• search
वाराणसी न्यूज़ के लिए
नोटिफिकेशन ऑन करें  

लॉकडाउन के बीच ग्राहक बनकर बाजार पहुंचे DM और SSP, नहीं पहचान पाए दुकानदार और कर बैठे ये बड़ी गलती

|

वाराणसी। लॉकडाउन के बीच मुनाफाखोर कालाबाजारी से बाज नहीं आ रहे हैं। ऐसे लोगों की धर-पकड़ के लिए प्रशासन मुहिम चल रहा है। सोमवार को उत्तर प्रदेश के वाराणसी में कालाबाजारी की शिकायत पर जिलाधिकारी और एसएसपी ग्राहक बनकर बाजार पहुंच गए। इस दौरान उन्होंने कुछ सामान खरीदा तो कई दुकानदार निर्धारित रेट से अधिक पर सामान बेच रहे थे। डीएम और एसएसपी के आदेश पर इन दुकानदारों को हिरासत में ले लिया गया है।

traders arrested for black marketing during lockdown in varanasi

डीएम और एसएसपी ने बताया कि वह चेतगंज थाना क्षेत्र के दलहट्टा, चेतगंज, मंसाराम फाटक आदि इलाकों में गए थे। इस दौरान कई दुकानदार निर्धारित मुल्य से ज्यादा दाम पर सामान बेच रहे थे। पुलिस ने कई दुकानदारों को हिरासत में लिया है। अब उनके खिलाफ कार्रवाई की जा रही है। अधिकारियों ने कहा कि इस आपदा के समय जब लोग एक दूसरे की यथासंभव मदद के लिए आगे आ रहे हैं तब इस तरह का कृत्य बहुत ही आपत्तिजनक है। आगे भी जो दुकानदार इस तरह से निर्धारित मूल्य से अधिक दाम पर सामान का विक्रय करेगा वो जेल जाएगा।

बता दें, वाराणसी जिला प्रशासन ने कालाबाजारी को रोकने के लिए रेट लिस्ट जारी की थी। इसमें आटा 31 से 33 रुपए किलो, अरहर दाल 86 से 92 रुपए किलो, सेब 65 से 85 रुपए किलो, संतरा 35-45 रुपए किलो, सरसों तेल 112 से 116 रुपए किलो, चीनी 38 से 40 रुपए किलो बेचने का फरमान जारी किया गया था। इसके बावजूद कई जगहों पर कालाबाजारी की शिकायत आ रही है।

वाराणसी: घास खा रहे बच्चों को प्रशासन ने भेजी मदद, भेजा अतरिक्त राशन

देश-दुनिया की ताज़ा ख़बरों से अपडेट रहने के लिए Oneindia Hindi के फेसबुक पेज को लाइक करें
English summary
traders arrested for black marketing during lockdown in varanasi
For Daily Alerts
तुरंत पाएं न्यूज अपडेट
Enable
x
Notification Settings X
Time Settings
Done
Clear Notification X
Do you want to clear all the notifications from your inbox?
Settings X
X