• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

Coronavirus: ईरान के कूम में आज भारत खोलेगा पहला क्लीनिक, स्‍क्रीनिंग के बाद देश आएंगे भारतीय

|

नई दिल्‍ली। भारत, ईरान में फंसे अपने 1200 नागरिकों की टेस्टिंग के लिए आज शाम तक पहला क्‍लीनिक तैयार कर लेगा। विदेश मंत्री एस जयशंकर ने यह जानकारी दी है। उन्‍होंने बताया है कि गुरुवार तक भारत से एक मेडिकल टीम ईरान की कूम सिटी पहुंचेगी। यहां पर पहला क्‍लीनिक खोला जाएगा। कोरोना वायरस की वजह से ईरान में अब तक करीब 80 लोगों की मौत हो चुकी है। कूम इस देश का सबसे प्रभावित हिस्‍सा है और यहीं पर सबसे ज्‍यादा केस दर्ज किए गए हैं।

corona-india-150

यह भी पढ़ें- Indian Army के मेजर के Coronavirus सैंपल निगेटिव

ईरान में होगी भारतीयों की स्‍क्रीनिंग

विदेश मंत्री जयशंकर ने बताया कि कूम के क्‍लीनिक में भारतीयों की स्‍क्रीनिंग शुरू की जाएगी। उन्‍होंने यह जानकारी भी दी है कि भारत सरकार ईरान की अथॉरिटीज के साथ लॉजिस्टिक्‍स पर काम कर रही है ताकि यहां पर कोरोना वायरस की वजह से फंसे भारतीयों को निकाला जा सके। ईरान में जो भारतीय हैं उनमें से सबसे ज्‍यादा छात्र और तीर्थयात्री हैं और भारत इन्‍हें निकालने से पहले कोरोना वायरस की टेस्टिंग कराने पर विचार कर रहा है। बुधवार को केंद्रीय स्‍वास्‍थ्‍य मंत्री हर्ष वर्धन की तरफ से भी इस तरफ इशारा किया गया था। अभी तक ईरान की सरकार की तरफ से इस बात की मंजूरी भारत को नहीं मिली है। बुधवार को केंद्रीय स्वास्‍थ्‍य हर्षवर्धन ने बताया था कि कि अगर ईरान की सरकार हमें मदद करती हैं तो एक टेस्टिंग फैसिलिटी को शुरू किया जा सकता है। ताकि भारत लाने से पहले वहां पर भारतीयों की टेस्टिंग की जा सके।' नेशनल इंस्‍टीट्यूट ऑफ वायरोलॉजी (एनआईवी) के वैज्ञानिक को पुणे से ईरान भेजा गया है। जबकि काउंसिल ऑफ इंडियन मेडिकल रिसर्च (आईसीएमआर) की तरफ से तीन वैज्ञानिक बुधवार को शाम चार बजे ईरान रवाना हुए हैं।

बेहाल हो रहे हैं ईरान में हाल

ये वैज्ञानिक वहां पर जाकर टेस्टिंग फैसिलिटी के लिए मौजूद सुविधाओं का जायजा लेंगे ताकि 1200 भारतीयों की टेस्टिंग की जा सके। हर्ष वर्धन ने बताया कि भारत लगातार ईरान की सरकार के संपर्क में हैं। वहां की सरकार पहले से ही दबाव में है क्‍योंकि लगातार संक्रमण बढ़ रहा है। ऐसे में भारत की प्राथमिकता है कि वह अपने लोगों को जल्‍द से जल्‍द देश वापस ला सके। हर्षवर्धन ने कहा कि ईरान में तेजी से केसेज में इजाफा हो रहा है और ऐसे में भारत को इस पूरी प्रक्रिया में ज्‍यादा सावधानी बरतने की जरूरत है। उन्‍होंने बताया कि इस प्रक्रिया में कम से चार से पांच दिन का समय लग सकता है। इसके बाद ही पता चल सकेगा कि भारत अपने नागरिकों की टेस्टिंग कर सकेगा या नहीं। भारत ने अब तक जापान और चीन के वुहान से कोरोना वायरस के बीच ही 881 लोगों को निकाला है।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Coronavirus: Indian medical team to reach Iran today 1st clinic at Qom likely to be set up by evening.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X