• search
दुर्ग न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

Bhilai Steel Plant के टाउनशिप में लगेंगे स्मार्ट मीटर, हर महीने करना होगा रिचार्ज, बिजली चोरी रोकने की कवायद

भिलाई इस्पात संयंत्र प्रबंधन केंद्र सरकार के निर्देश पर अपने टाउनशिप क्षेत्र में अब स्मार्ट मीटर लगाने की तैयारी कर रहा है। इस पहल से टाउनशिप के अवैध कब्जेधारियों से बिजली चोरी के मामलों में कमी आएगी।
Google Oneindia News
Bhilai Steel plant

भिलाई इस्पात संयंत्र प्रबंधन अब टाउनशिप क्षेत्र में सभी घरों के मीटर बदलने जा रहा है। बीएसपी कर्मचारियों को अब बिजली बिल जमा करने के झंझट से भी छुटकारा मिलेगा। यानी छत्तीसगढ़ में भिलाई इस्पात संयंत्र के कर्मचारियों को बिजली बिल की प्रीपेड सुविधा मिलने जा रही है। इसमें फायदा सिर्फ उपभोक्ताओं का ही नहीं बल्कि बिजली विभाग का भी लाभ होगा। इस स्मार्ट मीटर से बिजली चोरी भी रोकी जा सकेगी।

bhilai

केंद्र सरकार के निर्देश पर प्रबंधन ने उठाया कदम
भिलाई इस्पात संयंत्र के टाउनशिप इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट ने यह पहल केंद्र सरकार के निर्देश पर शुरू की है। केंद्र ने सभी सार्वजनिक क्षेत्र की कंपनियों को निर्देशित किया है कि अपने-अपने टाउनशिप के घरों में 2025 तक स्मार्ट मीटर लगाया जाना सुनिश्चित करें।क्योंकि बाद में किसी भी तरह की स्कीम को लागू करने के पहले एनर्जी आडिट का कराया जाना अनिवार्य होगा। केंद्र के अनुसार स्मार्ट मीटर से बिजली चोरी के मामलों में लगाम लगेगा।

bhilai electricity

मीटर से छेड़छाड़ करने पर मैसेज मिलेगी जानकारी
दरअसल भिलाई इस्पात संयंत्र के टाउनशिप में मैनुअल मीटर लगे हुए हैं। टाउनशिप में कई घरों और व्यवसायिक परिसरों में सालों पुराने मीटर भी लगे हुए हैं। जिसके कारण इन मीटरों में बिजली चोरी की संभावना बनी रहती है। इन मीटरों के माध्यम से ही कई घरों में ए.सी. गीजर समेत अन्य उपकरण चलाये जा रहें हैं। इसके अलावा टाउनशिप के कई मकानों में अवैध कब्जे हैं। जिससे अब इनके स्थान पर स्मार्ट मीटर लगाए जाएंगे। जिससे अब किसी तरह के छेड़छाड़ से होने पर सीधे मैसेज बिजली विभाग को मिल सकेगा। इस आधार पर विभाग कार्रवाई कर सकेगा।

यह भी पढ़ें,, Bhilai Steel Plant से भिलाई निगम को मिलेंगे 45 करोड़, खत्म होगा विवाद, सामान्य सभा में गूंजेगा मुद्दा
मोबाइल की तरह करना होगा रिचार्ज
इस स्मार्ट मीटर को उपभोक्ताओं को मोबाइल की तरह रिचार्ज कराना होगा, जिससे प्रबन्धन को एडवांस में ही रकम मिलेगी इसके अलावा मीटर रीडिंग, बिजली बिल बांटने जैसे कार्यों के लिए भी मैन पावर लगाने की आवश्यकता नहीं होगी। स्मार्ट मीटर से मैनुवल बिजली बिल भुगतान से उपभोक्ताओं को भी राहत मिलेगा। लेकिन स्मार्ट मीटर में प्रीपेड की सुविधा होने से उपभोक्ता को खपत के अनुसार एडवांस में भुगतान करना होगा अन्यथा बिजली सप्लाई बंद हो जाएगी।

टाउनशिप में हैं 30 हजार बिजली उपभोक्ता

टाउनशिप इलेक्ट्रिकल इंजीनियरिंग डिपार्टमेंट के अनुसार भिलाई इस्पात संयंत्र में लगभग 30 हजार बिजली उपभोक्ता है। लगभग 22 मेगावाट बिजली की खपत सामान्य दिनों में होती है। यहां से लगभग 65 करोड़ रुपये बिजली बिल का संकलन किया जाता है। यहां के व्यवसायिक परिसरों और दुकानों से भी बिजली बिल का भुगतान किया जाता है। डिपार्टमेंट द्वारा फीडर और वितरण ट्रांसफार्मर (डीटी) में स्मार्ट मीटर लगाए जाएंगे। इससे लगभग 35 करोड़ के बिजली चोरी रोकने का दावा किया जा रहा है।

दो चरणों में बदले जाएंगे टाउनशिप के मीटर
पहले चरण के दौरान थर्ड पार्टी के क्वार्टरों में मीटर लगाए जाएंगे। जिनकी संख्या लगभग 10 हजार है। 2023 तक मीटर यह लक्ष्य पूरा किया जाएगा। दूसरे चरण में बाकी 20 हजार आवासों में नए मीटर लगाए जाने की योजना है। इस कार्य को 2025 तक पूरी करने का टार्गेट रखा गया है। प्रबंधन ने इस योजना को दो चरणों में पूरा करने की योजना तैयार की है। पहले चरण में 2.60 करोड़ रुपये इसमें खर्च किये जायेंगे। इस पहल से बीएसपी के मकानों पर अवैध कब्जेधारियों से भी बिल का भुगतान कराया जा सकेगा।

Comments
English summary
Smart meters will be installed in the township of Bhilai Steel Plant, recharge will have to be done every month, an exercise to stop electricity
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X