बढ़ती हैं.

    वो कहते हैं, "मुद्रास्फीति लगातार घट रही हैं, तो इसका मतलब है कि ब्याज की दरों को भी घटाना पड़ेगा. रिजर्व बैंक ऑफ इंडिया भी लगातार ब्याज दरों में कटौती करने के पक्ष में है, इसलिए ये उम्मीद की जानी चाहिए कि भविष्य में भी ब्याज की दरों में कटौती जारी रहेगी."

    पीपीएफ
    AFP
    पीपीएफ

    कहां करें निवेश?

    पुराणिक के मुताबिक़ अगर आम लोग अच्छा रिटर्न चाहते हैं तो उन्हें म्यूचुअल फंड में निवेश करना चाहिए.

    आलोक पुराणिक कहते हैं, "अगर आप सही तरीके से निवेश करते हैं तो आपको 12 से 16 प्रतिशत तक का रिटर्न मिल सकता है. ये पीपीएफ और इसी तरह की दूसरी योजनाओं से बहुत ज़्यादा हैं."

    पुराणिक के मुताबिक़ नेशनल पेंशन स्कीम में भी निवेश करना एक अच्छा फ़ैसला हो सकता है. वो कहते हैं, "इस स्कीम के तहत आप ये फ़ैसला कर सकते हैं कि कितनी रकम आप म्यूचुअल फंड में डालना चाहते हैं और कितनी दूसरी योजनाओं में."

    पीपीएफ सहित कई स्कीम की ब्याज दरों में कटौती

    नीलेकणी की पीठ ठोक कर फँस गए जेटली

    क्या म्यूचुअल फंड में निवेश करना ख़तरनाक नहीं है?

    म्यूचुअल फंड में निवेश को लेकर अक्सर लोगों को डर बना रहता है, लेकिन पुराणिक का मानना है कि इस डर का कारण अज्ञानता है.

    पुराणिक के मुताबिक़, "रिस्क किस निवेश में नहीं होता है, ज़रूरत होती है थोड़ी सावधानी की और जब हम एक लंबे समय के लिए निवेश की बात करते हैं तो म्यूचुअल फंड में उतना जोखिम नहीं है जितना लोग समझते है.

    वो कहते हैं, "किसी कंपनी को नुकसान होता है तो कभी फ़ायदा. म्यूचुअल फंड के माध्यम के कई कंपनियों में निवेश किया जाता है, तो लंबे समय में आपको अच्छा रिटर्न मिलने की गुंजाइश होती है."

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Interest on PPF interest rates good returns investment

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X