हिमाचल: कांग्रेस ने शुरू कर दी नेशनल हेराल्ड के नाम पर चंदा वसूली

Subscribe to Oneindia Hindi

शिमला। विवादों के केन्द्र में रही बंद पड़ी नेशनल हेराल्ड अखबार को कांग्रेस पार्टी अब हिमाचल प्रदेश के चुनावों के सहारे नया जीवनदान देने की तैयारी में है। अब यहां प्रदेश में होने वाले चुनावों के लिये कांग्रेस के टिकट चाहने वालों से नेशनल हेराल्ड के नाम बाकायदा वसूली की जा रही है। हालांकि नेशनल हेराल्ड में हुई गड़बड़ियों के चलते पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी व उपाध्यक्ष राहुल गांधी पहले से ही जमानत पर हैं लेकिन लगता है पार्टी ने इससे कोई सबक नहीं सीखा है। इस सबसे बेपरवाह कांग्रेस कांग्रेस संगठन हिमाचल प्रदेश में इस अखबार के नाम पर एक हजार रूपये चंदा वसूल रहा है। अब सवाल उठ रहा है कि जब अखबार ही नहीं छपता है तो यह चंदा वसूली क्यों?

टिकट के लिए आवेदन ले रही है कांग्रेस

टिकट के लिए आवेदन ले रही है कांग्रेस

प्रदेश में इन दिनों आने वाले चुनावों के लिये कांग्रेस पार्टी आवेदन ले रही है। जिसका शुल्क 25 हजार रुपये निर्धारित किया गया है। इस आवेदन के साथ नेशनल हेराल्ड के नाम पर टिकट चाहने वालों से एक हजार रुपये की राशि अलग से वसूली जा रही है। जिसको लेकर सवाल उठ रहे हैं कि आखिर ऐसा क्यों हो रहा है। टिकट के आवेदक भी दबी जुबान में इस वसूली का विरोध कर रहे हैं। व कह रहे हैं कि जब अखबार ही नहीं छप रहा, तो यह वसूली किस लिये।

नेशनल हेराल्ड को लेकर जमानत पर सोनिया, राहुल

नेशनल हेराल्ड को लेकर जमानत पर सोनिया, राहुल

देश के प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू के सपने नेशनल हेराल्ड को लेकर कुछ समय से देश में बवाल मचा हुआ है। भाजपा नेता सुब्रह्मणयम स्वामी इस मामले को लेकर अदालत पहुंचे थे। नेशनल हेराल्ड अखबार दो दफा बंद हो चुका है। बाद में इसे एजेएल यानी एसोसिएटिड जर्नल लिमिटेड के हवाले किया गया। एजेएल को कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार ने नब्बे करोड़ रुपये का कर्ज बिना ब्याज के दिया था। विवाद तब और बढ़ा, जब एजेएल यंग इंडिया नामक ट्रस्ट को दिया गया। इस ट्रस्ट में 64 फीसदी हिस्सेदारी गांधी परिवार की है। फिलहाल सोनिया गांधी और राहुल गांधी इस केस में जमानत पर चल रहे हैं। पीएम नरेंद्र मोदी ने इसी केस का हवाला देते हुए बिलासपुर की रैली में कहा था कि कांग्रेस पार्टी जमानत पर चल रही है।

नेशनल हेराल्ड के नाम पर चंदा, आखिर क्यों?

नेशनल हेराल्ड के नाम पर चंदा, आखिर क्यों?

कांग्रेस के प्रवक्ता आईएन मेहता ने स्वीकार किया कि एक हजार रुपये अंशदान के तौर पर नेशनल हेराल्ड पत्रिका के नाम पर लिए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि ये स्वैच्छिक तौर पर है और किसी से जबरन नहीं मांगे जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि नेशनल हेराल्ड की एक पत्रिका का प्रकाशन होना है, जिसमें कांग्रेस से जुड़े समाचार होंगे। उससे जुड़ने के लिए हिमाचल कांग्रेस के लोग भी उत्सुक हैं। मेहता ने कहा कि ये हिंदी और अंग्रेजी में प्रकाशित होगी।

Read Also: मोदी का हिमाचल वाला प्यार कहीं ले ना डूबे! सर्द फिजाओं में गरमाती राजनीति

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Congress getting donation in the name of National Herald in Himachal Pradesh.

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.