• search
भोपाल न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
Oneindia App Download

Bhopal News : दशहरे पर भी दिखी महंगाई की मार, 20% तक महंगे हुए रावण के पुतले

भोपाल के बांस खेड़ी ईटखेड़ी और तुलसी नगर में लगने वाले मार्केट में रावण के पुतले मिलते हैं। इन मार्केटों में 5 से 70 फीट तक के पुतले मिल जाते हैं। जहां पर 500 से लेकर ₹50 हजार तक के पुतले मिल जाएंगे।
Google Oneindia News

भोपाल,4 अक्टूबर। कोरोना महामारी के बाद प्रदेश सहित पूरे देश में दशहरा का पर्व बड़े उत्साह के साथ मनाया जाएगा। लेकिन दशहरे से पहले रावण के ऊंचे-ऊंचे पुतले बनकर तैयार है। मध्य प्रदेश की राजधानी भोपाल में रावण के पुतलों की बिक्री के लिए बाकायदा बाजार लगाया जाता है। भोपाल के बांस खेड़ी ईटखेड़ी और तुलसी नगर में लगने वाले इस मार्केट में रावण के पुतले मिलते हैं। इन मार्केटों में 5 से 70 फीट तक के पुतले मिल जाते हैं। अगर रावण के पुत्रों की कीमत की बात करी जाए तो यहां पर 500 से लेकर ₹50 हजार तक के पुतले बनाए गए हैं।

Bhopal News Inflation on Dussehra, effigies of Ravana became expensive

इस बार पुतलों की डिमांड ज्यादा

नर्मदा भवन स्थित रावण के पुतले बनाने वालों ने बताया कि इस बार रावण के पुत्रों की डिमांड बढ़ी है और एडवांस में ही कई लोगों ने रावण के पुतले बुक कर दिए थे। नर्मदा भवन पर रावण के पुतले ₹5 हजार से लेकर ₹30 हजार तक के उपलब्ध है। उन्होंने बताया कि महंगाई बढ़ने के कारण इस बार रावण के पुत्रों का भी दाम बढ़ गया है। क्योंकि इनको बनाने में काफी खर्चा होता है।

20% तक महंगे हुए रावण के पुतले

रावण के पुतले बनाने वाले प्यारे भाई ने बताया कि रावण को बनाने के लिए बांस, लकड़ी और कई प्रकार की सामग्रियों की आवश्यकता होती है। इन सब पर दाम काफी हद तक बढ़ चुके हैं। इसलिए रावण के पुतले 20 परसेंट 1 महीने हो गए। हालांकि हमने अपना लेबर रेट ज्यादा नहीं बढ़ाया है। वरना ये दाम और ज्यादा बढ़ सकते थे। उन्होंने बताया कि बारिश होने की संभावना के चलते हम एक कम कीमत पर पुतले बेचना पड़ रहे हैं।

भोपाल में कई जगहों पर रावण के पुतले का दहन किया जाता है। नार्थ टीटी नगर स्थित दशहरा मैदान में मुख्यमंत्री और राज्यपाल द्वारा रावण के पुतले का दहन किया जाता है। इसके अलावा विट्ठल मार्केट में भी रावण के बड़े पुतले का दहन किया जाता है। इस बार दशहरे पर बंदिशे नहीं है ऐसे में दशहरा उत्सव समिति या रावण दहन की तैयारी में जुटी हुई है। कोरोना वायरस के चलते 2 साल से रावण दहन का कार्यक्रम बड़े स्तर पर नहीं मनाया जा रहा था। पिछले साल तो कई कार्यक्रमों में रामलीला का मंचन ही नहीं किया गया था। वही मैदान या हॉल की कैपेसिटी से 50% लोग ही शामिल हो पाए थे।

ये भी पढ़ें : Adipurush teaser : 'दृश्य नहीं हटाए तो...,' फिल्म आदिपुरुष के निर्माता को MP के ...ये भी पढ़ें : Adipurush teaser : 'दृश्य नहीं हटाए तो...,' फिल्म आदिपुरुष के निर्माता को MP के ...

Comments
English summary
Bhopal News Inflation on Dussehra, effigies of Ravana became expensive
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X