त्योहारी सीजन में संकट, जीएसटी के विरोध में हिमाचल में दस हजार पहिये थमे

Subscribe to Oneindia Hindi

शिमला। गुड्स एवं सर्विस टैक्स (जीएसटी) का विरोध हिमाचल प्रदेश में बड़े पैमाने पर होने लगा है। नये कानून से जहां व्यापारी वर्ग परेशानी झेल रहे हैं, वहीं ट्रक ड्राइवर से लेकर आम जनता को भी काफी मुश्किलों का सामना करना पड़ रहा है। हिमाचल प्रदेश के जिला सोलन में नालागढ़ बद्दी बरोटीवाला में इसके विरोध में दस हजार से अधिक ट्रकों के पहिए थम गए हैं। चालक सड़कों पर अपने वाहन खड़े कर चले गये हैं। जिससे त्योहारी सीजन में नया झमेला खड़ा हो गया है।

Truck operators strike opposing GST in Himachal

मिली जानकारी के मुताबिक यहां उत्तर भारत की सबसे बड़ी यूनियनों में शुमार बीबीएन की दी ट्रक आपरेटर यूनियन ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस (एआईएमटीसी) के आह्वान पर जीएसी के विरोध में हड़ताल का ऐलान किया है। बरोटीवाला और नालागढ़ (बीबीएन) इंडस्ट्रियल एरिया में सोमवार को किसी भी ट्रक ने माल नहीं उठाया।

बीबीएन की ट्रक यूनियन में 10 हजार से अधिक वाहन शामिल हैं। यह देश के विभिन्न हिस्सों में माल लेकर जाते हैं। खास बात यह है कि हर रोज करीब 3000 ट्रक माल लेकर यहां से रवाना होते हैं। लेकिन अब हड़ताल के चलते कोई भी माल नहीं उठाएगा। ट्रक यूनियन के अध्यक्ष चौधरी विद्यारतन ने कहा कि ऑल इंडिया मोटर ट्रांसपोर्ट कांग्रेस ने जीएसटी व डीजल के दामों में वृद्धि को लेकर चक्का जाम करने का फैसला लिया है।

ट्रकों की इस हड़ताल से अब उद्योग जगत पर खासा असर पड़ेगा। त्यौहारी सीजन में उद्योगों के पास माल तैयार करने के आर्डर हैं। ऐसे में उन्हें कच्चे माल को लाने व तैयार माल भेजने में खासी दिक्कत मुश्किलें झेलनी पड़ेगी।

Read Also: छोटे-छोटे कपड़ों में नाचते हुए भक्त की गोद में चढ़ी राधे मां, वीडियो वायरल

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Truck operators strike opposing GST in Himachal Pradesh.
Please Wait while comments are loading...

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.