पीएम मोदी की नोटबंदी का असर, कुत्ते और दूसरे जानवर भूख से परेशान

Subscribe to Oneindia Hindi

दिल्ली 500 और 1000 के नोट बैन होने की वजह से आम आदमी तो मुश्किल झेल ही रहा है, जानवर भी इसके बुरे असर से अछूते नहीं हैं। नोटबंदी के बाद करेंसी का अकाल पड़ा है जिस वजह से देशभर में कुत्ते और गाय जैसे जीवों को एनिमल लवर्स खिला नहीं पा रहे हैं। पशुओं के शेल्टर होम का भी बुरा हाल है जहां जानवर भूखे रहने को मजबूर हैं।

Read Also: नोटबंदी से किसे फायदा किसे नुकसान, कहां लगी आग, कौन हुआ खाक?

note ban animal1

'कैश मत दीजिए, खाना डोनेट कीजिए'

नोएडा में आवारा घूमने वाले पशुओं के लिए शेल्टर होम चला रहा एनजीओ भी संकट में है। हाउस ऑफ स्ट्रे एनिमल्स के फाउंडर संजय महापात्र का कहना है कि 9 और 10 नवंबर को तो पशुओं को खिलाने के लिए दुकानदारों से ब्रेड उधार मांगने पड़े। भूखे रहने के वजह से पशु आक्रामक हो गए थे।

इस एनजीओ में 125 कुत्ते और दो बंदर हैं। संजय महापात्र ने लोगों से अपील की है कि वे 500 और 1000 के कैश के बदले खाना डोनेट करें। 11 नवंबर को एनजीओ की हालत खराब थी क्योंकि पशुओं के लिए खाना नहीं था लेकिन एक ब्रेड कंपनी ने समय पर मदद की।

इस बारे में संजय ने कहा कि उनको कुत्तों को खिलाने के लिए रोज ब्रेड के 150 पैकेट की जरूरत है लेकिन कंपनी सिर्फ 70-75 पैकेट ही दे पा रही है। जानवरों को खिलाने के लिए रोज का बजट 2,500 रुपए है।

note ban animal2

पशुओं को खिलाने के लिए ले रहे उधार

गाजियाबाद के एक एनिमल एक्टिविस्ट को भी समस्या का सामना करना पड़ रहा है। एक एनिमल वेलफेयर ऑर्गनाइजेशन में अधिकारी सौरभ गुप्ता रोज अपने इलाके के 15-20 कुत्तों को बिस्किट और ब्रेड खरीदकर खिलाते हैं। नोटबंदी के बाद उनके पास कैश नहीं बचा। स्थानीय दुकानदारों ने अगले 10-15 दिन तक उनकी मदद करने का वादा किया है और उधार पर खाने का सामान दे रहे हैं।

note ban animal3

दो दिन बाद हो सका कैश का इंतजाम

गाजियाबाद में पशुओं के लिए शेल्टर होम चला रहीं सुमाथी अय्यर को कैश का इंतजाम करने में दो दिन लग गए। उन्होंने कहा, 'हमारा एक स्टाफ पोस्ट ऑफिस की लंबी लाइन में दिनभर खड़ा रहा, तब जाकर पशुओं को खिलाने के लिए कैश का इंतजाम हो पाया।' उनके शेल्टर होम में 66 गायें, 45 कुत्ते हैं। पशुओं के भोजन पर खर्च होनेवाला उनका रोजाना बजट 1000 रुपए का है।

note ban animal4

'पशुओं के हॉस्पिटल में भी लिए जाएं 500-1000 के नोट'

दिल्ली में एनिमल शेल्टर होम चला रहीं गीता शेषमणि का कहना है कि नोटों पर पाबंदी के बाद इंसान जितना झेल रहे हैं उतने ही मुश्किलों से जानवर भी गुजर रहे हैं।

शेषमणि ने कहा, 'इंसानों के हॉस्पिटल में तो सरकार ने 500 और 1000 के नोट लेने को मंजूरी दी है लेकिन जानवरों के हॉस्पिटल के लिए ऐसा कोई आदेश नहीं है। सरकार को जानवरों के लिए कुछ करना चाहिए।'

Read Also: PM के डर से हीरा व्यापारी ने जमा कराए 6000 करोड़ रु., जुर्माने के साथ भरा 5400 करोड़ का टैक्स

देश-दुनिया की तबरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
After note ban in India, not only common people are suffering but animals are also facing the heat of demonetization.
Please Wait while comments are loading...