• search
अलीगढ़ न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

अलीगढ़ में शुरु हुआ भाजपा प्रत्याशी सतीश गौतम का विरोध, कल्याण सिंह के घर बाहर फूंका पुतला

|

अलीगढ़। लोकसभा चुनाव 2019 की तारीखों का ऐलान होने के साथ ही भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) ने अपने प्रत्याशियों की पहली सूची गुरुवार शाम को जारी कर दी है। इस सूची में अलीगढ़ लोकसभा सीट से सतीश गौतम को अपना उम्मीदवार बनाया है। अब भाजपा के लिए चिंता की बात यह है कि सतीश गौतम का पार्टी के कार्यकर्ताओं ने ही विरोध शुरू कर दिया है। बता दें कि शनिवार को कार्यकर्ताओं ने राजस्थान के राज्यपाल कल्याण सिंह के आवास के सामने विरोध कर अपनी नाराजगी जतायी है।

कल्याण सिंह के घर के बाहर फूंका पुतला

कल्याण सिंह के घर के बाहर फूंका पुतला

भाजपा कार्यकर्ताओं ने इस दौरान सतीश गौतम का पुतला भी फूंका। इस दौरान राजस्थान के गवर्नर व पूर्व मुख्यमंत्री कल्याण सिंह अपने आवास के अंदर ही मौजूद रहे। सुबह से शुरू हुआ हंगामा दोपहर तक जारी था। बता दें कि कल्याण सिंह मौजूदा सांसद सतीश गौतम को टिकट का विरोध कर रहे थे और उन्होंने अपने रिश्तेदार ठा.श्यौराज सिंह को टिकट की पैरोकारी की थी। सिंह ने दबे स्वर में ही सही लेकिन कहा है कि पार्टी ने ऐसे शख्स को टिकट दिया है जो कभी अतरौली गए ही नहीं। ना ही उन्होंने कोई काम कराया है, इसे लेकर पूरे जिले में काफी असंतोष है। कल्याण सिंह ने सतीश गौतम का विरोध कर रहे बीजेपी कार्यकर्ताओं को इंतजार करने को कहा है।

बाहर से आए लोग कर रहे है विरोध

बाहर से आए लोग कर रहे है विरोध

वहीं उम्मीदवार सतीश गौतम ने कहा कि बाहर से आए हुए लोग माहौल बनाने का प्रयास कर रहे हैं। कहीं किसी तरह का कोई विरोध नहीं है। क्षेत्र की जनता मेरे साथ है। बाबूजी कल्याण सिंह मेरे साथ हैं वो ऐसा कुछ मेरे लिए बोल ही नहीं सकते। बाबूजी से कल मिलने गया था पर दांत में दर्द की वजह से मुलाक़ात नहीं हो पाई। सारे बीजेपी के कार्यकर्ता मेरे साथ हैं।

कौन है सतीश गौतम

कौन है सतीश गौतम

सतीश गौतम अलीगढ़ के गोंडा इलाके के रहने वाले हैं। सतीश गौतम ने नोएडा में राजनीति की है। बीजेपी में कई पदों पर रहने के बाद 2014 में पार्टी ने उन्हें अलीगढ़ से उम्मीदवार बनाया था। 2014 में मोदी लहर में सतीश गौतम ने 2 लाख से ज्यादा वोटों से जीत हासिल की थी। माना जाता है कि सतीश गौतम को कल्याण सिंह का समर्थन हासिल था। लेकिन पिछले 5 सालों में हालात बदले हैं। दोनों नेताओं के बीच पैदा हुई दूरी के बाद अंदाजा लगाया जा रहा था कि सतीश गौतम का पत्ता इस बार कट सकता है, लेकिन संगठन से नजदीकी कायम रख सतीश गौतम एक बार फिर से सांसदी का टिकट लेने में कामयाब रहे।

ये भी पढ़ें:-कानपुर: ऐन वक्त पर प्रियंका का रोड शो हुआ रद्द, स्मृति ईरानी से नहीं हो सका सामना

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
bjp workers protest against candidate satish gautam
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X