• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts
Oneindia App Download

बाप रे बाप ! बच्चों की पढ़ाई पर 30 लाख से एक करोड़ रुपये तक का खर्च ! जानिए कैसे मैनेज करें

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 18 अगस्त : भारत में बच्चों की पढ़ाई पर हजारों खर्च करना भी मां-बाप के लिए बड़ा मुश्किल साबित हो रहा है। इकोनॉमिक टाइम्स की रिसर्च में चौंकाने वाले नंबर सामने आए हैं। इसके मुताबिक प्राइवेट स्कूल में बच्चों को पढ़ाने का ख्वाब देखने वाले माता-पिता 30 लाख रुपये तक खर्च वहन करते हैं। दूसरी ओर कॉलेज में पढ़ाई के लिए खर्च एक करोड़ रुपये तक चला जाता है। माता-पिता अपने बच्चों का दाखिला अच्छे से अच्छे या यूं कहें कि बेस्ट इंस्टीट्यूट में कराना चाहते हैं, लेकिन बढ़ती महंगाई के मद्देनजर 30 लाख रुपये से लेकर एक करोड़ तक की रकम काफी चुनौतीपूर्ण है। अब इतना भारी-भरकम खर्च कैसे मैनेज किया जाए, ये भी बड़ा सवाल है। जानिए बच्चों की पढ़ाई के लिए फाइनांशियल प्लानिंग के कुछ तरीके

लाखों में इंट्रेंस की कोचिंग का खर्च

लाखों में इंट्रेंस की कोचिंग का खर्च

एलीट कॉलेज भारत में भी एक तथ्य है। 23 आईआईटी या किसी अन्य निजी संस्थान की तरह किसी टॉप रेटेड इंजीनियरिंग कॉलेज में 4 साल के बीटेक या 3 साल के बीएससी के लिए दाखिला लेने में लगभग 4-20 लाख रुपये तक का खर्च होता है। जेईई, जेईई (मेन) और अन्य परीक्षाओं जैसी प्रवेश परीक्षाओं के लिए कोचिंग का खर्च 30,000 रुपये से लेकर 5 लाख रुपये तक आता है। टॉप रेटेड प्रबंधन संस्थान जैसे 20 आईआईएम में से एक, या देश के किसी अन्य निजी विश्वविद्यालय की लागत 8 लाख रुपये से 23 लाख रुपये के बीच आती है। कैट या जीमैट जैसे क्वालीफाइंग टेस्ट की तैयारियों में कोचिंग की लागत अतिरिक्त होती है।

CA जैसी पढ़ाई का खर्च

CA जैसी पढ़ाई का खर्च

वित्त जैसे क्षेत्र या सर्टिफाइड पब्लिक अकाउंटेंट (CPA) की लागत 3,60,000 रुपये है। सर्टिफायड मैनेजमेंट अकाउंटेंट (CMA) की लागत 80,000-1,20,000 रुपये होगी। इसमें प्रशिक्षण, परीक्षा और आईएमए सदस्यता शुल्क भी शामिल है। माइल्स एजुकेशन के वरुण जैन के अनुसार, प्रशिक्षण शुल्क एक संस्थान से दूसरे संस्थान में भिन्न हो सकता है। छात्र परीक्षा शुल्क और एसोसिएशन सदस्यता शुल्क का भुगतान डॉलर में करते हैं और विनिमय दर में किसी भी बदलाव से ओवरऑल फीस स्ट्रकचर में मामूली बदलाव हो सकता है। चार्टर्ड अकाउंटेंसी कोर्स पूरा करने के लिए, ट्यूशन फीस के अलावा कुल खर्च 86,000 रुपये है।

जल्द निवेश शुरू करना बेहतर विकल्प

जल्द निवेश शुरू करना बेहतर विकल्प

विशेषज्ञों का कहना है कि माता-पिता को बच्चे की शिक्षा के लिए जल्द से जल्द योजना बनानी शुरू कर देनी चाहिए। टीबीएनजी कैपिटल एडवाइजर्स के संस्थापक और सीईओ तरुण बिरानी के अनुसार, अल्पकालिक और दीर्घकालिक लक्ष्यों पर विचार करने और लक्ष्यों को ध्यान में रखते हुए सही विकल्पों में निवेश करने की जरूरत है। उन्होंने कहा, बच्चे के भविष्य की योजना बनाने का सबसे अच्छा तरीका बच्चे के जीवन के महत्वपूर्ण चरणों जैसे शिक्षा, उच्च शिक्षा और यहां तक ​​कि शादी पर विचार करना और जल्द से जल्द निवेश करना शुरू करना है।

