• search

डीएम के भाई के 'रोडरेज' में एक की गई जान?

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts
    रोडरेज
    Getty Images
    रोडरेज

    छत्तीसगढ़ में एक ज़िले की कलेक्टर और महिला आईएएस अधिकारी के भाई पर आरोप है कि उन्होंने बाइक सवार युवकों के ओवरटेक करने पर अपने साथियों के साथ मिल कर मारपीट की.

    उन्हें चाकू घोंपा और इतने पर भी मन नहीं भरा तो उन्हें कथित रूप से अपनी कार से बांध कर घसीटा.

    रोड रेज की इस घटना में एक युवक की मौत हो गई जबकि दूसरा युवक गंभीर रूप से घायल हो गया.

    पुलिस ने इस मामले में दो लोगों को गिरफ़्तार किया है जबकि महिला कलेक्टर का भाई वरुण कौशल अभी फ़रार बताया जा रहा है.

    रायपुर के पुलिस अधीक्षक (सिटी) विजय अग्रवाल ने कहा, "पूरे मामले की जांच चल रही है. गिरफ़्तार किए गए दोनों लोगों ने अपना अपराध कबूल कर लिया है. जल्दी ही फ़रार लोगों को भी गिरफ़्तार कर लिया जाएगा."

    रोडरेज
    Alok Putul/BBC
    रोडरेज

    नया रायपुर के पास...

    इस बीच हत्या के संदिग्ध वरुण कौशल की बहन और सरगुजा ज़िले की कलेक्टर किरण कौशल ने दावा किया है कि वे पिछले आठ सालों से अपने भाई के साथ संपर्क में नहीं हैं और भाई से उनका कोई रिश्ता नहीं है.

    2009 बैच की आईएएस अधिकारी किरण कौशल ने कहा कि भाई की आपराधिक गतिविधियों से उनका नाम जोड़ा जाना सही नहीं है.

    पुलिस के अनुसार पिछले रविवार को रायपुर में बीएसएफ़ के कार्यालय का निर्माण कर रही एक निजी कंपनी का सुपरवाइज़र 24 साल का तुहिन मलिक अपने एक दोस्त अलंकार पॉल के साथ अपने परिचित के यहां खाना खाने जा रहा था.

    रास्ते में नया रायपुर के पास उन्होंने एक कार को ओवरटेक किया. इससे नाराज़ कार सवार वरुण कौशल, अभिषेक नागवंशी, अभिलाष नागवंशी और समीर साहू ने कार की गति तेज़ की और बाइक के सामने कार अड़ा दी.

    इसके बाद बाइक सवार दोनों युवकों के साथ मारपीट शुरू कर दी.

    रोडरेज
    Alok Putul/BBC
    रोडरेज

    जांच चल रही है...

    इस घटना में घायल अलंकार पॉल ने कहा, "उन्होंने जब हमारा पीछा किया तो हमने उनकी कार से बचने के लिए दूसरी सड़क पर अपनी बाइक घुमा दी. फिर भी उन्होंने हमारा पीछा किया और बाइक को पीछे से टक्कर मार कर गिराने की भी कोशिश की."

    "बाद में उन्होंने तेज़ गति से कार चला कर हमारी बाइक के सामने अपनी कार खड़ी की और हमारे साथ बुरी तरीक़े से मारपीट शुरू कर दी. मुझ पर और तुहिन पर चाकुओं से भी वार किया गया."

    घटना की ख़बर अलंकार पॉल ने अपने कुछ दोस्तों को दी, जिसके बाद तुहिन को अस्पताल ले जाया गया, जहां उनकी मौत हो गई.

    पुलिस ने इस मामले में जांच की और फिर संदिग्धों में से दो लोगों को गिरफ्तार किया जिसके बाद पता चला कि हत्या के इस मामले में सरगुजा की कलेक्टर किरण कौशल के भाई वरूण कौशल भी शामिल हैं. हालांकि पुलिस के अनुसार दो संदिग्ध वरुण कौशल और समीर साहू अभी फ़रार बताए जा रहे हैं.

    पुलिस का कहना है कि आईएएस अधिकारी और सरगुजा ज़िले की कलेक्टर किरण कौशल के भाई वरुण कौशल के ख़िलाफ़ पहले भी कई गंभीर मामले दर्ज़ किए जा चुके हैं जिनमें हत्या की कोशिश के तीन अलग-अलग मामले भी शामिल हैं.

    राजधानी रायपुर में वरुण कौशल के ख़िलाफ़ कम से कम सात गंभीर मामले दर्ज़ हैं, जिनमें जांच चल रही है.

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    BBC Hindi
    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    DMs brothers RoadRage has been a lost one

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X