• search
क्विक अलर्ट के लिए
अभी सब्सक्राइव करें  
क्विक अलर्ट के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  
For Daily Alerts

31 अक्टूबर से 21 दिन के लिए बुध हो रहा है वक्री, जानिए क्या होगा आप पर असर

By Pt. Gajendra Sharma
|

नई दिल्ली। मानसिक शक्ति, बौद्धिक कौशल, निर्णय लेने की क्षमता, ज्ञान और बुद्धि का प्रतिनिधि ग्रह बुध 31 अक्टूबर 2019 को रात्रि में 9 बजकर 11 मिनट पर वृश्चिक राशि में वक्री हो रहा है। यह ग्रह 21 नवंबर 2019 तक वक्री रहेगा। अपने 21 दिन के वक्रत्व काल में बुध विभिन्न राशियों पर अपना शुभ-अशुभ असर दिखाएगा। बुध वक्री गति करते हुए 7 नवंबर को पिछली राशि तुला में प्रवेश करेगा। किसी भी व्यक्ति की जन्मकुंडली में बुध पर यदि अशुभ ग्रहों की दृष्टि होती है तो वह व्यक्ति के लिए अशुभ फल देने लगता है और यदि शुभ ग्रहों की दृष्टि है तो बुध का शुभ प्रभाव जातक को प्राप्त होता है।

शारीरिक और मानसिक रूप से कष्टपूर्ण स्थिति

शारीरिक और मानसिक रूप से कष्टपूर्ण स्थिति

  • मेष: मेष राशि के लिए बुध अष्टम भाव में वक्री हो रहा है। इस घर में बुध के वक्री होने के कारण व्यक्ति शारीरिक और मानसिक रूप से कष्टपूर्ण स्थिति में आ सकता है। इस दौरान आपकी निर्णय क्षमता प्रभावित होगी और आपसे अनजाने में कुछ ऐसे फैसले हो जाएंगे जो आपको बाद में अत्यंत कष्टदायी होंगे। इसलिए बुध के वक्रीकाल में जो भी कार्य करें सोच-समझकर करें।
  • वृषभ: वृषभ राशि के लिए बुध सप्तम भाव में वक्री हो रहा है। यह इस राशि के जातकों को शुभ और अशुभ दोनों तरह के प्रभाव देगा। दांपत्य जीवन में जिन लोगों का समय विवादित चल रहा है, वे आपसी सूझबूझ और सामंजस्य से अपनी गाड़ी पटरी पर लाने में कामयाब होंगे। साथ ही जो लोग समझदारी से काम नहीं लेंगे उन्हें वैवाहिक जीवन में परेशानियां आएंगी।
  • मिथुन: इस राशि के लिए बुध छठे भाव में वक्री होगा। यह इस राशि के जातकों के लिए शुभ साबित होगा। इन लोगों को रोग मुक्ति होगी। बीमारियों पर हो रहे खर्च में कमी आएगी और पैसों की बचत होगी। आर्थिक स्थिति के लिए बुध का यह गोचर काल शुभ रहेगा। इस राशि के विद्यार्थियों के लिए भी समय उत्तम रहेगा। प्रतियोगी परीक्षाओं में सफलता मिलेगी।
  • कर्क: कर्क राशि के लिए बुध पंचम स्थान में वक्री होगा। इस राशि के निःसंतान दंपतियों की गोद भर सकती है। जो लोग वैवाहिक सुख की तलाश में है उनकी इच्छा पूरी हो सकती है। चूंकि यह चंद्र की राशि है इसलिए बुध के वक्री होने से कर्क राशि के जातकों की निर्णय क्षमता मजबूत होगी और वे अपने लिए उचित मार्ग का चयन कर सकेंगे। वक्री बुध के कारण आर्थिक स्थिति में उतार-चढ़ाव बना रहेगा।
इन राशियों पर पड़ेगा प्रभाव

