• search
गुजरात न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

गुजरात: बाढ़ से फसलें बर्बाद, खेतों में भरे पानी में तैरे किसान, पुरस्कार में मिला लॉलीपॉप- VIDEO

|

द्वारका। गुजरात में हो रही लगातार बारिश अब कई स्थानों पर किसानों के लिए आफत बन गई है। यहां द्वारका के रावल गांव में बारिश से भरे पानी के कारण फसलें बर्बाद हो गईं। बाढ़ का पानी खेतों में इतना ज्यादा हो गया है कि, किसान अलग तरह से रोष जता रहे हैं। कई किसान इसके लिए सरकारी प्रबंधन को दोष दे रहे हैं। सरकार के प्रति गुस्सा जाहिर करने के लिए किसानों ने बाढ़ के पानी में डूबे खेतों में तैराकी प्रतियोगिता आयोजित कीं।

    गुजरात: बाढ़ से फसलें बर्बाद, खेतों में भरे पानी में तैरे किसान, पुरस्कार में मिला लॉलीपॉप- VIDEO
    द्वारका: किसानों को मिला लॉलीपॉप

    द्वारका: किसानों को मिला लॉलीपॉप

    तैराकी प्रतियोगिताओं में जीतने वाले किसानाों को 'लॉलीपॉप' का पुरस्कार थमाया गया। जिसके चलते यह मामला चर्चा में आ गया। अब इंटरनेट पर लोग 'लॉलीपॉप' का खूब जिक्र कर रहे हैं। कई यूजर्स ने कहा कि, किसानों के हाथों में अब लॉलीपॉप है, क्योंकि उनकी फसलें तबाह हो चुकी हैं और मेहनत पर पानी फिर गया है।

    राज्य सरकार से मुआवजे की मांग की

    राज्य सरकार से मुआवजे की मांग की

    कई किसानों ने संवाददाता को बताया कि, द्वारका जिले के दर्जनों गांव पिछले डेढ़ महीने से बाढ़ का सामना कर रहे हैं और फसलें चौपट हो चुकी हैं। तेज बारिश और नहरों में कटाव जैसी समस्याओं के चलते खेतों से पानी उतर नहीं रहा है। जिसके चलते राज्य सरकार से मुआवजे की मांग की गई है। लेकिन मुआवजे की घोषणा की बात तो दूर अधिकारी मुआयना करने भी नहीं आए।

    फसल बीमा नहीं मिला तो किसान ने खुद को गर्दन तक जमीन में गाड़ लिया, गुजरात से वीडियो वायरल

    इस तरह सरकार का ध्यान खींचा

    इस तरह सरकार का ध्यान खींचा

    ऐसे में मुआवजा समय पर मिलने की संभावना दूर तक दिखाई नहीं दे रही है। जिसके चलते ऐसा विरोध कर सरकार का ध्यान खींचने का प्रयास किया गया है। बता दें कि, कल ही गुजरात के मुख्यमंत्री रूपाणी की अध्यक्षता में कैबिनेट की बैठक हुई है। जिसमें किसानों को हुए नुकसान को लेकर गंभीरता से चर्चा की गई।

    हजारों हेक्टेयर भूमि पर टिड्डियों का हमला, बर्बादी होते देख किसान ने खेत में खड़ी फसल जोत दी

    सरकार ने लिए ऐसे फैसले

    सरकार ने लिए ऐसे फैसले

    सरकार की ओर से आगामी 15 दिनों में अतिवृष्टि से हुए नुकसान का सर्वे शुरू करने का निर्णय लिया गया है। साथ ही 33 प्रतिशत से ज्यादा नुकसान उठाने वाले किसानों को मुआवजा देने की घोषणा भी की गई है। हालांकि इस बात से किसानों में कोई खास खुशी दिखाई नहीं दे रही है और किसान इसे चुनावी घोषणा बता रहे हैं।

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Dwarka: Crops destroyed by floods, farmers started swimming in the field, got lollipops as awards
    For Daily Alerts
    तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
    Enable
    x
    Notification Settings X
    Time Settings
    Done
    Clear Notification X
    Do you want to clear all the notifications from your inbox?
    Settings X
    X