....

Posted By:
Subscribe to Oneindia Hindi
सदस्य देशो ने जहां बाजार में जारी संकट से उबरने क े उपयों की योजना बनायी वहीं अमरीका के वित्त मंत्री हेनरी पालसन ने वित्त बाजार की मौजूदा उथल पुथल एक गंभीर मसला बताया 1श्री पालसन ने उम्मीद जतायी कि वित्त बाजार मौजूदा संकट के दौर से उबर जाएगा लेकिन अस्थिरता जारी रह सकती है

इटली के वित्त मंत्री टोमासो पडोगा शिआेपा ने जी. सात की पिछली बैठक का जिक्र करते हुए कहा कि ..इस समय अक्तूबर से कहीं ज्यादा निराशा और चिंंता का माहौल है 1..प्रांस क ी वित्त मंत्री किस्टीन लागार्डे ने रिण बाजार मे संकट का मुद्दा को फिलहाल टालने के फै सले पर खुशी जाहिर की 1जर्मनी के वित्त मंत्री पीर स्टेनब्रुरेक ने कहा कि बैकों ने ब्याज दरो में कटौती की है क्योंकि उनका घाटा 100 अरब डालर तक पहुंच गया है1उन्होंने आशंका जतायी कि यह घाटा 400 अरब डालर तक पहंुच सकता है

जी .सात देशो ने बाजार के कामकाज को सामान्य रूप से संचालित करने के लिए बैंकों से अपने घाटों तथा बैलेंस शीट का पूरी तरह खुलासा करने को कहा

अमरीका .क नाडा .जापान .प्रांस .बि्रटेन .इटली और जर्मनी समूह सात के सदस्य देश हैं

नीलिमा राम2014रायटर नीलिमा

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें

Oneindia की ब्रेकिंग न्यूज़ पाने के लिए
पाएं न्यूज़ अपडेट्स पूरे दिन.

X