पढ़िए, कैसे पकड़ में आया खूंखार आतंकी हरमिंदर सिंह मिंटू, अजीत डोवाल ने संभाली कमान

अपनी पहचान छुपाने की हरमिंदर सिंह मिंटू ने बहुत कोशिश की। लेकिन आखिरकार हजरत निजामुद्दीन स्टेशन पर पुलिस की नजर से नहीं बच पाया।

Subscribe to Oneindia Hindi

दिल्ली। रविवार की सुबह पंजाब के नाभा में किसी फिल्म के प्लॉट की तरह महज 9 मिनट के अंदर गोलियों की बौछार के बीच हाई सिक्योरिटी जेल से जब 6 खूंखार अपराधी फरार हुए तो इस घटना के बाद राज्य सरकार और पुलिस ही नहीं, देश की खुफिया एजेंसियां भी हरकत में आ गईं।

सर्च ऑपरेशन में तब बड़ी सफलता मिली जब खालिस्तान लिबरेशन फोर्स के चीफ हरमिंदर सिंह मिंटू को दिल्ली में पकड़ा गया। आइए आपको बताते हैं, हरमिंदर सिंह मिंटू को दबोचने में पुलिस को कामयाबी कैसे मिली?

Read Also: नाभा जेलब्रेक: पढ़िए, कितना खूंखार है खालिस्तानी चीफ हरमिंदर सिंह मिंटू?

अपराधियों को पकड़ने के लिए ऑपरेशन

जेल से भागे हुए अपराधियों को पकड़ने के लिए एक बड़ा सर्च ऑपरेशन शुरू हुआ जिसमें पंजाब, राजस्थान, हरियाणा व दिल्ली की पुलिस के साथ, खुफिया एजेंसियां और देश के राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल शामिल हुए।

पुलिस को यूपी में मिला जेलब्रेक का मास्टरमाइंड

सर्च ऑपरेशन के लिए पुलिस ने आसपास के राज्यों में हर जगह नाकाबंदी कर दी। यूपी पुलिस ने कैराना में जेलब्रेक करके भाग रहे मास्टरमाइंड परमिंदर सिंह पिंदा को धर दबोचा। लेकिन उसकी एसयूवी में उसके सिवा कोई और नहीं था।

कैथल में नाकाबंदी तोड़कर भागी एक कार

पुलिस को एक कार के बारे में पता चला जो कैथल में नाकाबंदी तोड़कर निकल गई थी। पुलिस को शक था कि नाभा जेलब्रेक में इस कार का इस्तेमाल किया गया था।

बाद में कैथल में लावारिस हालत में एक कार मिली। इसके बाद पुलिस ने यह अनुमान लगाया कि खालिस्तानी आतंकी हरमिंदर सिंह मिंटू और बाकी 5 गैंगस्टर्स कुरुक्षेत्र के आसपास कहीं थे।

एसयूवी से उतरकर हरमिंदर पहुंचा दिल्ली

पुलिस को पता चला कि नाकाबंदी तोड़कर निकले जिस एसयूवी को हरियाणा पुलिस ने देखा था, उससे आतंकी हरमिंदर सिंह मिंटू रास्ते में कहीं उतर गया था। एसयूवी से उतरने के बाद हरमिंदर ने आगे की यात्रा बस से की। दो-तीन बस बदलकर वह दिल्ली के हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन पहुंच गया।

हरमिंदर ने दिल्ली में अपने रिश्तेदारों को किया फोन

दिल्ली के सुभाष नगर के रिश्तेदारों को हरमिंदर सिंह मिंटू ने फोन किया तो पुलिस के हाथ बड़ा सुराग लगा।

जब तक हरमिंदर कॉल करता रहा, तब तक आईबी ने उसके कॉल लोकेशन को ट्रेस किया। उसके बाद राष्ट्रीय सुरक्षा सलाहकार अजीत डोवाल के निर्देशों पर काम कर रही पुलिस की ज्वाइंट टीम ने उसे हजरत निजामुद्दीन स्टेशन पर दबोच लिया।

टिकट काउंटर पर मिला हरमिंदर

दिल्ली पुलिस के अनुसार, सोमवार की सुबह हजरत निजामुद्दीन रेलवे स्टेशन के टिकट काउंटर पर हरमिंदर खड़ा था। उसकी दाढ़ी बेतरतीब ढंग से कटी हुई थी और वह इधर-उधर बार-बार देख रहा था। उसने पहचान छुपाने और आम आदमी की तरह दिखने की पूरी कोशिश की थी।

पुलिस टीम हरमिंदर की फोटो लिए उसे स्टेशन पर तलाश रही थी। काउंटर के पास हरमिंदर की हरकतों को देखकर पुलिस को उस पर शक हुआ।

पनवेल भागने की तैयारी में था हरमिंदर

पुलिस की पूछताछ में हरमिंदर ने बताया कि वह रविवार की रात में दिल्ली पहुंचा था और उसने पनवेल तक की टिकट ली थी। वहां से उसने गोवा जाने की प्लानिंग की थी जिसके बाद वह मलेशिया होते हुए जर्मनी जानेवाला था।

Read More: नाभा जेलब्रेक: पुलिस फायरिंग में मारी गई नेहा शर्मा की दर्दनाक कहानी

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
Chief of Khalistan Liberation Force Harminder Singh Mintoo nabbed by police on Hazrat Nizamuddin Railway Station in Delhi.
Please Wait while comments are loading...