• search

सरकार ने बताया- धोखाधड़ी, लूट और ठगी के चलते बैंकों को हुआ 17000 करोड़ का नुकसान

Subscribe to Oneindia Hindi
For Quick Alerts
ALLOW NOTIFICATIONS
For Daily Alerts

    नई दिल्‍ली। बीते वित्‍त वर्ष (2016-17) धोखाधड़ी, लूट, डकैती और ठगी के चलते बैंकों को 17,000 करोड़ रुपए का नुकसान हुआ है। शुक्रवार को वित्त मंत्रालय की तरफ से लोकसभ में इस बात की जानकारी दी गई। वित्त राज्‍य मंत्री शिव प्रताप शुक्‍ला ने सदन में दिए लिखित जवाब में बताया कि वित्तिय वर्ष (2016-17) में बैंकों को 16 हजार 789 करोड़ रुपए का नुकसान झेलना पड़ा। उन्‍होंने बताया कि 2016-17 के दौरान देश के विभिन्न हिस्सों में दर्ज की गई बैंक लूट, चोरी, डकैती और सेंधमारी की घटनाओं में लगभग 65.3 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ।

    सरकार ने बताया- धोखाधड़ी, लूट और ठगी के चलते बैंकों को हुआ 17000 करोड़ का नुकसान

    इतना ही नहीं चालू वित्त वर्ष की पहली छमाही में ऐसे 393 मामले दर्ज किए जा चुके हैं जिससे 18.48 करोड़ रुपये की चोट पहुंच चुकी है। शिव प्रताप शुक्‍ला ने बताया कि बैंकिंग सेक्टर में साइबर सिक्योरिटी को लेकर समिति का गठन किया गया है। इसमें आरबीआई के अधिकारी, अकादमिक जगत, फरंसिक, साइबर सिक्यॉरिटी एक्सपर्ट्स और सूचना तकनीक से जुड़े लोगों को शामिल किया गया है। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि यह समिति बैंकिंग सेक्टर के समक्ष उपजी तकनीकी समस्याओं और उससे जुड़े खतरों से निपटने के लिए नीति-निर्धारण के काम में जुटा है।

    सरकार को उक्त जानकारी भारतीय रिजर्व बैंक द्वारा दी गई थी जो धोखाधड़ी निगरानी रिपोर्ट्स पर आधारित थी। वहीं एक दूसरे सवाल का जवाब देते हुए वित्त राज्य मंत्री पी. राधाकृष्ण ने बताया कि 500 और दो हजार की नकली (स्कैन या फोटोकॉपी) करेंसी भी हाल के दिनों में जब्त की गई है।

    जीवनसंगी की तलाश है? भारत मैट्रिमोनी पर रजिस्टर करें - निःशुल्क रजिस्ट्रेशन!

    देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
    English summary
    Banks lost a whopping Rs 16,789 crore on account of frauds in the last fiscal, the finance ministry said in the Lok Sabha on Friday.

    Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
    पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

    X
    We use cookies to ensure that we give you the best experience on our website. This includes cookies from third party social media websites and ad networks. Such third party cookies may track your use on Oneindia sites for better rendering. Our partners use cookies to ensure we show you advertising that is relevant to you. If you continue without changing your settings, we'll assume that you are happy to receive all cookies on Oneindia website. However, you can change your cookie settings at any time. Learn more