वजूद बचाने को लेकर मेंढक भी खेलते है खूनी खेल

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi
toad
मेलबर्न। एक नये अध्ययन के मुताबिक समुद्री मेंढक अपना वजूद बचाने के लिए अपनी बिरदारी के अन्य मेंढकों के खिलाफ एक खास तरह का जहरीला रसायन उगलते हैं क्योंकि उनके बीच भी अस्तित्व की लड़ाई होती है। अपना वजूद बचाने के लिए मेंढक ले लेते हैं एक दूसरे की जान सिडनी विश्वविद्यालय के जीववैज्ञानियों ने पाया कि यह समुद्री मेंढक जल में एक खास तरह का रसायन उगलकर एक दूसरे से संपर्क साधते हैं और अपना वजूद बचाने के लिए एक दूसरे की जान ले लेते हैं।

इस तथ्य से शहरी इलाकों में उनकी संख्या को नियंत्रित करने में मदद मिलेगी। अध्ययन दल के प्रमुख जीववैज्ञानियों रिक शाइन ने बताया कि समुद्री मेंढक रसायन उगलते हैं जो जल के जरिए अन्य मेंढकों तक पहुंचता है और इस आधार पर वे निर्णय करते हैं। प्रो. शाइन ने बताया कि मेंढक अपने विकास के चरण में यदि बार - बार इन रसायनों को ग्रहण करते हैं तो संभवत: तनाव से उनकी मौत हो जाती है।

इसके अलावा उनके ताजा अंडों से एक खास तरह का रसायन निकलता है जो दूसरे मेंढको को बीमार कर देता है और उनके अंडों को नष्ट कर देता है। इस आकर्षणकारी रसायन का बड़ा फायदा यह है कि भविष्य के प्रतिद्वंदियों का सफाया कर देता है क्योंकि एक समुद्री मेंढक ही दूसरे मेंढक का कट्टर दुश्मन होता है। उन्होंने बताया कि हम इन रसायनों को प्राप्त कर सकते हैं और मेंढकों को फंसाने के लिए जाल बुन सकते हैं।

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Toads kill each other for their own survival Melbourne Cane toad tadpoles ensure their own survival.

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.