• search
इलाहाबाद / प्रयागराज न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी व सांसद वीरेन्द्र सिंहा समेत 7 के खिलाफ जारी हुआ वारंट

|

Prayagraj News, प्रयागराज। प्रयागराज की एमपी-एमएलए स्पेशल कोर्ट ने अलग-अलग मुकदमों की सुनवाई के दौरान कोर्ट में हाजिर ना होने पर कई माननीयों के विरूद्ध सख्त रूख अख्तियार किया है। जिनमें केन्द्रीय मंत्री, विधायक और सांसद शामिल है। स्पेशल कोर्ट ने केन्द्रीय मंत्री व भाजपा नेता नितिन गडकरी, भदोही के भाजपा सांसद वीरेन्द्र सिंह मस्त समेत 7 लोगों के विरूद्ध वारंट जारी कर अगली सुनवाई पर पेश होने को कहा है। हालांकि सांसद वीरेन्द्र सिंह को दो मामलों में पेश होने के लिए वारंट जारी किया गया है। इस मुकदमे की अगली सुनवाई 26 मार्च को होगी। मुकदमों पर सुनवाई स्पेशल कोर्ट के जज पवन कुमार तिवारी कर रहे हैं।

warrent against central minister nitin gadkari and mp virendra singh

क्या है मामला

वर्ष 2014 में लोकसभा चुनाव के दौरान भदोही से वीरेन्द्र सिंह भाजपा के प्रत्याशी थे, उनके समर्थन में प्रचार प्रसार करने के लिए भाजपा के दिग्गज नेता नितिन गडकरी का भी कार्यक्रम तय हुआ था। 28 अप्रैल को नितिन गडकारी पूर्व निर्धारित कार्यक्रम के अनुसार जनसभा स्थल पहुंचे, लेकिन वहां उन्हें पहुंचने में काफी देर हो गई। इसके बाद उनका कार्यक्रम प्रशासन द्वारा ली गयी अनुमति की समयसीमा से आगे बढ़ गया। इस बावत तत्कालीन मजिस्ट्रेट ने जनसभा रोकने के लिए कहा, लेकिन नितिन गडकरी की जनसभा चालू रही। आचार संहिता उल्ल्ंघन करने के मामले में नितिन गडकरी, वीरेन्द्र सिेंह आदि पर 28 अप्रैल, 2014 की ही सुरियांवा थाने में मुकदमा दर्ज किया गया। इसी मामले की सुनवाई इस समय प्रयागराज की सांसद विधायक स्पेशल कोर्ट में चल रही है। जिसमें शामिल न होने पर दोनों भाजपा नेताओं को हाजिर होने के लिये वारंट जारी किया गया है। हालांकि यह वारंट जमानतीय है। अगली सुनवाई 26 मार्च को होगी।

warrent against central minister nitin gadkari and mp virendra singh

घेराव मामले गैर जमानीयत वारंट

वहीं, एक अन्य मामले में भी सांसद वीरेन्द्र सिंह, मंत्री उपेन्द्र तिवारी समेत 6 लोगों के विरूद्ध भी स्पेशल कोर्ट ने वारंट जारी किया है। इन पर आरोप था कि बलिया में 7 अगस्त 2010 को एक युवती गायब हो गयी थी। युवती को न्याय दिलाने व उसके समर्थन में वीरेन्द्र सिंह व उनके सहयोगियों ने प्रदर्शन शुरू कर दिया था। 16 सितंबर को वीरेन्द्र सिंह आदि ने डीएम से इस मामले की शिकायत कर ज्ञापन सौंपने पहुंचे और इसी दौरान मामला बिगड़ गया। प्रदर्शनकारियों ने जमकर हंगामा काटा और गाली गलौज के साथ धक्कामुक्की और हाथापाई भी हुई। माहौल बिगडने व पुलिस से झड़प को लेकर एलआईयू के इंस्पेक्टर अशीष पाल ने वीरेन्द्र सिंह समेत प्रदेश सरकार के मंत्री उपेन्द्र तिवारी, विजय गुप्ता, रंगनाथ मिश्र, देवेंद्र यादव और पूर्व विधायक अनिल कुमार आदि के विरूद्ध मुकदमा दर्ज कराया। यह मुकदमा अब ट्रांसफर होकर प्रयागराज की स्पेशल कोर्ट आया हुआ है। जिस पर सुनवाई के दौरान सभी आरोपीगण को हाजिर होने के लिये नोटिस जारी की गयी थी, लेकिन आरोपीगण नहीं आये तो इनके विरूद्ध गैर जमानती वारंट जारी किया गया है। इस मुकदमे की अगली सुनवाई 23 मार्च को होगी।

ये भी पढ़ें:-लखनऊ की 'डकैत' पुलिस ने कारोबारी से लूटे 1.85 करोड़, दो दारोगा समेत चार अरेस्ट

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
warrent against central minister nitin gadkari and mp virendra singh
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X