वो सुराग, जिसके जरिए रिक्शा चालक को उड़ाने वाले टैंपो तक पहुंची पुलिस

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi

नई दिल्ली: दिल्ली के सुभाष नगर में ई-रिक्शा चालक को टक्कर मारकर भागने वाले टैंपो वाले को पुलिस ने महज एक छोटे से सुराग से एक दिन में ढूंढ़ निकाला। इस हादसे में ई-रिक्शा चालक मतिबूल की मौत हो गई थी।

delhi road accident

पुलिस ने दुर्घटना के बाद सीसीटीवी फुटेज में देखा कि जिस टैंपो ने मतिबूल को टक्कर मारी थी उसपर 'पी' और 'सी' अक्षर लिखे हुए थे। इन दो अक्षरों के जरिए ही दिल्ली पुलिस आरोपी टैंपो चालक तक पहुंच गई।

50 पुलिसवालों की 6 टीमें बनाकर की तलाश

घटना की फुटेज मिलने के बाद पुलिस ने 50 जवानों की 6 टीमें बनाईं और उन्हें सुभाष नगर व केशवपुर मंडी के आस-पास के इलाकों में टैंपो ढूंढ़ने के मिशन पर लगा दिया। टीम ने दुकानदारों से टैंपो के बारे में पूछताछ की।

घायल शख्स ने तड़प कर तोड़ा दम, 90 मिनट तक देखती रही बेरहम दिल्ली

इन टीमों में शामिल एक पुलिस अफसर ने बताया कि टीम ने करीब 100 टैंपो चालकों से भी बात की। शाम के 4 बजे पुलिस को पहली सफलता तब मिली जब एक दुकानदार ने बिल्कुल वैसा ही टैंपो उस इलाके में देखे जाने की बात कही।

राजेश ने कबूला अपना गुनाह

इसके बाद पुलिस को टैंपो चालक राजेश का पता मिल गया लेकिन पुलिस जब उसके घर पहुंची तो वो अपने घर पर नहीं था। आखिरकार पुलिस ने शाम को 7:30 बजे राजेश को ढूंढ़ निकाला। राजेश ने अपना जुर्म कबूलते हुए कहा कि हादसे के वक्त उसे झपकी आ गई थी और टैंपो से उसका नियंत्रण खो गया।

तेज रफ्तार कार की टक्कर से हवा में उछला बाइक सवार, हुई मौत

गौरतलब है कि बुधवार को सुबह 5:30 बजे राजेश ने टैंपो से मोहम्मद मतिबूल को टक्कर मार दी थी। हादसे के बाद मतिबूल 90 मिनट तक सड़क पर पड़ा रहा, लेकिन किसी ने उसे अस्पताल नहीं पहुंचाया। एक शख्श ने उसे देखा तो जरूर लेकिन मदद करने के बजाए उसका मोबाइल चुराकर ले गया।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
police divided 50 officers in six teams. the team visited all markets and finally search out the tempo driver.
Please Wait while comments are loading...