• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

बड़ा फैसला: PNB समेत इन 10 बैंकों का विलय, 1 अप्रैल से होगा लागू, जानिए क्या होगा खाताधारकों पर असर

|

नई दिल्ली। मोदी सरकार ने बैंकों के विलय को मंजूरी दे दी। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की अध्यक्षता में हुई कैबिनेट बैठक में 10 बड़े सरकारी बैंकों के विलय को मंजूरी मिल गई है। सरकार से मिली मंजूरी के बाद 1 अप्रैल से बैंकों का विलय लागू होगा। कैबिनेट बैठक में मिली मंजूरी के बाद 1 अप्रैल से 10 सरकारी बैंक विलय के बाद 4 बैंकों में बदल जाएंगे। आपको बता दें कि वित्त मंत्रालय की ओर से 30 अगस्त 2019 को 10 सरकारी बैंकों के विलय की घोषणा की गई थी। अब सरकार ने इसे मंजूरी दे दी है।

PAN-Aadhaar से जुड़ी बड़ी खबर, 31 मार्च तक नहीं किया ये काम तो लगेगा डबल झटका, भरना पड़ेगा 10000 का जुर्माना

 बैंकों के विलय की तैयारी शुरू

बैंकों के विलय की तैयारी शुरू

मोदी कैबिनेट की अहम बैठक के बाद 10 बैंकों के विलय को मंजूरी दे दी गई है। सरकार की मिली मंजूरी के बाद 10 बैंकों का विलय कर 4 बैंक बनाए जाएंगे। इस विलय के बाद देश में सरकारी बैंकों की संख्या घटकर 12 रह जाएगी। इससे पहले साल 2017 तक देश में सरकारी बैंकों की संख्या 27 थी। सरकार ने बैंकों के एनपीए को कम करने के लिए विलय की घोषणा की है। सरकार ने सबसे पहले स्टेट बैंक ऑफ इंडिया में उसके 6 सहयोगी बैंकों के विलय को मंजूरी दी।

 इन बैंकों का होगा विलय

इन बैंकों का होगा विलय

आपको बता दें कि मीडिया में खबरें आ रही है कि मर्जर के बाद बैंकों के नाम भी बदल सकते हैं, लेकिन सरकार की ओर से इसकी घोषणा नहीं की गई। सरकार ने पंजाब नेशनल बैंक में ओरियंटल बैंक ऑफ कॉमर्स और यूनाइटेड बैंक के विलय को मंजूरी दी। इस विलय के बाद बनने वाला नया बैंक देश का दूसरा सबसे बड़ा बैंक बन जाएगा। वहीं सरकार ने केनरा बैंक के साथ सिंडिकेट बैंक का विलय होगा। इस विलय के बाद बनने वाला बैंक देश का चौथा बड़ा बैंक होगा। वहीं सरकार ने यूनियन बैंक में आंध्रा बैंक और कॉरपोरेशन बैंक के विलय को मंजूरी दे दी। इस विलय के बाद बनने वाला बैंक देश का पांचवां सबसे बड़ा सरकारी बैंक होगा। वहीं इंडियन बैंक और इलाहाबाद बैंक विलय के बाद देश का सातवां सबसे बड़ा बैंक बन जाएगा।

 क्या होगा खाताधारकों पर असर

क्या होगा खाताधारकों पर असर

बैंकों के विलय के बाद बनने वाले नए बैंक के खाताधारकों पर असर होगा। हालांकि बैंक खाताधारकों की जमापूंजी पर कोई असर नहीं होगा, लेकिन बैंक खाते से जुड़े कागजातों को लेकर थोड़ी भागदौड़ करनी पड़ सकती है। खाताधारकों को नया अकाउंट नंबर और कस्टमर आईडी मिल सकता है। खाताधारकों को नए अकाउंट नंबर और IFSC कोड की जानकारी आयकर विभाग में, इंश्योरेंस कंपनी, सेविंग स्कीम में अपटेड करनी होगी। ग्राहकों को नया नई चेकबुक, डेबिट कार्ड और क्रेडिट कार्ड इशू करवाना होगा। हालांकि न तो आपकी सेविंग पर कोई असलर होगा, न ही आपके लोन की ब्याज दर पर और न ही FD की ब्याज दर पर कोई असर होगा।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Government of India: Cabinet chaired by the Prime Minister Narendra Modi approves mega consolidation in Public Sector Banks, consolidation of ten such banks into four with effect from 1st April 2020.
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X