• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

दिल्ली-NCR में झमाझम बारिश, तेलंगाना में भी बदला मौसम, IMD ने मानसून को लेकर कही बड़ी बात

|

नई दिल्ली। भीषण गर्मी से जूझ रहे भारत के कई राज्यों में आज बारिश हुई है, दिल्ली-एनसीआर समेत उत्तर प्रदेश के अलग-अलग इलाकों में मेघ बरसे हैं, जिससे तापमान में गिरावट दर्ज की गई है, आईएमडी में अपने ताजा बुलेटिन में कहा है कि आज दिल्ली-एनसीआर में यूं ही मौसम रहने वाला है और देर शाम को 30 से 80 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से हवाएं चल सकती हैं, जबकि नारनौल, अलवर, महेंद्रगढ़, कोसली, बावल, रेवाड़ी, भिवारी, चरखादरी, मातनहेल, झज्जर, रोहतक, खरखौदा, के आसपास और आसपास के क्षेत्रों में भी तेज हवाएं और आंधी बारिश का अनुमान है।

इन जगहों पर बरसे हैं बादल

इन जगहों पर बरसे हैं बादल

मौसम विभाग के मुताबिक सोनीपत, गोहाना, गन्नौर, बागपत, बड़ौत, मोदीनगर, मेरठ, फतेहाबाद, आदमपुर, नरवाना, कैथल, कुरुक्षेत्र, करनाल, पानीपत, शामली, हिसार, हांसी, मेहम, भिवानी, जींद, लोहारू, सादुलपुर, पिलानी, सोहना, होडल, पलवल, मानेसर, गुरुग्राम, फरीदाबाद, बहादुरगढ़ और झज्जर और दक्षिण-पश्चिम के कुछ स्थानों पर और भारी बारिश की आशंका है, तो वहीं आज मुजफ्फरनगर, मुरादाबाद, रामपुर, बरेली, पीलीभीत, बदायूं, संभल, अमरोहा, बुलंदशहर, अलीगढ़, एटा, कासगंज, फर्रूखाबाद, शाहजहांपुर, लखीमपुर खीरी और आसपास के इलाकों में भी बारिश हुई है।

यह पढ़ें: सोनू सूद से यूजर्स ने कहा-अकेले कर रहा घर का सारा काम, छोटा भाई ससुराल में फंस गया..., जानिए एक्टर ने क्या कहा?

तेलंगाना-छत्तीसगढ़ में हुई जमकर बारिश

यही नहीं रविवार को तेलंगाना के विभिन्न हिस्सों सहित हैदराबाद में झमाझम बारिश हुई है, बारिश होते ही पारा गिरकर 31 डिग्री पहुंच गया। भीषण गर्मी में बरसात ने लोगों को सुकून का अहसास कराया। बता दें कि अगले 10 दिनों तक तेलंगाना का पारा 35-36 डिग्री के आस पास होगी। आंध्र प्रदेश और तेलंगाना में अगले एक दो दिनों के भीतर ॉऐसी ही जोरदार बारिश जारी रहेगी, इस दौरान 30-40 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चल सकती है।

अभी नहीं पहुंचा मानसून: IMD

देश में हो रही अलग-अलग बारिश के बीच भारतीय मौसम विभाग ने मानसून को लेकर अहम जानकारी दी है, उसने कहा है कि मानसून अभी तक केरल तट पर नहीं पहुंचा है। हम नियमित रूप से इसकी निगरानी कर रहे हैं। हम अपने पहले के पूर्वानुमान के साथ आगे बढ़ रहे हैं कि मानसून 1 जून को आएगा, जबकि मौसम की भविष्यवाणी करने वाली निजी एजेंसी स्काईमेट ने कहा था कि मानसून ने केरल में दस्तक दे दिया है।

स्काईमेट ने किया था ये Tweet

स्काईमेट ने किया था ये Tweet

स्काईमेट ने शनिवार को ट्वीट करते हुए मानसून के केरल पहुंचने की जानकारी दी, उसने ट्वीट में कहा कि आखिरकार साल 2020 का दक्षिण-पश्चिमी मानसून भारत की धरती पर पहुंच गया है। मानसून ने तय तारीख से पहले ही केरल में दस्तक दे दी है। सभी तरह की शुरुआती स्थितियां जिनमें बारिश, ओएलआर वैल्यू, हवा की रफ्तार आदि मेल खा रही हैं। आखिरकार भारतीयों के लिए चार महीने तक चलने वाला उत्सव शुरू हो गया है। हैप्पी मानसून।'

जानिए आखिर 'मानसून' कहते किसे हैं?

मानसून मूलतः हिंद महासागर एवं अरब सागर की ओर से भारत के दक्षिण-पश्चिम तट पर आनी वाली हवाओं को कहते हैं जो भारत, पाकिस्तान, बांग्लादेश आदि में भारी वर्षा करातीं हैं। ये ऐसी मौसमी पवन होती हैं, जो दक्षिणी एशिया क्षेत्र में जून से सितंबर तक, प्रायः चार माह सक्रिय रहती है। इस शब्द का प्रथम प्रयोग ब्रिटिश भारत में (वर्तमान भारत, पाकिस्तान एवं बांग्लादेश) एवं पड़ोसी देशों के संदर्भ में किया गया था। ये बंगाल की खाड़ी और अरब सागर से चलने वाली बड़ी मौसमी हवाओं के लिये प्रयोग हुआ था, जो दक्षिण-पश्चिम से चलकर इस क्षेत्र में भारी वर्षाएं लाती थीं। हाइड्रोलोजी में मानसून का व्यापक अर्थ है- कोई भी ऐसी पवन जो किसी क्षेत्र में किसी ऋतु-विशेष में ही अधिकांश वर्षा कराती है।

यह पढ़ें: Uttarakhand: कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज की पत्नी निकलीं कोरोना पॉजिटिव, मचा हड़कंप

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Water logging in parts of Hyderabad, Delhi-NCR after heavy rainfall lashed the city earlier today and Thunderstorm expected in Utttar Pradesh and South India in next Few Hours Says Imd.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X
We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more