• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

'हम राजनीति के शिकार थे', बिलकिस केस में जेल से रिहा हुए दोषी का दावा

|
Google Oneindia News

अहमदाबाद, 16 अगस्त: साल 2002 के गुजरात दंगों के दौरान बिलकिस बानो के साथ सामूहिक दुष्कर्म और उनके परिवार के 7 सदस्यों की हत्या से जुड़े मामले में 11 दोषियों को रिहा कर दिया गया है। सभी अभियुक्तों15 साल से ज्यादा वक्त तक जेल में सजा काट रहे थे। वहीं अब 11 दोषियों में से एक दोषी शैलेश भट्ट ने दावा किया कि वे "राजनीति के शिकार" थे। जेल से रिहा होने के एक दिन बाद शैलेश भट्ट की बिलकिस केस में प्रतिक्रिया आई है।

 Gujarat Bilkis case

63 वर्षीय शैलेश भट्ट, जिन्होंने कहा कि वह सत्तारूढ़ भाजपा के एक स्थानीय पदाधिकारी थे, जब उन्हें गिरफ्तार किया गया था और उनके भाई और सह-दोषी मितेश सहित अन्य लोग गोधरा जेल से बाहर निकलने के बाद गुजरात के दाहोद जिले के सिंगोर गांव के लिए रवाना हो गए।

सभी दोषियों को आजीवन कारावास की सजा सुनाई गई, उन्हें गुजरात सरकार की छूट नीति के तहत 15 साल से अधिक की जेल पूरी करने के बाद सोमवार को रिहा कर दिया गया था। इंडियन एक्सप्रेस से बात करते हुए शैलेश भट्ट ने कहा, "सिंगोर एक छोटा सा गांव है। सभी दोषी इसी गांव के हैं। हम सभी राजनीति के शिकार थे।" उन्होंने कहा कि वह एक किसान थे और भाजपा की जिला इकाई के पदाधिकारी भी थे, जबकि उनके भाई ने पंचमहल डेयरी में क्लर्क के रूप में काम किया था, जब उन्हें गिरफ्तार किया गया था।

उन्होंने बताया, "हमें 2004 में गिरफ्तार किया गया था और 18 साल से अधिक समय तक जेल में रहे। अपने परिवार के सदस्यों के साथ घर में रहना अच्छा लगता है। हर कोई खुश है कि हम वापस आ गए हैं। मेरा बेटा तब आठ या नौ साल का था, अब वह एक वयस्क है और पंचमहल डेयरी के साथ काम करता है। मैं उसके लिए खुश हूं।" 2007 में जब वे जेल में थे तब उनकी मां का देहांत हो गया था। उन्होंने कहा कि अदालत ने उनका अंतिम संस्कार करने के लिए उन्हें अंतरिम जमानत दी थी।

Bilkis Bano: सामूहिक बलात्कार मामले में गुजरात सरकार का फैसला, सभी 11 कैदियों को उम्रकैद की सजा से 'आजादी'Bilkis Bano: सामूहिक बलात्कार मामले में गुजरात सरकार का फैसला, सभी 11 कैदियों को उम्रकैद की सजा से 'आजादी'

वहीं एक अन्य दोषी राधेश्याम शाह ने सोमवार को अपनी रिहाई के बाद कहा था कि वे सभी निर्दोष हैं। उन्होंने मीडिया के सामने दावा किया था, "कुछ विचारधारा में हमारे विश्वास के कारण हमें फंसाया गया था।" उन्होंने कहा कि उनमें से एक की सुनवाई के दौरान मौत हो गई, जबकि कुछ अन्य ने अपनी पत्नियों को अपनी कैद के दौरान खो दिया। आपको बता दें कि इस मामले में जिन दोषियों को रिहाई मिली है, उनमें जसवंतभाई नाई, गोविंदभाई नाई, शैलेष भट्ट, राधेश्याम शाह, बिपिन चंद्र जोशी, केसरभाई वोहानिया, प्रदीप मोरधिया, बाकाभाई वोहानिया, राजूभाई सोनी, मितेश भट्ट और रमेश चंदाना शामिल हैं।

Comments
English summary
Gujarat Bilkis case convict who was released from Godra Jail said that he was victim of politics
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X