• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

औरंगाबाद हादसाः गंभीर रूप से घायल हुए प्रवासी मजदूरों को 50,000 रुपए मुआवजा देने का आदेश

|

नई दिल्ली। महाराष्ट्र के औरंगाबाद में एक मालगाड़ी द्वारा रौंदे जाने से गंभीर रूप से घायल हुए प्रवासी मजदूरों को सरकार ने 50, 000 रुपए मुआवजा देने के आदेश दिया है। इस आदेश में मालगाड़ी के कुचलने से कुल 16 प्रवासी मजूदरों की मौत दर्दनाक मौत भी हो गई थी। ये प्रवासी मजदूर मध्य प्रदेश के थे और हादसे के बाद मध्य प्रदेश सरकार ने सभी मृतकों के परिजनों को 5-5 लाख रुपए मुआवजे देने की घोषणा की थी।

train accident

दरअसल, कोरोनावायरस प्रेरित लॉकडाउन में प्रवासी मजदूरों को उनके घर भेजने की कवायद के तहत रेलवे द्वारा विशेष श्रमिक ट्रेन चलाया गया है। हादसे वाले दिन दर्जनों प्रवासी मजदूर औरंगाबाद से मध्य प्रदेश जाने वाली ट्रेन को पकड़ने के लिए पैदल ही औरंगाबाद रेलवे स्टेशन पहुंचने के लिए रेल की पटरी पर यात्रा शुरू कर दी।

Lockdown: जानिए, 7 घंटे की मैराथन मीटिंग में PM मोदी ने मुख्यमंत्रियों को दिए क्या सुझाव?

train accident

बताया जाता है 40 किलोमीटर लंबी यात्रा के बाद जब प्रवासी मजदूर थककर रेलवे की पटरी पर सो रहे थे तभी वहां से गुजर रही मालगाड़ी ने औरंगाबाद के जालना रेलवे लाइन के पास उन्हें रौंद दिया, जिससे मौके पर ही 16 प्रवासी मजदूरों की मौत हो गई थी जबकि कई मजदूर गंभीर रूप से घायल हो गए थे।

Covid19: सिर्फ 7 दिनों में तमिलनाडु के 58 फीसदी और महाराष्ट्र के 42 फीसदी केस सामने आए

train accident

गौरतलब है यह हादसा 8 मई को सुबह 6.30 बजे के करीब हुआ था। घटना के बाद रेल मंत्री पीयूष गोयल ने घटना के जांच के आदेश दिए। मौके पर पहुंचने वाले स्थानीय प्रशासन और रेलवे के अधिकारी के मुताबिक प्रवासी मजदूर अपने घर जाने के लिए 40 किलोमीटर चलकर आए थे और थकान के बाद रेल की पटरी पर ही सो गए थे।

औरंगाबाद ट्रेन हादसे पर सियासत, पूर्व CM दिग्विजय सिंह ने शिवराज सिंह चौहान से मांगा त्यागपत्र

महाराष्ट्र की एक स्टील फैक्ट्री में मजदूरी करते थे हादसे के शिकार मजदूर

महाराष्ट्र की एक स्टील फैक्ट्री में मजदूरी करते थे हादसे के शिकार मजदूर

गंभीर रूप से घायल और मृतक मजदूर महाराष्ट्र की एक स्टील फैक्ट्री में मजदूरी करते थे, लेकिन लॉकडाउन की वजह से काम बंद होने से सारे मजदूर परेशान थे और राष्ट्रव्यापी लॉकडाउन के कारण वहां फंसे हुए थे, लेकिन जब श्रमिक ट्रेन से घर पहुंचने की सूचना मिली तो सारे प्रवासी मजदूर पैदल ही औरंगाबाद रेलवे स्टेशन के लिए निकल पड़े थे।

PM नरेंद्र मोदी ने भी औरंगाबाद में हुए रेल हादसे पर दुख व्यक्त किया

PM नरेंद्र मोदी ने भी औरंगाबाद में हुए रेल हादसे पर दुख व्यक्त किया

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी औरंगाबाद में हुए रेल हादसे पर दुख व्यक्त किया और ट्वीट कर लिखा कि औरंगाबाद में हुए रेल हादसे में जिनकी जान गई है, उससे काफी दुख पहुंचा है। पीएम मोदी ने इस हादसे के बारे में रेल मंत्री पीयूष गोयल से बात की।

राज्य सरकारों की सिफारिश पर स्पेशल श्रमिक ट्रेन चलवाई जा रही है

राज्य सरकारों की सिफारिश पर स्पेशल श्रमिक ट्रेन चलवाई जा रही है

देश के अलग-अलग हिस्सों में फंसे प्रवासी मजूदरों को निकालने के लिए राज्य सरकारों की ओर से की गई सिफारिश पर स्पेशल श्रमिक ट्रेन चलवाई जा रही है। इस दौरान राज्य सरकारों की ओर से जो लिस्ट दी जा रही है उन्हें ही ट्रेन में सफर करने की इजाजत दी जा रही है। इसके बाद राज्य सरकारों ने बसों की व्यवस्था कर अपने मजदूरों को बुलाया।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
In Aurangabad, Maharashtra, the government has ordered compensation of Rs 50,000 to the migrant laborers who were seriously injured after being trampled by a freight train. In this order, a total of 16 migrant laborers were also traumatized to death due to the crushing of the goods train. These migrant laborers were from Madhya Pradesh and after the accident, the Madhya Pradesh government had announced a compensation of Rs 5 lakh each to the kin of the deceased.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X