खर्चों पर विचार करने की जरूरत

खर्चों पर विचार करने की जरूरत

तरुण बिरानी का कहना है कि परिवार में एक बच्चा होने से परिवार में एक वयस्क को जोड़ने की तुलना में मासिक खर्च 2 गुना अधिक बढ़ जाता है। माता-पिता को बच्चे के विकास के पहले 4-5 वर्षों के दौरान भोजन, दवा, डायपर, कपड़े, शिशु देखभाल उत्पादों और बाल रोग विशेषज्ञों के नियमित दौरे जैसे खर्चों पर विचार करने की जरूरत है। मानक के रूप में, माता-पिता बच्चे के जीवन के पहले तीन वर्षों में स्वास्थ्य देखभाल पर कुल खर्च का 50% खर्च करने की उम्मीद कर सकते हैं। माता-पिता हर साल बच्चे की देखभाल के खर्च में न्यूनतम 10% की वृद्धि की उम्मीद कर सकते हैं।

एक आपातकालीन कोष बनाएं

एक आपातकालीन कोष बनाएं

खर्चों को अल्पकालिक और दीर्घकालिक में विभाजित किया जा सकता है। अल्पकालिक लक्ष्यों में बच्चे की शिक्षा के अगले 1-3 वर्षों के भीतर खर्च, जैसे स्कूल की फीस या कोई पाठ्येतर गतिविधियों की फीस शामिल है। बिरानी ने सलाह दी, बच्चों के जन्म से पहले ही 3-6 महीने के खर्च का एक आपातकालीन कोष पर्याप्त है। बच्चों के जन्म के बाद, 6 महीने से एक साल के खर्च को नकद या नकदी की तरह ही फिक्स्ड डिपॉजिट, लिक्विड फंड और अल्ट्रा-शॉर्ट टर्म फंड जैसे निवेश में निवेश बेहतर है।

इस फॉर्मूले पर कर सकते हैं निवेश

इस फॉर्मूले पर कर सकते हैं निवेश

बिरानी कहते हैं, ''माता-पिता 85% इक्विटी और 15% डेट के पोर्टफोलियो में लंबी अवधि के लक्ष्यों (10 साल से अधिक) के लिए निवेश की तलाश भी कर सकते हैं। माता-पिता बच्चे को फैमिली फ्लोटर हेल्थ इंश्योरेंस में जोड़ने और स्वास्थ्य बीमा कवरेज को न्यूनतम 10 लाख रुपये और उससे अधिक तक बढ़ाने पर भी विचार कर सकते हैं।

निवेश के साथ पूंजी संरक्षण भी जरूरी

निवेश के साथ पूंजी संरक्षण भी जरूरी

कैपिटल एडवाइजर बिरानी के मुताबिक दीर्घकालिक लक्ष्यों में स्नातक लागत, उच्च शिक्षा और विवाह शामिल होंगे। उन्होंने सलाह दी है कि जब लक्ष्य तीन से चार साल दूर हों, तो इक्विटी आवंटन को कम करने और आवश्यकता पड़ने पर पूंजी की सुरक्षा सुनिश्चित करने के लिए फंड को कम जोखिम वाले डेब्ट फंड में स्विच करने की सलाह दी जाती है। बिरानी अधिक मात्रा वाले इक्विटी पोर्टफोलियो का सुझाव भी देते हैं। माता-पिता को ऐसे पोर्टफोलियो चुनने की जरूरत नहीं है जो बहुत आक्रामक हों, क्योंकि कुछ मात्रा में पूंजी संरक्षण भी जरूरी है।

ये भी पढ़ें- बच्चों की कॉलेज लाइफ तक कितना पैसा होता है खर्च, अमाउंट में जीरो देख छूट जाएंगे पसीनेये भी पढ़ें- बच्चों की कॉलेज लाइफ तक कितना पैसा होता है खर्च, अमाउंट में जीरो देख छूट जाएंगे पसीने

Comments
English summary
india child raising cost school expense 30 lacs college one crore know plans to manage
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X