• search
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

23 साल से इस लड़की ने नहीं खाया खाना! इस बीमारी के चलते सिर्फ खाती है चिप्स

|
Google Oneindia News

नई दिल्ली, 26 मई: कुछ लोगों की खाने-पीने की कुछ चीजें इतनी पसंद होती हैं कि वे अक्सर उन्हें खाना पसंद करते हैं। लेकिन सोचिए किसी इंसान ने 23 साल से सिर्फ एक ही खाने की चीज खा रहा हो तो। जी हां ब्रिटेन की रहने वाली एक 25 साल की युवती पिछले 23 सालों से सैंडविच और चिप्स खाकर जिंदा है। जब वह दो साल की थी तभी से वह सिर्फ यही दो चीजें खा रही है। उनसे अभी तक कभी पूरा खाना नहीं खाया है।

लंच डिनर में खाती है सिर्फ चिप्स

लंच डिनर में खाती है सिर्फ चिप्स

वेल्स ऑनलाइन ने बताया कि यूनाइटेड किंगडम की रहने वाली ज़ो सैंडलर ने हर दिन अपने जीवन के 23 साल अपने पसंदीदा प्याज और चीज़ वाले चिप्स और सैंडविच खाकर बिताए है। ऐसा नहीं है कि, जो सैंडलर को खाने की चीजों से एलर्जी है। जो जब 2 साल की थी, उन्हें चिप्स और सैंडविच का स्वाद इतना पसंद आया कि, वे उसके अलावा कुछ नहीं खाती थी। जो हर दिन लंच से लेकर डिनर तक केवल प्याज और चीज़ वाले चिप्स और सैंडविच खाती आ रही हैं।

23 सालों से नहीं खाई खाने की कोई दूसरी चीज

23 सालों से नहीं खाई खाने की कोई दूसरी चीज

इस दौरान जो सैंडलर के माता-पिता ने उन्हें खाने की अन्य चीजों के खिलाने की बहुत कोशिश की। लेकिन वे जो को खाने की अन्य चीजें खिलाने में नाकाम रहे। नाश्ते में ड्राई सीरियल और फिर लंच और डिनर में क्रिस्प सैंडविच खाकर उनका गुजारा हो रहा था। कभी-कभी अपने पसंदीदा पनीर और प्याज के कुरकुरे से स्विच करती थी। हालात ये थे कि, जो त्योहारों पर भी सिर्फ अपने पसंदीदी सैंडविच खाना पसंद करती थीं।

इस बीमारी के ग्रस्ति है लड़की

इस बीमारी के ग्रस्ति है लड़की

लेकिन अब उनकी ये आदत धीरे-धीरे बदल रही है। इसकी वजह उनका एक बीमारी का शिकार होना है। उन्हें Multiple Sclerosis नाम की बीमारी हुई है। जिसमें जंक फूड खाना बेहद ही खतरनाक माना जाता है। जिसके बाद उन्हें अब एक थेरिपिस्ट की मदद से अन्य खाने की चीजों का स्वाद दिलाया जा रहा है। हिप्नोथेरपिनिस्ट डेविड किल्मुरी उन्हें नए खाने की ओर रूचि पैदा करने में मदद कर रहे हैं।

कंपनी ने 22 साल की लड़की को दिया अश्लील फिल्में देखने का काम, हर घंटे के लिए मिल रहे 1400 रुपयेकंपनी ने 22 साल की लड़की को दिया अश्लील फिल्में देखने का काम, हर घंटे के लिए मिल रहे 1400 रुपये

नियोफोबिया बीमारी की शिकार है जो सैंडलर

नियोफोबिया बीमारी की शिकार है जो सैंडलर

मिरर की रिपोर्ट के मुताबिक अब ज़ो सैडलर थेरेपी के ज़रिये अपनी डायट को हेल्दी बनाने की कोशिश कर रही हैं। डेविड ने बताया कि, अब कुछ फल और ग्रेवी वाली सब्जियां खाने लगी हैं। 2-2 घंटे सेशन के बाद ही वो नई-नई चीज़ें खाने की कोशिश कर रही हैं। वो इन दिनों फल और सब्जियों के स्वाद को एंजॉय कर रही हैं। खाने की नई चीजें ट्राई कर रहीं जो ने कहा कि, मैं विश्वास नहीं कर सकती कि स्ट्रॉबेरी कितनी अच्छी हैं और मैंने वागामा मिर्च स्क्वीड की भी कोशिश की, जो वास्तव में मसालेदार थी। मैं करी और कई अन्य विभिन्न खाद्य पदार्थों की कोशिश करने के लिए उत्सुक हूं। डेविड ने बताया कि जो एक डिसऑर्डर की शिकार है। जिसे नियोफोबिया भी कहते हैं, इसमें लोग सिर्फ तरह का ही भोजन खाना पसंद करते हैं। उन्हें अन्य खाने की चीजें से डर लगता है।

Comments
English summary
woman who lived on crisp sandwiches for 23 YEARS in uk
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X