• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

दंगाईयों ने जला डाला BSF जवान का घर, कहा-आओ पाकिस्तानी, देते हैं नागरिकता

|

नई दिल्ली। राजधानी दिल्ली के उत्तर-पूर्वी हिस्से में भड़के दंगों में 40 से ज्यादा लोगों की मौत हो गई और 200 से ज्यादा लोग घायल हुए हैं। भले ही पिछले 36 घंटों से हिंसा थमी हुई है लेकिन अब तवाही के कई सहमा देने वाले किस्से सामने आ रहे हैं। हिंसा के दौरान उत्तर पूर्वी दिल्ली में भीड़ ने बॉर्डर सिक्योरिटी फोर्स (बीएसएफ) के जवान का घर तक नहीं बख्शा। उसके घर के आगे बीएसएफ की नेम प्लेट तक लगी थी। वह उसके घर खाक होने से नहीं बचा पाई।

दंगाईयों ने जला दिए सारे घऱ

दंगाईयों ने जला दिए सारे घऱ

दिल्ली के खजूरी खास इलाके की, जहां भड़के दंगों में 25 फरवरी को दंगाइयों ने एक मोहल्ले में रहने वाले सभी मुसलमानों के घरों को जला दिए थे। इन्हीं घरों के बीच मकान नंबर 76 बीएसएफ के जवान मोहम्मद अनीस का भी था, जिसे दंगाइयों ने पूरी तरह राख कर दिया। भीड़ ने पहले घर के बाहर खड़ी कारों में आग लगाई, फिर कुछ देर तक भीड़ ने घर पर पथराव किया। हिंसक भीड़ ने अनीस के घर में सिलेंडर फेंक कर कहा- 'इधर आ पाकिस्तानी, तुझे नागरिकता देते हैं।

अनीस तीन साल तक जम्मू और कश्मीर में तैनात रह चुके हैं

अनीस तीन साल तक जम्मू और कश्मीर में तैनात रह चुके हैं

अनीस के साथ उनके 55 वर्षीय पिता मोहम्मद मुनीस, 59 वर्षीय चाचा मोहम्मद अहमद और 18 वर्षीय चचेरी बहन नेहा परवीन घर में थे। आगे किसी भी अनहोनी की आशंका को देखते हुए वह किसी तरह अपने घर से बार निकले और पैरामिलिट्री फोर्स ने उनकी मदद की। साल 2013 में बीएसएफ में भर्ती हुए अनीस तीन साल तक जम्मू और कश्मीर में तैनात रह चुके हैं, लेकिन दंगाइयों के लिए अनीस के राष्ट्रवादी होने के लिए ये भी काफी नहीं था।

अनीस की अगले महीने होनी थी शादी

अनीस की अगले महीने होनी थी शादी

घर के चारदीवारी के अवशेष अब खड़े हैं जहां तीन दिन पहले तक एक सुंदर घर था। अनीस के घर के पास खजूरी खास की दो गलियों में 35 घरों में आग लग गई थी। केवल एक मुस्लिम परिवार का घर ही इस हिंसा में बचा है। अनीस के घर में दो शादियां होनी थीं। पहली उनकी बहन नेहा परवीन की अप्रैल में शादी होनी थी और अनीस को अगले महीने शादी करनी थी। परिवार ने कहा, 'हमारी जिंदगी भर की जमा-पूंजी, जेवरात, दो सोने के हार, चांदी के गहने सब कुछ चला गया।

सारा जेवर और जमा पूंजी नष्ट कर दी

सारा जेवर और जमा पूंजी नष्ट कर दी

उन्होंने कहा, हमने किस्तों पर जेवर खरीदे थे। हर महीने पैसे देते थे। शादी की व्यवस्था के लिए 3 लाख नकद भी अन्य कीमती सामान के साथ जल गए। खजूरी खास एक हिंदू बहुल क्षेत्र है, लेकिन अनीस के परिवार का कहना है कि उनका कोई भी पड़ोसी हमले में शामिल नहीं था। उन्होंने कहा, 'लोग बाहर से आए थे। उन्होंने बताया कि, उनके पड़ोसियों ने उनके घर को बचाने की भी कोशिश की थी।

दिल्ली हिंसा में खत्म हुई असगरी के घर की खुशियां, GTB अस्पताल में पड़े हैं आमिर और हाशिम के शव

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
BSF Jawan’s House Burned Down in Khajuri Khas by Rioters delhi violence
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X