Gurdaspur Lok Sabha bypoll: क्यों हारी भाजपा, जानिए 5 कारण, जो खुद बीजेपी नेताओं ने बताए

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

चंडीगढ़। गुरदासपुर लोकसभा सीट उपचुनाव में भाजपा को करारा झटका लगा है, इस सीट पर कांग्रेस कैंडिडेट सुनील जाखड़ ने बीजेपी के स्वर्ण सलारिया को 1 लाख 93 हजार 219 वोट से हराया। ये सीट विनोद खन्ना के निधन के बाद खाली हुई थी। गुरदासपुर की हार से अब बीजेपी के पास लोकसभा में 281 सीटें रह गई हैं। जीत के बाद बेजान पड़ी कांग्रेस में एक दम से जोश पैदा हो गया है। वो अब इस जीत को गुजरात और हिमाचल के चुनाव में भूनाने का हर भरसक प्रयास करेगी। इस जीत के बाद जाखड़ ने कहा कि मैं गुरदासपुर का आभार व्यक्त करता हूं कि उन्होंने पार्टी पर भरोसा जताया है। एक तरफ जहां कांग्रेस की दिवाली जबरदस्त हो गई है वहीं दूसरी ओर बीजेपी खेमे में मायूसी और सन्नाटा पसर गया है। जिस सीट पर विनोद खन्ना चार बार जीते थे वो कैसे भाजपा के हाथ से निकल गई, इस बारे में बात करते हुए खुद बीजेपी नेताओं ने टीवी चैनलों पर अपनी कमियां गिनाई।

Congress candidate Sunil Jhakad records historic victory in Gurdaspur Bypolls | वनइंडिया हिंदी
Gurdaspur Lok Sabha bypoll: क्यों हारी भाजपा, जानिए 5 कारण

एनडीटीवी पर बात करते हुए बीजेपी नेताओं ने निम्नलिखित बातें कहीं जो कि हार का कारण बने...

  • कारण नं. 1: पंजाब में कांग्रेस की सरकार है और वहां उसकी बनने के बाद पहला चुनाव था इसलिए सरकार ने पूरी ताकत लगाई। 
  • कारण नं. 2: कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष ने चुनाव लड़ा इसलिए पूरी पार्टी एकजुट होकर लड़ी। 
  • कारण नं. 3: भाजपा ने गलत उम्मीदवार को चुना, विनोद खन्ना की पत्नी को टिकट ना देना भी हार का कारण है। 
  • कारण नं. 4: जीएसटी को लागू करने से आ रही दिक्कतों से व्यापारी वर्ग नाराज था, जो कि हार का सबब बना। 
  • कारण नं. 5: अकाली दल की नाकामी की असर बीजेपी पर पड़ा और वो इसलिए हारी।

Read Also:Gurdaspur Bypoll Result : कांग्रेस ने BJP से छीनी गुरदासपुर लोकसभा सीट, 1.93 लाख वोटों से जीते जाखड़

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Congress leader Sunil Jakhar scripted a fairytale comeback on Sunday, winning the Gurdaspur Lok Sabha bypoll by a thumping majority after crushing electoral losses in 2014 and 2017

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.