इन राशियों पर पड़ेगा प्रभाव

  • सिंह: सिंह राशि के जातकों के लिए बुध चतुर्थ स्थान में वक्री हो रहा है। यह स्थान सुख से संबंधित है, इसलिए बुध का वक्री होना इस राशि के लिए ठीक नहीं कहा जा सकता है। आपके भौतिक सुख-सुविधाओं में कमी आएगी। दांपत्य जीवन प्रभावित होगा। व्यापारियों को आर्थिक हानि की आशंका है। नौकरीपेशा लोगों को बेवजह की भागदौड़ होगी।
  • कन्या: कन्या राशि के लिए बुध तृतीय स्थान में वक्री होगा। यह भाई-बंधुओं से संबंधित स्थान है। परिवार में संपत्ति को लेकर वाद-विवाद उभर सकता है। मन में नकारात्मक विचारों की अधिकता आएगी इसलिए इस दौरान बड़े फैसले लेते समय अनुभवी लोगों की सलाह अवश्य लें। अपने वाणी और क्रोध पर संयम रखें। कोशिश करें किसी भी विवादित स्थिति से दूर रहें।
  • तुला: तुला राशि के लिए बुध द्वितीय स्थान यानी धन स्थान में वक्री हो रहा है। इस भाव में आपकी बौद्धिक क्षमता मजबूत होगी। आपके सोचने-समझने, निर्णय लेने की क्षमता में वृद्धि होने से विभिन्न क्षेत्रों में विशेष उपलब्धियां हासिल करेंगे। आर्थिक स्थिति में मजबूती आएगी। नौकरीपशा लोगों को लाभ प्राप्त होगा। व्यापारियों को बिजनेस में लाभ, तरक्की मिलेगी।
  • वृश्चिक: बुध इसी राशि में वक्री हो रहा है। इसलिए सबसे ज्यादा इसी राशि को प्रभावित करेगा। यह तन स्थान है, इसलिए ध्यान रखें जल्दबाजी में कोई फैसला नहीं लेना है, वरना आगे चलकर यही फैसला आपके लिए दुखदायी साबित होगा। यदि कोई निर्णय करना है तो परिवार के अनुभवी लोगों की सलाह जरूर लें। शारीरिक रूप से अस्वस्थ हो सकते हैं।
इन लोगों के आत्मविश्वास में वृद्धि होगी

इन लोगों के आत्मविश्वास में वृद्धि होगी

धनु: इस राशि के लिए बुध द्वादश स्थान में वक्री होगा। आपके आत्मविश्वास में वृद्धि होगी। कैसी भी मुश्किल परिस्थिति आए आप उसका सामना मजबूती से कर सकेंगे। इस दौरान आप शत्रुओं को परास्त करने में कामयाब होंगे। कोट-कचहरी के मामलों में जीत हासिल होगी। खर्च पर लगाम लगेगी और पैसों की बचत करने में कामयाब होंगे।

मकर: मकर राशि के लिए बुध एकादश स्थान में वक्री होगा। मानसिक और शारीरिक रूप से मजबूती प्राप्त होगी। आयु में वृद्धि होगी। धन का संचय होगा। नए कार्यों में लाभ प्राप्त होगा। अपने और परिवार के हित में कोई महत्वपूर्ण निर्णय लेंगे जो जीवन में आपके लिए सुखद साबित होगा। विद्यार्थियों के लिए समय अच्छा रहेगा। परीक्षाओं में अच्छी सफलता के योग हैं।

कुंभ: कुंभ राशि के लिए बुध दसवें स्थान में वक्री होगा। यह कार्य स्थान है इसलिए इस राशि के जातकों के कार्य में वृद्धि, तरक्की होगी। नौकरीपेशा व्यक्तियों को प्रमोशन के पूरे चांस हैं, व्यापारियों को कार्य विस्तार में सफलता मिलेगीे। पैतृक संपत्ति को लेकर चल रहे विवादों का निपटारा होगा। माता-पिता का विशेष सहयोग मिलेगा। कड़ी मेहनत से किस्मत के दरवाजे खुल जाएंगे।

मीन: मीन राशि के लिए नवम स्थान में बुध वक्री हो रहा है। यह धर्म और भाग्य स्थान है। बौद्धिक चतुराई से कोई महत्वपूर्ण कामयाबी हासिल होने के योग बन रहे हैं। अपनी तार्किक क्षमता से शत्रुओं को परास्त कर पाएंगे। आर्थिक कामयाबी मिलने के संकेत हैं, लेकिन ध्यान रहे बड़ा निवेश करते समय सावधानी रखें, वरना किसी प्रकार की हानि भी हो सकती है।

यह पढ़ें:28 अक्टूबर से 3 नवंबर 2019 तक का राशिफल

English summary
Mercury retrograde 2019 begins on October 31, at 27° Scorpio and ends on November 20, at 11° Scorpio.
देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X